Wednesday, April 17, 2024

ज्यादा पानी पीने से हो सकती है किडनी खराब, एक साल में दोगुने हुए मरीज..

आपने डॉक्टर और बड़ों को खूब पानी पीने की सलाह देते सुना होगा…यह बात कुछ हद तक सही भी है। बहुत कम लोग जानते हैं कि अगर ज्यादा पानी का सेवन किया जाए तो किडनी की स्थिति खराब हो सकती है।

यूरिन ब्लॉकर्स से सावधान रहें

अगर आप ज्यादा पानी पीते हैं तो आपकी किडनी बेकार हो सकती है। किडनी का काम शरीर से सारे वेस्ट को बाहर निकालना है। शरीर द्वारा पानी की खपत की मात्रा के बाद, गुर्दे मूत्र के रूप में पानी और अपशिष्ट पदार्थों को बाहर निकालने का काम करते हैं। ज्यादा पानी किडनी पर काम का बोझ बढ़ा देता है। इसी तरह जो लोग लंबे समय तक पेशाब रोककर रखते हैं, वे भी किडनी पर बोझ डालते हैं। इन दोनों आदतों का भारत में किडनी रोगियों की संख्या में वृद्धि में महत्वपूर्ण योगदान है।

आंकड़े क्या कहते हैं?

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के मुताबिक, दुनिया में किडनी की बीमारी से हर साल 17 लाख लोगों की मौत होती है। लगभग 20 मिलियन लोग किसी न किसी किडनी रोग से पीड़ित हैं, जबकि भारत में लगभग 8 मिलियन लोग किडनी के रोगी हो चुके हैं और सबसे बुरी बात यह है कि रोगियों को इस बीमारी का पता तब चलता है जब किडनी का 60 से 70 प्रतिशत काम करना बंद हो जाता है। . भारत में कुल ट्रांसप्लांट ऑपरेशन में किडनी ट्रांसप्लांट का हिस्सा सबसे ज्यादा है। आपको बता दें कि पिछले 10 सालों में तस्वीर इस तरह बदली है कि ज्यादातर किडनी ट्रांसप्लांट हो रहे हैं। वर्ष 2022 में एक जीवित व्यक्ति से 9834 किडनी प्रत्यारोपण किए गए। जबकि वर्ष 2013 में यह संख्या 3495 थी। वर्ष 2022 में मृतक दान से 1589 गुर्दा प्रत्यारोपण किए गए जबकि 2013 में केवल 542 थे।

इन समस्याओं को नजरअंदाज न करें

नेफ्रोलॉजिस्ट डॉ. सुनील प्रकाश के मुताबिक, समय पर इलाज हो जाए तो ट्रांसप्लांट के बाद की जिंदगी सामान्य हो सकती है। हालांकि, उनकी सलाह है कि पहले किडनी की बीमारी के लक्षणों को पहचानें। किडनी की समस्या में शरीर बिना वजह थक जाता है। लगातार मतली और उल्टी। अजीब सी चिंता होती है। पेशाब भी सामान्य से कम आता है। टांगों और पैरों में सूजन आने लगती है। वजन कम होने से भूख गायब हो जाती है। इसमें मरीज ठीक से सांस नहीं ले पाते हैं। इन समस्याओं से पीड़ित लोगों की किडनी खराब हो सकती है।

जल का महत्व

क्या आप जानते हैं कि अगर दुनिया में मौजूद सभी पानी को 4 लीटर जग के रूप में मापा जाए तो पीने योग्य पानी एक चम्मच के बराबर होगा। इसका मतलब है कि पृथ्वी पर बहुत कम पानी पीने योग्य है। हमारा शरीर 70 प्रतिशत पानी से बना है। हमारे दिमाग का 75 प्रतिशत हिस्सा पानी है। फेफड़े 90 प्रतिशत पानी हैं और हमारे शरीर में रक्त 82 प्रतिशत पानी है।

कितना पानी पीना है

अंगूठे के औसत नियम के रूप में, एक वयस्क को प्रति दिन 8 से 10 गिलास पानी पीना चाहिए। लगभग दो लीटर लेकिन जो लोग अधिक समय तक धूप में रहते हैं, शारीरिक व्यायाम करते हैं और अधिक व्यायाम करने वाले एथलीटों को अधिक पानी की आवश्यकता होती है। कम पानी पीने से गुर्दे की पथरी, कब्ज और निर्जलीकरण हो सकता है। हालांकि ज्यादा पानी पीने से भी लोग बीमार हो सकते हैं। इसलिए डॉक्टर अब आपकी प्यास के हिसाब से ही पानी पीने की सलाह देते हैं। यह सबसे सच्चा पैमाना है। खाना खाने के बाद पानी नहीं पीने का सूत्र आयुर्वेद के सिद्धांतों पर आधारित है। एलोपैथी के डॉक्टर इस नियम को लेकर एकमत नहीं हैं। उनके अनुसार व्यक्ति अपनी आवश्यकताओं को पहचान कर ये नियम बना सकता है। आपको कम और ज्यादा के बीच संतुलन बनाना सीखना होगा।

इन बातों का भी रखें खास ध्यान

हालांकि बहुत अधिक पानी पीना ही एक कारण है जो आपको किडनी का रोगी बना सकता है, लेकिन डायबिटीज और हाई बीपी वाले लोगों को किडनी फेल होने का सबसे ज्यादा खतरा होता है। इसके अलावा मोटापा और शराब का सेवन किडनी की बीमारी को न्यौता देता है। किडनी के अच्छे स्वास्थ्य के लिए बीपी को नियंत्रण में रखें, मोटापे से बचें, शराब और तंबाकू को ना कहें, रोजाना व्यायाम करें, बहुत ज्यादा या बहुत कम पानी न पिएं, रोजाना व्यायाम करें और लंबे समय तक पेशाब को रोककर न रखें। इसके साथ दर्द निवारक दवाएं लेने से बचें क्योंकि ये दवाएं किडनी को बड़ा करने में प्रमुख योगदान देती हैं।

spot_img

AAJ TAK LIVE

ABP LIVE

ZEE NEWS LIVE

अन्य खबरे
Advertisements
यह भी पढ़े
Live Scores
Rashifal
Panchang