Connect with us

हेल्दी लाइफ

डॉक्टर की सलाह : बुखार-खांसी के बाद सिर-बदन दर्द, कमजोरी और पेट दर्द है कोरोना के नए लक्षण

Published

on

Share This Now :

रायपुर : कोरोना की दूसरी लहर में सिरदर्द नए लक्षण के रूप में सामने आया है। तेज सिरदर्द के साथ स्वाद-गंध महसूस नहीं हो रही है तो कोविड टेस्ट कराना जरूरी हो गया है। हालांकि इस बार भी बुकार और सर्दी-खांसी कोविड के कामन लक्षण हैं। पेटदर्द और उल्टी-दस्त, बेचैनी तथा बेहद कमजोरी की शिकायत कर रहे लोग भी जांच करवाएं तो 70 फीसदी लोग पाजिटिव आ रहे हैं।

RO-NO-12027/80

RO-NO-12027/80
RO-NO-12027/80
RO-NO-12027/80

हालांकि इन लक्षणों के साथ सांस फूलने की शिकायत भी कोविड का बड़ा संकेत है और ऐसे मरीजों को तो ऑक्सीजन वाले बेड व आईसीयू में रखना पड़ रहा है। विशेषज्ञों का कहना है कि नए ट्रेंड में बुखार आने पर इंतजार किए बिना तुरंत कोरोना जांच जरूरी है। बुखार को इसलिए नजरअंदाज नहीं किया जा सकता क्योंकि अभी बुखार 10 से 12 दिन तक नहीं उतर रहा है। ऐसे में यह अगर कोरोना संक्रमण की वजह से आ रहा हो तो मरीज काफी खतरे में आ सकता है।

प्रदेश में 18 मार्च 2020 में प्रदेश में जब कोरोना का पहला केस राजधानी में आया, तब कोरोना के प्रमुख लक्षणों में गले में खराश व बुखार मुख्य लक्षण होते थे। कई लोगों सर्दी, खांसी व सांस लेने में तकलीफ होने लगी। छह माह लूज मोशन भी मुख्य लक्षणों में शामिल हो गया। चार माह पहले तक स्वाद व सुगंध महसूस न कर पाना, सिरदर्द लक्षण वाले मरीज कोरोना संक्रमित मिलने लगे। नए लक्षणों में कंजक्टिवाइटिस, पेट दर्द, थकान, बेचैनी भी शामिल हो गए।

सिरदर्द-घबराहट दो-तीन दिन रहे तो करवाएं टेस्ट
सीनियर कैंसर सर्जन डॉ. युसूफ मेमन व सीनियर न्यूरो सर्जन डॉ. राजीव साहू के अनुसार गर्मियों के मौसम में सिरदर्द, बेचैनी, घबराहट को सामान्य माना जाता है। कई लोग इसे नजरअंदाज भी कर देते हैं। इन दिनों ऐसे लक्षण वाले मरीज कोरोना पॉजिटिव भी निकल रहे हैं। पेट दर्द व दस्त के लक्षण भी कई मरीजों में देखे जा रहे हैं। ऐसे में किसी व्यक्ति को यदि 2 या 3 दिन से अधिक यह समस्या हो, तो कोरोना जांच करवा लेनी चाहिए।

एक्सपर्ट व्यू….
इन दिनों कोरोना के जो भी मरीज सामने आ रहे हैं, उनमें 70 फीसदी ऐसे हैं जिन्हें सिर में दर्द रहा, बुखार हुआ और सुगंध-स्वाद भी खत्म हो गया। हालांकि इन सबमें कुछ दिन का बुखार काॅमन है। सांस फूलने की दिक्कत वाले मरीज भी काफी संख्या में पहुंच रहे हैं।
-डॉ. आरके पंडा, सदस्य कोरोना कोर कमेटी

Share This Now :
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

राज्य एवं शहर

CG : जन्म से लेकर 16 वर्ष तक के आयु के बच्चों के लिए हर टीका है जरुरी ; शासकीय अस्पतालों एवं आंगनबाड़ी केंद्रों में मुफ्त होता है टीकाकरण

Published

on

Symbolic Image
Share This Now :

रायपुर : बच्चे के जन्म के साथ समय-समय पर उनका टीकाकरण करवाना आवश्‍यक होता है। नियमित टीकाकरण न करवाने वाले बच्चे जानलेवा बीमारी से ग्रसित हो सकते हैं। जन्म से लेकर 16 साल तक की उम्र तक बच्चे के लिए हर टीका बहुत जरूरी होता है, क्योंकि यह टीके उन्हें कई गंभीर बीमारियों से बचाते हैं। स्वास्थ्य विभाग के राज्य टीकाकरण अधिकारी डॉ वी आर भगत बताते है कि सम्पूर्ण टीकाकरण शिशुओं के जीवन और भविष्य को सुरक्षित रखने के लिए सुरक्षा कवच का काम करता है। अपने शिशुओं का टीकाकरण करके हम अपने समुदाय के सबसे अधिक जोखिम ग्रस्त सदस्य जैसे नवजात शिशु की सुरक्षा करते हैं । उन्होंने बताया कि एक समय हजारों बच्चों की जान लेने वाली बीमारियां जैसे पोलियो, स्मॉल पॉक्स आदि का उन्मूलन टीकाकरण के कारण किया जा सका है |आज टीकाकरण के कारण ही बच्चों में होने वाली अन्य बीमारियां भी उन्मूलन के कगार पर हैं।

RO-NO-12027/80

RO-NO-12027/80
RO-NO-12027/80
RO-NO-12027/80

 

टीकाकरण की सूची

 

डॉ भगत ने बताया की शिशुओं को जन्म पर बीसीजी, ओपीवी-0, हेपटाइटिस-बी-0 का टीका लगाया जाता है ,

6 हफ्ते या 1 1/2 महीने पर शिशुओं को ओपीवी-1, रोटा-1, एफआईपीवी-1, पेंटावेलेंट-1 और पीसीवी-1 का टीका लगाया जाता है , वहीँ 10 हफ्ते या 2 1/2 महीने में ओपीवी-2, रोटा-2, पेंटावेलेंट-2 का टीका, 14 हफ्ते या 3/12 महीने में ओपीवी-3, रोटा-3, एफआईपीवी-2, पेंटावेलेंट-3 और पीसीवी-2 का टीका , 9वें महीने में एम आर-1, पीसीवी-बूस्टर, विटामिन-A का प्रथम खुराक, 16-24 महीने में डीपीटी बूस्टर -1, ओपीवी-बूस्टर, एम आर-2, विटामिन-A का द्वितीय खुराक एवं 5-6 साल में डीपीटी-बूस्टर-2, 10 साल एवं 16 साल की उम्र पर टीडी का टीका लगाया जाता है।

इसके अलावा गर्भवती महिलाओं को भी टीडी के दो टीके- पहला गर्भ धारण के तुरंत बाद एवं दूसरा इसके एक महीने बाद लगाया जाता है | सम्पूर्ण टीकाकरण सभी शासकीय चिकित्सालयों में निःशुल्क लगाया जाता है |

डॉ भगत ने बताया कि टीकाकरण शिशुओं को टीबी, पोलियो, रोटावायरस दस्त, काली खांसी, टिटनेस, हेपेटाइटिस बी, खसरा, हिब-निमोनिया और मेनिनजाइटिस जैसे गंभीर बीमारियों से बचाता है । उन्होंने बताया कि टीके लगने के बाद शिशुओं को स्तनपान कराया जा सकता है। टीके लगे स्थान पर यदि सूजन हो तो उस पर ठंडे पानी की पट्टी रख सकते हैं। बीसीजी के टीके लगे स्थान पर डेढ़ से दो माह में छोटा सा फफोला होता है, इससे घबराएं नहीं। टीका लगाने के बाद किसी भी प्रकार की एलर्जी हो या बुखार आए तो स्वास्थ्य कार्यकर्ता या डॉक्टर के परामर्श से दवाइयां ले सकते हैं।

Share This Now :
Continue Reading

राज्य एवं शहर

छत्तीसगढ़ : दाई दीदी क्लीनिकों में करीब 97 हजार महिलाओं का हुआ इलाज ; विभिन्न बीमारियों का निःशुल्क हो रहा इलाज

Published

on

File Photo
Share This Now :

रायपुर : छत्तीसगढ़ शासन के नगरीय प्रशासन विभाग द्वारा मुख्यमंत्री दाई दीदी क्लीनिक योजना के तहत अब तक 96 हजार 887 से ज्यादा महिलाओं का इलाज किया गया है। दाई दीदी क्लीनिक में महिला स्टाफ के साथ एम. एम. यू के डॉक्टर गरीब तंग बस्तियों में पहुंचकर बीमार महिलाओं का इलाज स्लम इलाके में रहने वाली महिलाओं की विभिन्न बीमारियों का निःशुल्क इलाज कर रहे हैं।

RO-NO-12027/80

RO-NO-12027/80
RO-NO-12027/80
RO-NO-12027/80

महिला चिकित्सा स्टाफ महिला श्रमिकों एवं उनकी बच्चियों का भी निःशुल्क इलाज कर रहे हैं। मरीजों का पैथोलॉजी संबंधित विभिन्न जांच किये जाते हैं और महिला मरीजों का परामर्श एवं निःशुल्क दवा उपलब्ध करायी जा रही है। दाई दीदी क्लीनिक योजना के तहत विभिन्न स्लम बस्तियों में 1282 शिविर लगाये गये जिसमें 96 हजार 887 से अधिक महिलाओं मरीजों का इलाज किया गया है। दाई दीदी क्लीनिकों में 17 हजार 472 महिलाओं के विभिन्न पैथोलॉजी लेब टेस्ट किया गया और 92 हजार 419 महिलाओं को निःशुल्क दवा वितरण की गई है।

Share This Now :
Continue Reading

हेल्दी लाइफ

गर्मियों में दस्त से बचाव के लिए सावधानी जरूरी, लू और दूषित खानपान मुख्य कारण, डिहाइड्रेशन से हो सकती है मौत! जानिए सब कुछ

Published

on

Symbolic Image
Share This Now :

रायपुर : गर्मियों में बढ़ते तापमान के साथ बच्चों से लेकर बुजुर्गों में दस्त यानि डायरिया का खतरा बढ़ जाता है। डायरिया के लिए आमतौर पर लू और दूषित खानपान मुख्य कारण है। दूषित खाद्य या पेय पदार्थों में मौजूद वायरस, बैक्टीरिया या प्रोटोजोआ के कारण ही विभिन्न आयु के लोगों में डायरिया होता है।दस्त का उपचार यदि शुरूआत में नहीं किया जाए तो अनेक आपातकालीन स्थितियां बन सकती है तथा यह जानलेवा भी हो सकता है।

RO-NO-12027/80

RO-NO-12027/80
RO-NO-12027/80
RO-NO-12027/80

गर्मियों में दस्त से बचाव के लिए सभी आयु वर्ग के लोगों को अपने खान-पान में विशेष सावधानी बरतने की जरूरत होती है। तीव्र डायरिया में दस्त के कारण शरीर में पानी और इलेक्ट्रोलाइट्स यानि सोडियम व पोटेशियम की मात्रा बहुत तेजी से कम होने लगती है जिससे शरीर में ऐंठन, बेहोशी जैसे लक्षण मिलते हैं। इन लक्षणों से पीड़ित को त्वरित उपचार नहीं मिलने पर डिहाइड्रेशन के कारण मौत भी हो सकती है ।

शासकीय आयुर्वेद कॉलेज रायपुर के सह-प्राध्यापक डॉ. संजय शुक्ला ने बताया कि डायरिया के घातक होने की संभावनाओं के मद्देनजर आम लोगों को अपने खान-पान की गुणवत्ता और आदतों पर सावधानी बरतने की जरूरत है। गर्मियों में भोजन और अन्य खाद्य पदार्थ अत्यधिक तापमान के कारण बड़ी जल्दी खराब हो जाते हैं। इसलिए बासी और खुले भोजन से बचना चाहिए तथा ताजा भोजन ही लेना चाहिए।

इन दिनों बाजार में बिकने वाले खाद्य पदार्थों और शीतल पेय जैसे लस्सी, गन्ने और अन्य फलों के रस के सेवन में सावधानी बरतना चाहिए क्योंकि इनके संक्रमित या दूषित होने से दस्त सहित पेट से संबंधित अनेक रोगों की होने की संभावना ज्यादा होती है। चूंकि गर्मियों में पाचन तंत्र कमजोर होता है और शारीरिक सक्रियता कम रहती है इसलिए लोगों को तले-भुने, मसालेदार गरिष्ठ भोजन, फास्ट फूड, स्ट्रीट फूड, मांसाहार और शराब सेवन का परहेज करना चाहिए।

दस्त होने पर भोजन में चावल या खिचड़ी, दही, केला, अनार इत्यादि को शामिल करना चाहिए। शिशुओं को मां का दूध, दाल या चावल का पानी यानि माढ़ आदि तथा चिकित्सक के परामर्श पर जिंक का टेबलेट देना चाहिए।

डॉ. संजय शुक्ला ने बताया कि आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति में डायरिया यानि अतिसार का मुख्य कारण त्रिदोष यानि वात, पित्त व कफ का असंतुलन और पाचक अग्नि यानि जठराग्नि का मंद होना है। इसलिए इस पद्धति में अतिसार से बचने के लिए गर्मियों में भरपेट भोजन के बजाय थोड़ी-थोड़ी मात्रा में अनेक बार ताजा और सुपाच्य भोजन ग्रहण करने का निर्देश है।

इस मौसम में बाजार में मिलने वाले कोल्ड ड्रिंक्स की जगह जीरा मिलाकर मठा यानि छाछ, नारियल पानी, नींबू पानी, बेल का शरबत, आम का पना आदि का सेवन करना चाहिए। गर्मियों में पेयजल की शुद्धता पर भी ध्यान देना आवश्यक है। घर में कटे फल और भोज्य पदार्थों को ढंक कर रखना चाहिए। इसके अलावा लोगों को व्यक्तिगत स्वच्छता पर भी ध्यान देना चाहिए। शौच के बाद और भोजन के पहले साबुन से अपने हाथों को अच्छी तरह से धोना चाहिए। उपयोग से पहले फलों और सब्जियों को अच्छी तरह से पानी से धो लेना चाहिए ताकि संक्रमण की संभावना न हो।

डायरिया से पीड़ित रोगियों के उपचार में विशेष सावधानी बरतने की जरूरत होती है। अत्यधिक दस्त के कारण डिहाइड्रेशन की संभावना रहती है, इसलिए शुरूआत में ही रोगी को जीवन रक्षक घोल यानि ओआरएस या घर में बने नमक-शक्कर का घोल, दाल या चावल का पानी इत्यादि पिलाते रहना चाहिए। रोगी को प्राथमिक उपचार देने के बाद अतिशीघ्र नजदीकी सरकारी स्वास्थ्य केंद्र ले जाएं या चिकित्सा विशेषज्ञ का परामर्श लें, ताकि आपातकालीन स्थिति न बने।

Share This Now :
Continue Reading

R.O No. 12027/80

Advertisment

Advertisement

Advertisement

Advertisement Sahni Amritsari Kulche

Chhattisgarh Trending News

CORONA VIRUS2 hours ago

छत्तीसगढ़ : कोरोना के 4 नए केस मिले, 2 हुए ठीक ; सक्रिय मामले 34 ; 17 जिले संक्रमण मुक्त ; केवल 2 जिलों में नए मरीज़ मिले

रायपुर : छत्तीसगढ़ मे आज कोरोना के 4 नए मरीज़ मिले हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी मेडिकल बुलेटिन के अनुसार...

राज्य एवं शहर3 hours ago

CG : नवा रायपुर में सड़क किनारे मिला पत्रकार का शव, थोड़ी दूर खड़ी थी कार; हत्या का हल्ला ; भारी वाहन ने मारी टक्कर – पुलिस

रायपुर : छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के नवा रायपुर इलाके में हुए सड़क हादसे में युवक की जान चली गई।...

राज्य एवं शहर4 hours ago

छत्तीसगढ़ में रफ्तार ने ली जान : भिलाई में बाइकर ने लंगर खा रहे लोगों को कुचला : बाइक चालक की मौके पर हुई मौत

दुर्ग-भिलाई : दुर्ग जिलें के भिलाई शहर में सेक्टर 6 बीएसपी स्कूल के पास देर रात सड़क दुर्घटना में गई...

राजनीति7 hours ago

छत्तीसगढ़ : भाजपा को लेकर CM बघेल का बड़ा बयान, कहा – “नक्सलियों की तरह ही भाजपा संविधान को नहीं मानते”

बीजापुर : छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल इन दिनों भेंट-मुलाकात अभियान के तहत प्रदेश के दौरे पर निकले हैं। इस...

राज्य एवं शहर7 hours ago

छत्तीसगढ़ : दुर्ग में इस निगम क्षेत्र को छोड़ सभी जगह निर्माण कार्य के लिए अब नजूल से NOC की जरूरत नहीं

दुर्ग : दुर्ग कलेक्टर डॉ. एसएन भुरे ने मकान बनाने की अनुमति से जुड़ी एक बड़ी अह्रता को समाप्त कर...

Advertisement

CONNECT WITH US :

CORONA VIRUS2 hours ago

छत्तीसगढ़ : कोरोना के 4 नए केस मिले, 2 हुए ठीक ; सक्रिय मामले 34 ; 17 जिले संक्रमण मुक्त ; केवल 2 जिलों में नए मरीज़ मिले

राज्य एवं शहर3 hours ago

CG : नवा रायपुर में सड़क किनारे मिला पत्रकार का शव, थोड़ी दूर खड़ी थी कार; हत्या का हल्ला ; भारी वाहन ने मारी टक्कर – पुलिस

राज्य एवं शहर4 hours ago

छत्तीसगढ़ में रफ्तार ने ली जान : भिलाई में बाइकर ने लंगर खा रहे लोगों को कुचला : बाइक चालक की मौके पर हुई मौत

राजनीति7 hours ago

छत्तीसगढ़ : भाजपा को लेकर CM बघेल का बड़ा बयान, कहा – “नक्सलियों की तरह ही भाजपा संविधान को नहीं मानते”

राज्य एवं शहर7 hours ago

छत्तीसगढ़ : दुर्ग में इस निगम क्षेत्र को छोड़ सभी जगह निर्माण कार्य के लिए अब नजूल से NOC की जरूरत नहीं

Career7 days ago

BREAKING : छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल ने जारी किया 10वीं-12वीं परीक्षा का परिणाम ; इस लिंक पर देखें एग्जाम रिजल्ट

राज्य एवं शहर5 days ago

छत्तीसगढ़ : दुर्ग जिले में 20 थाना प्रभारियों का हुआ ट्रांसफर ; देखिए लिस्ट

आस्था4 days ago

वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे में जिस जगह पर शिवलिंग मिला उसे तुरंत सील करने का कोर्ट ने दिया आदेश ; वजू पर पाबंदी

राजनीति4 days ago

छत्तीसगढ़ में भाजपा का जेल भरो आंदोलन जारी, रायपुर में बृजमोहन अग्रवाल सहित 2000 कार्यकर्ता गिरफ्तार ; अन्य जिलों में भी जारी है प्रदर्शन

क्राइम3 days ago

छत्तीसगढ़ : रायपुर में ​​​​​​​अनाज कारोबारी से 50 लाख की लूट ; डूमरतराई में 9 बाइक सवारों ने घेरकर पीटा ; फिर बैग लेकर हुए फरार

Special News1 day ago

छत्तीसगढ़ : जब मंटूराम ने मुख्यमंत्री को बताया कि पत्नी संग रातभर करता हूं गोबर की चौकीदारी

राज्य एवं शहर2 days ago

CG : सुकमा में CM भूपेश के भेंट-मुलाकात 2.0 का पहला दिन : तोंगपाल होगा पूर्ण तहसील, स्वास्थ्य सुविधाओं का विस्तार, खेल मैदान निर्माण ; देखिए झलकियां और घोषणाएं

आस्था3 days ago

वाराणसी : ज्ञानवापी के वजूखाने का पुराना वीडियो वायरल, देखें आपको शिवलिंग लगता है या फव्वारा ?

आस्था5 days ago

Video : बुद्ध पूर्णिमा के दिन लगा साल का पहला चंद्र ग्रहण, अर्जेंटीना में दिखा अलग नजारा ; ग्रहण के बारे में जानिए हर एक डिटेल और पढ़ें 10 जरूरी बातें

बॉलीवुड तड़का - Entertainment1 week ago

बिलासा छॉलीवुड अवार्ड 2022 : छत्तीसगढ़ी सुपर हिट गीत ‘मोहिनी’ को मिला बेस्ट एल्बम अवार्ड ; मोनिका वर्मा और तोशांत कुमार ने दिया है आवाज

Top 10 News

Must Read

Special News1 day ago

छत्तीसगढ़ : जब मंटूराम ने मुख्यमंत्री को बताया कि पत्नी संग रातभर करता हूं गोबर की चौकीदारी

मैं और मेरी पत्नी रातभर दो शिफ्ट में टॉर्च लेकर रखते हैं गोबर पर नजर : मंटूराम गोधन न्याय योजना...

Special News2 days ago

CG : कभी नक्सली कमांडर रहे मड़कम मुदराज ने CM को सुनाई आपबीती…कहा आत्मग्लानि में किया सरेंडर, आज हूं इंस्पेक्टर : देखिए वीडियो

मेरे बच्चे पढ़ रहे इंग्लिश मीडियम स्कूल में और जी रहे अच्छी लाइफ स्टाइल मड़कम के हाथों में हथियार अब...

Special News3 days ago

छत्तीसगढ़ सरकार के कृषि और आजीविका मॉडल को मिली सराहना ; श्रीनगर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में कृषि उत्पादन आयुक्त ने दिया प्रस्तुतीकरण

रायपुर : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा राज्य में कृषि को समृद्ध और किसानों को खुशहाल...

Special News4 days ago

छत्तीसगढ़ : Dial 112 की टीम ने बचाई एक और जान : बिलासपुर में पंखे से फंदा लगाकर सुसाइड का प्रयास कर रहे युवक को पुलिस ने बचाया

बिलासपुर : छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में डायल 112 की टीम ने एक युवक की जान बचाई। सोमवार को फांसी लगाकर...

Special News1 week ago

छत्तीसगढ़ : आत्मनिर्भर भारत सम्मेलन में श्रम विभाग को जनकल्याणकारी योजनाओं के लिए मिला पुरस्कार

रायपुर : नई दिल्ली में आयोजित आत्मनिर्भर भारत सम्मेलन में श्रम विभाग को श्रमिकों के लिए अनेक कल्याणकारी योजनाएं संचालित...

Advertisement
Advertisement

Trending