Sunday, December 10, 2023

Happy Chaitra Navratri : आज मां शैलपुत्री की होगी पूजा अर्चना, सौभाग्य प्रदान करती हैं मां शैलपुत्री

आस्था डेस्क : नवरात्र में प्रथम दिवस मां शैलपुत्री की उपासना की जाती है। मां शैलपुत्री सौभाग्य की देवी हैं। उनकी पूजा से सभी सुख प्राप्त होते हैं। पर्वतराज हिमालय के घर पुत्री रूप में उत्पन्न होने के कारण माता का नाम शैलपुत्री पड़ा। माता शैलपुत्री का जन्म शैल या पत्थर से हुआ, इसलिए इनकी पूजा से जीवन में स्थिरता आती है। मां को वृषारूढ़ा, उमा नाम से भी जाना जाता है। उपनिषदों में मां को हेमवती भी कहा गया है।

मां शैलपुत्री की विधिवत आराधना से वैवाहिक जीवन सुखमय रहता है और घर में खुशहाली, संपन्नता आती है। मां शैलपुत्री की उपासना से मूलाधार चक्र जागृत होता है जो अत्यंत शुभ होता है। बैल पर सवार मां शैलपुत्री का रूप अद्भुत है। मां की छवि आनंदमयी है। मां की सौम्य छवि भगवान शिव को प्रसन्नता प्रदान करती है। माता दाहिनी हाथ में सदैव त्रिशूल धारण करती हैं। उनके बाएं हाथ में कमल का फूल है जो शांति तथा ज्ञान का प्रतीक है। माता शैलपुत्री की विधिवत उपासना से चन्द्रमा से जुड़े सभी प्रकार के दोष दूर हो जाते हैं और सौभाग्य की प्राप्ति होती है। मां को सफेद मिठाई का भोग लगाकर प्रसाद बांटें और मां की सच्चे मन से उपासना करें। मां को गाय का घी या उससे बने पदार्थों का भोग लगाएं। मां की आराधना से मनोवांछित फल प्राप्त किए जा सकते हैं।

इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।

spot_img

AAJ TAK LIVE

ABP LIVE

ZEE NEWS LIVE

अन्य खबरे
Advertisements
यह भी पढ़े
Live Scores
Rashifal
Panchang