Wednesday, February 8, 2023

Bird Flu : केरल में फैला बर्ड फ्लू, संक्रमण से एक ही दिन में 1800 मुर्गियों की मौत

Bird Flu : केरल के कोझिकोड जिले में बर्ड फ्लू का कहर देखने को मिला है। बता दें कि बुधवार को एक सरकारी पोल्ट्री फार्म में बर्ड फ्लू संक्रमण से 1800 मुर्गियों की मौत हो गई है। यह पोल्ट्री फार्म जिला पंचायत द्वारा संचालित किया जाता है। सूत्रों के हवाले से खबर आई है कि मृत मुर्गियों में H5N1 वैरिएंट पाया गया है। केरल की पशुपालन मंत्री जे चिंचु रानी ने अधिकारियों को तुरंत संक्रमण की रोकथाम के लिए केंद्र सरकार की गाइडलाइन और प्रोटोकोल के तहत जरूरी कदम उठाने के निर्देश दिए हैं।

शुरुआती जांच में यह बर्ड फ्लू का संक्रमण लग रहा है लेकिन पुष्टि के लिए सैंपल भोपाल की नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हाई सिक्योरिटी एनिमल डिजीज लैब में भेजे जाएंगे। जिस पोल्ट्री फार्म में बर्ड फ्लू का संक्रमण फैला है, उसमें करीब 5000 मुर्गियां हैं, जिनमें से 1800 संक्रमण के चलते मर गई हैं। मरी मुर्गियों को जिला प्रशासन की देखरेख में विभिन्न विभागों के समन्वय के साथ सुरक्षित दफनाने के निर्देश दिए गए हैं।

उल्लेखनीय है कि केरल के तिरुवनंतपुरम जिले में भी हाल ही में बर्ड फ्लू से बचाव के लिए दो गांवों में करीब 3000 मुर्गियों को मारा गया था। एक निजी पोल्ट्री फार्म में कुछ मुर्गियों के बर्ड फ्लू से संक्रमित होने की आशंका थी, जिसके बाद पशुपालन विभाग अलर्ट हुआ और संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए मुर्गियों को मारा गया। केरल के स्वास्थ्य विभाग ने भी संक्रमण की रोकथाम और प्रसार को रोकने के लिए निर्देश जारी कर दिए हैं। बीते साल भी केरल में बर्ड फ्लू के संक्रमण के चलते बड़ी संख्या में पक्षियों को मारा गया था।

काबुल में विदेश मंत्रालय के बाहर हुआ बम विस्‍फोट, हमले में 20 लोगो की मौत

बर्ड फ्लू एक बेहद संक्रामक बीमारी है, जो घरेलू और जंगली पक्षियों, दोनों को प्रभावित करती है। इसका संक्रमण मनुष्यों में भी होता है लेकिन अभी तक इंसानों में यह काफी कम दिखाई दिया है। साल 1996 में पहली बार बर्ड फ्लू की पहचान हुई और साल 2005 में इसका कहर दुनिया के कई देशों में देखा गया। साल 2014 में बर्ड फ्लू के संक्रमण से बचने के लिए करीब 4 करोड़ पक्षियों को मारा गया था। इंसानों को अधिकतर संक्रमण बर्ड फ्लू के H7N9 और H5N1 स्ट्रेन से हुए हैं।

छत्तीसगढ़ : नगरीय निकाय उपचुनाव की काउंटिंग जारी…12 जिलों के 14 शहरों में 15 पार्षदों का चुनाव

माना जाता है कि केरल में हर साल सितंबर से दिसंबर के बीच कई प्रवासी पक्षी आते हैं, उन्हें ही राज्य में बर्ड फ्लू फैलने का कारण माना जाता है। खासकर केरल का कुट्टनाड मुर्गीपालन के लिए जाना जाता है, वहीं पर प्रवासी पक्षी ज्यादातर आते हैं। केरल में बड़े पैमाने पर मुर्गी पालन किया जाता है और यहां करीब 4 लाख पोल्ट्री फार्म हैं। यही वजह है कि केरल में बर्ड फ्लू संक्रमण के मामले ज्यादा देखने को मिलते हैं।

spot_img

AAJ TAK LIVE

ABP LIVE

ZEE NEWS LIVE

अन्य खबरे
Advertisements
यह भी पढ़े
Live Scores
Rashifal
Panchang