Monday, January 30, 2023

पीएम की मां के निधन पर CM ने जताया दुख,भूपेश बघेल ने लिखा- मां का जाना जीवन के मुख्य आधार का ढहने जैसा

रायपुर 30 दिसंबर 2022: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मां का 100 वर्ष की आयु में निधन हो गया। देशभर में शोक की लहर है। इस बीच ट्विटर पर इस घटना के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए, छत्तीसगढ़ के CM भूपेश बघेल ने लिखा है – माननीय प्रधानमंत्री जी को मातृ शोक का दुखद समाचार प्राप्त हुआ। मां का जाना जीवन से मुख्य आधार स्तंभ के ढह जाने जैसा होता है। एक ऐसी क्रिया जिसकी शून्यता सदैव अनुभव होती है। इस शोक की घड़ी में ईश्वर नरेंद्र मोदी जी, उनके परिवारजनों को साहस और माता जी को श्री चरणों में स्थान दे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मां हीराबेन की तबीयत कुछ दिनों से ठीक नहीं थी। बुधवार को तबीयत बिगड़ने पर हीराबेन को अहमदाबाद के यूएन मेहता अस्पताल में भर्ती किया गया था। वहीं उन्होंने अंतिम सांस ली। PM मोदी अक्सर मां से मिलने पहुंचते थे। दोनों की गर्मजोशी से मुलाकातों की तस्वीरें दुनियाभर में पसंद की जाती थीं।

डॉ रमन ने जताया दुख

प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने भी दुख जताते हुए लिखा- मां जब भी छोड़ कर जाती हैं, सारा घर सूना हो जाता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की माता हीराबेन निधन अत्यंत भावुक क्षण है। ईश्वर से प्रार्थना है कि उन्हें बैकुंठ धाम में स्थान और मोदी जी समेत सभी परिजनों को इस कठिन समय में धैर्य प्रदान करें।

PM ने मां के लिए लिखा…

प्रधानमंत्री मोदी ने अपनी मां के निधन पर ट्वीट कर कहा है, ”शानदार शताब्दी का ईश्वर चरणों के में विराम… मां में मैंने हमेशा उस त्रिमूर्ति की अनुभूति की है, जिसमें एक तपस्वी की यात्रा, निष्काम कर्मयोगी का प्रतीक और मूल्यों के प्रति प्रतिबद्ध जीवन समाहित रहा है.” मैं जब उनसे 100वें जन्मदिन पर मिला तो उन्होंने एक बात कही थी, जो हमेशा याद रहती है- काम करो बुद्धि से और जीवन जियो शुद्धि से।

मेहसाणा में जन्मीं थीं हीराबेन

हीराबेन का जन्म मेहसाणा ज़िले के विसनगर में हुआ था। यह वडनगर के क़रीब है। हीराबेन के जन्म के कुछ दिनों बाद ही उनकी मां यानी पीएम की नानी की मौत हो गई थी। एक शताब्दी पहले आई वैश्विक महामारी में उनकी मौत हुई थी।

पीएम मोदी ने इसी साल 18 जून को बताया था, “मेरी माँ का बचपन मां के बिना ही बीता, वो अपनी मां से ज़िद नहीं कर पाईं, उनके आंचल में सिर नहीं छिपा पाईं। मां को अक्षर ज्ञान भी नसीब नहीं हुआ, उन्होंने स्कूल का दरवाज़ा भी नहीं देखा। उन्होंने देखी तो सिर्फ़ ग़रीबी और घर में हर तरफ अभाव।”

प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने कही ये बात

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अरुण साव ने गहरा शोक जताते हुए कहा हीराबेन को हमेशा उच्च जीवन मूल्यों और सादगी की मूर्ति के रूप में याद किया जाएगा। उनके द्वारा जीवन के अंतिम पड़ाव तक देश के प्रति अपने कर्तव्यों को निभाना सदैव हम सबको देश के प्रति कर्तव्य पथ पर चलने का मार्ग दिखाता रहेगा। मैं प्रार्थना करता हूं कि भगवान उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें व श्री चरणों में स्थान दे ।

नेता प्रतिपक्ष नारायण चंदेल ने शोक जताते हुए कहा एक पुत्र के लिए मां का जाना असहनीय और अपूरणीय क्षति होती है। पूरे देश में गहरा शोक व्याप्त हो गया है सभी का उनसे एक लगाव था उनका जीवन संघर्षों से भरा रहा जो हम सबको प्रेरणा देता रहेगा। दिवंगत पुण्यात्मा को अपने श्री चरणों में स्थान प्रदान करें।

spot_img

AAJ TAK LIVE

ABP LIVE

ZEE NEWS LIVE

अन्य खबरे
Advertisements
यह भी पढ़े
Live Scores
Rashifal
Panchang