Connect with us

AUTOMOBILE

भारत का पहला सीएनजी ट्रैक्टर हुआ पेश, नितिन गडकरी का दावा सालाना 1.5 लाख रुपये तक होगी बचत

Published

on

Share This Now :

CNG ट्रैक्टर का छह महीने से परीक्षण चल रहा था और एक पारंपरिक डीजल ट्रैक्टर की तुलना में, इस रेट्रोफिटेड CNG ट्रैक्टर से 75 फीसदी कम प्रदूषण होने का दावा किया जा रहा है।


New Delhi : केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने भारत के पहले सीएनजी ट्रैक्टर को पेश किया। सरकार के अनुसार यह रेट्रोफिटेड सीएनजी ट्रैक्टर ईंधन की लागत पर सालाना 1.5 लाख से ज्यादा की बचत कर सकता है। शुक्रवार को पेश किए गए नए ट्रैक्टर को डीजल से सीएनजी में बदला गया है। नए सीएनजी ट्रैक्टर का अनावरण केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग (MoRTH) मंत्री नितिन गडकरी ने किया। केंद्रीय मंत्री गडकरी इस ट्रैक्टर के मालिक हैं जिसे सीएनजी में परिवर्तित किया गया था और उन्हें पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस और इस्पात मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने पंजीकरण प्रमाण पत्र (रजिस्ट्रेश सर्टिफिकेट) सौंपा।

हर जिले में फिट होगा सीएनजी किट

advt_dec21
geeta_medical1
geeta_medical

डीजल ट्रैक्टर को सीएनजी में बदलने के लिए कंवर्जन किट को Rawmatt Techno Solutions (रावमट टेक्नो सॉल्यूशंस) और Tomasetto Achille India (टॉमासेटो अचीले इंडिया) ने मिलकर तैयार किया गया है। सरकार का दावा है कि इससे किसानों को परिचालन लागत कम करके अपनी आय बढ़ाने में मदद मिलेगी। गडकरी ने कहा है कि सरकार ट्रैक्टरों पर सीएनजी किट को फिट करने के लिए केंद्रों की स्थापना करेगी और हर जिले में ऐसे केंद्र स्थापित करने की योजना है।

कम फैलेगा प्रदूषण

रेट्रोफिटेड सीएनजी ट्रैक्टर लॉन्च के कार्यक्रम में नरेंद्र सिंह तोमर, परषोत्तम रूपाला और वी के सिंह भी मौजूद थे। CNG ट्रैक्टर का छह महीने से परीक्षण चल रहा था और एक पारंपरिक डीजल ट्रैक्टर की तुलना में, इस रेट्रोफिटेड CNG ट्रैक्टर से 75 फीसदी कम प्रदूषण होने का दावा किया जा रहा है। हालांकि, सीएनजी कंवर्जन किट की कीमत का एलान अभी नहीं किया गया है।

1.5 लाख तक की बचत का दावा

सरकार के मुताबिक, नया वैकल्पिक ईंधन खेती के लिए ट्रैक्टरों पर निर्भर किसानों के लिए सिर्फ ईंधन लागत पर सालाना 1.5 लाख तक की बचत करने में मदद करेगा।

गडकरी का दावा है कि औसतन, किसान डीजल पर हर साल 3 लाख से 3.5 लाख रुपये तक खर्च करते हैं और इस वैकल्पिक ईंधन प्रौद्योगिकी को अपनाकर वे ईंधन की लागत में 1.5 लाख रुपये तक की बचत कर सकते हैं। रूपयों की बचत के अलावा सरकार डीजल ट्रैक्टर के सीएनजी में बदलवाने के फायदों का भी दावा करती है, कि यह एक स्वच्छ ईंधन है जिसमें कार्बन और अन्य प्रदूषकों की मात्रा सबसे कम है।

सीएनजी वाहन के कई फायदे

पेट्रोल की कीमतों में उतार-चढ़ाव की तुलना में सीएनजी की कीमतें अधिक सुसंगत हैं। इसके अलावा डीजल या पेट्रोल से चलने वाले वाहनों की तुलना में सीएनजी वाहनों का औसत माइलेज भी बेहतर है।

केंद्रीय मंत्री गडकरी ने इस बात पर भी जोर दिया कि दिल्ली में डीजल की कीमत 78.38 रुपये प्रति लीटर है जिसकी तुलना में सीएनजी की कीमत 42.70 रुपये प्रति किलोग्राम है और यह ज्यादा किफायती विकल्प है। ट्रैक्टर के सीएनजी में बदलवाने के बाद उसके परफॉर्मेंस और अन्य स्पेसिफिकेशंस के बारे में ज्यादा जानकारी का खुलासा नहीं हुआ है।

Share This Now :
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

AUTOMOBILE

Good News! मात्र 36000 रुपए में आज लॉन्च हुआ यह शानदार स्कूटर, देखें शानदार फीचर्स की जानकारी

Published

on

Share This Now :

National Desk : भारत में आज बड़ी कंपनी ने मात्र 36000 रुपए में स्कूटर लॉन्च किया है। अगर आप भी इलेक्ट्रिक स्कूटर खरीदने या प्लान कर रहे है तो यह खबर आपके लिए ही है। बेंगलुरु स्थित मोबिलिटी फर्म, बाउंस ने आज अपना पहला इलेक्ट्रिक स्कूटर, बाउंस इनफिनिटी E1 लॉन्च कर दिया है। बाउंस इनफिनिटी ई1 पहला ई-स्कूटर होगा जिसे ‘बैटरी ऐज अ सर्विस’ विकल्प के साथ पेश किया जाएगा। यदि आप बैटरी को सेवा विकल्प के रूप में चुनते हैं तो बाउंस इन्फिनिटी इलेक्ट्रिक स्कूटर 36, 000 रुपये से कम में आपका हो सकता है। इसके लिए आपको एक सब्सक्रिप्शन प्लान भी चुनना होगा, जिसका विवरण जल्द ही कंपनी की वेबसाइट पर उपलब्ध होगा।

बैटरी और चार्जर के साथ इस स्कूटर की कीमत  68,999 रुपए (दिल्ली एक्स-शोरूम) है, और बैटरी-ए-ए-सर्विस वाले स्कूटरों की कीमत 45099 (दिल्ली एक्स-शोरूम) प्लस बैटरी-ए-ए-सर्विस की सदस्यता है। इसके डीलरशिप नेटवर्क और इसके ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के माध्यम से मार्च 2022 की डिलीवरी के साथ प्री-बुकिंग आज से शुरू हो गई है। ग्राहक इस स्मार्ट स्कूटर को न्यूनतम 499 रुपए का भुगतान करके प्री-बुक कर सकते हैं जो कि रिफंडेबल है।

बाउंस इनफिनिटी E1 पांच कलर ऑप्शन में आता है: स्पोर्टी रेड, स्पार्कल ब्लैक, पर्ल व्हाइट, डेसैट सिल्वर और कॉमेड ग्रे। कंपनी इसके साथ 3 साल या 50,000 किलोमीटर तक की वारंटी दे रही है। बाउंस इनफिनिटी 39AH के साथ वाटरप्रूफ IP67 रेटेड 48V बैटरी के साथ आती है जो 83Nm टॉर्क जेनरेट करती है। यह 65 किमी / घंटा की टॉप स्पीड के साथ एक बार चार्ज करने पर 85 किमी की दूरी तय कर सकती है। बाउंस इनफिनिटी 8 सेकेंड में 0 से 40 किमी प्रति घंटे की रफ्तार पकड़ लेती है।

advt_dec21
geeta_medical1
geeta_medical
Share This Now :
Continue Reading

AUTOMOBILE

डीजल कार बनेगा इलेक्ट्रिक : फ्यूल किट की जगह ई-मोटर और बैटरी लगाई जाएगी, हर साल 1 लाख रुपए से ज्यादा की होगी बचत

Published

on

Demo Pic
Share This Now :

नई दिल्ली : आप दिल्ली में रहते हैं और आपके पास 10 साल पुरानी डीजल कार है तब आपको टेंशन लेने की जरूरत नहीं है। दरअसल, दिल्ली सरकार ने 10 साल पुरानी डीजल गाड़ी को इलेक्ट्रिक में कन्वर्ट कराने का रास्ता साफ कर दिया है। यानी, आपको गाड़ी बेचने या स्क्रैप में देने की जरूरत नहीं है। डीजल कार को इलेक्ट्रिक में कन्वर्ट कराने पर जो खर्च आएगा दिल्ली सरकार उस पर सब्सिडी भी देगी।

3 लाख से ज्यादा पुरानी डीजल कारें

दिल्ली में करीब 38 लाख पुरानी गाड़ियां हैं। इनमें 35 लाख पेट्रोल और 3 लाख डीजल गाड़ियां हैं। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (NGT) और सुप्रीम कोर्ट के आदेश बाद ये गाड़ियां दिल्ली की सड़कों पर नहीं चलाई जा सकतीं। NGT ने राजधानी में 10 साल या उससे पुरानी डीजल कारों और 15 साल या उससे पुरानी पेट्रोल गाड़ियों पर पूरी तरह से रोक लगा दी है। ऐसी स्थिति में दिल्ली सरकार ने डीजल गाड़ियों के सामने इलेक्ट्रिक का नया विकल्प खोल दिया है।

advt_dec21
geeta_medical1
geeta_medical

फिलहाल दिल्ली सरकार ने ये साफ नहीं किया है कि डीजल कार को इलेक्ट्रिक में कन्वर्ट कराने के लिए वो कितनी सब्सिडी देगी। इसे लेकर प्लान तैयार किया जा रहा है। इस काम में 4 से 5 लाख रुपए तक का खर्च आता है, लेकिन जब इस काम को कई कंपनियां करने लगेंगी तब लागत घट सकती है।

किसी पेट्रोल या डीजल कार को इलेक्ट्रिक में कन्वर्ट कराने में कितना खर्च आता है? कार की रेंज कितनी होती है? पेट्रोल की तुलना में रोजाना कितना खर्च आएगा? कितने समय में पैसा वसूल हो जाएगा? इन सभी बातों के जानते हैं…

पेट्रोल और डीजल कार को इलेक्ट्रिक बनाने का काम कौन सी कंपनियां कर रही हैं?

फ्यूल कार को इलेक्ट्रिक कार में कन्वर्ट करने से जुड़ी ज्यादातर कंपनियां हैदराबाद में हैं। इनमें ईट्रायो (etrio) और नॉर्थवेएमएस (northwayms) प्रमुख हैं। ये दोनों कंपनियां किसी भी पेट्रोल या डीजल कार को इलेक्ट्रिक कार में कन्वर्ट कर देती हैं। आप वैगनआर, ऑल्टो, डिजायर, i10, स्पार्क या दूसरी कोई भी पेट्रोल या डीजल कार इलेक्ट्रिक में कन्वर्ट करा सकते हैं। कारों में इस्तेमाल होने वाली इलेक्ट्रिक किट लगभग एक जैसी होती है। हालांकि रेंज और पावर बढ़ाने के लिए बैटरी और मोटर में फर्क आ सकता है। इन कंपनियों से आप इनकी ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर संपर्क कर सकते हैं। ये कंपनियां इलेक्ट्रिक कार बेचती भी हैं।

फ्यूल कार को इलेक्ट्रिक कार में बदलने का खर्च और रेंज

किसी भी नॉर्मल कार को इलेक्ट्रिक कार में बदलने के लिए मोटर, कंट्रोलर, रोलर और बैटरी का इस्तेमाल किया जाता है। कार में आने वाला खर्च इस बात पर डिपेंड है कि आप कितने किलोवॉट की बैटरी और कितने किलोवॉट की मोटर कार में लगवाना चाहते हैं, क्योंकि ये दोनों पार्ट कार के पावर और रेंज से जुड़े होते हैं। जैसे, करीब 20 किलोवॉट की इलेक्ट्रिक मोटर और 12 किलोवॉट की लिथियम आयन बैटरी का खर्च करीब 4 लाख रुपए तक होता है। इसी तरह यदि बैटरी 22 किलोवॉट की होगी, तब इसका खर्च करीब 5 लाख रुपए तक आएगा।

कार की रेंज इस बात पर डिपेंड है कि उसमें कितने किलोवॉट की बैटरी का इस्तेमाल किया जा रहा है। जैसे कार में 12 किलोवॉट की लिथियम आयन बैटरी लगाई गई है तो ये फुल चार्ज होने पर करीब 70 किमी की रेंज देगी। वहीं, 22 किलोवॉट की लिथियम आयन बैटरी लगाई तब रेंज बढ़कर 150 किमी तक हो जाएगी। हालांकि, रेंज कम या ज्यादा होने में मोटर का रोल भी रहता है। यदि मोटर ज्यादा पावरफुल होती है तब कार की रेंज कम हो जाएगी।

अब जानिए पेट्रोल या डीजल कार को कैसे इलेक्ट्रिक कार में बदला जाता है?

जब ये कंपनियां किसी फ्यूल कार को इलेक्ट्रिक कार में कन्वर्ट करती हैं तो पुराने सभी मैकेनिकल पार्ट्स को बदला जाता है। यानी कार का इंजन, फ्यूल टैंक, इंजन तक पावर पहुंचाने वाली केबल और दूसरे पार्ट्स के साथ एसी के कनेक्शन को भी चेंज किया जाता है। इन सभी पार्ट्स को इलेक्ट्रिक पार्ट्स जैसे मोटर, कंट्रोलर, रोलर, बैटरी और चार्जर से बदला जाता है। इस काम में मिनिमम 7 दिन का समय लग सकता है। सभी पार्ट्स कार के बोनट के नीचे ही फिक्स किए जाते हैं। वहीं, बैटरी की लेयर कार के चेसिस पर फिक्स की जाती है। बूट स्पेस पूरी तरह खाली रहता है। इसी तरह फ्यूल टैंक को हटाकर उसकी कैप पर चार्जिंग पॉइंट लगाया जाता है। कार के मॉडल में किसी तरह का बदलाव नहीं किया जाता।

पेट्रोल की तुलना में इलेक्ट्रिक कार से बचत

आप अपनी पेट्रोल या डीजल कार को इलेक्ट्रिक कार में कन्वर्ट करने के लिए 5 लाख रुपए खर्च करते हैं। जिसके बाद ये 75 किमी की रेंज देती है, तब 4 साल और 8 महीने में आपके पैसे वसूल हो जाएंगे।

  • मान लेते हैं आप कार से भी रोजाना 50 किमी का सफर करते हैं।
  • इलेक्ट्रिक कार फुल चार्ज होने में 6 घंटे और 7 यूनिट बिजली खर्च करती है।
  • 1 यूनिट बिजली की कीमत 8 रुपए है, तो सिंगल चार्ज में 56 रुपए खर्च होंगे।
  • यानी 56 रुपए के खर्च में EV 75 किलोमीटर की रेंज देती है।
  • यानी 2 दिन की चार्जिंग में आप कार को 3 दिन आसानी से चला पाएंगे।
  • यानी महीनेभर में कार 20 बार ही चार्ज करनी होगी, जिसका खर्च 7 यूनिट x 20 दिन = 140 यूनिट होता है।
  • यानी 140 यूनिट x 8 रुपए = 1120 रुपए एक महीने में खर्च होते हैं।
  • इस तरह सालभर का खर्च 12 महीने x 1120 रुपए = 13440 रुपए होता है।
  • अब 1 लीटर पेट्रोल में कार शहर में 15km का माइलेज देती है। 1 लीटर पेट्रोल का खर्च 101 रुपए (दिल्ली) है।
  • 50km चलने के लिए 3.33 लीटर पेट्रोल लगता है। यानी 336 रुपए का पेट्रोल एक दिन में खर्च होगा।
  • इस हिसाब से 1 महीने में 30 दिन x 336 रुपए = 10090 रुपए का पेट्रोल खर्च होगा।
  • यानी 1 साल में 12 महीने x 10090 रुपए = 121078 रुपए का पेट्रोल खर्च होगा।
  • ई-कार से पेट्रोल कार की तुलना में सालाना 1,21,078 – 13440 = 1,07,638 रुपए की बचत होगी।
  • यानी 4 साल और 8 महीने में इलेक्ट्रिक कार को तैयार करने का पूरा खर्च निकल आएगा।

इलेक्ट्रिक कार 74 पैसे में एक किमी तक चलती है। पेट्रोल या डीजल कार को इलेक्ट्रिक कार बनाने वाली ये कंपनी 5 साल की वारंटी भी देती हैं। यानी आपको कार में इस्तेमाल होने वाली किट पर कोई एक्स्ट्रा खर्च नहीं करना होगा। वहीं, बैटरी पर कंपनी 5 साल की वारंटी देती है। यानी 5 साल के बाद आपको बैटरी बदलने की जरूरत होगी। वहीं, पेट्रोल या डीजल कार में आपको सालाना सर्विस का खर्च भी करना होगा। ये आपको किट और सभी पार्ट्स का वारंटी सर्टिफिकेट भी देती हैं। इसे सरकार और RTO से मंजूरी होती है।

Share This Now :
Continue Reading

AUTOMOBILE

छत्तीसगढ़ : ऑटोमोबाईल सेक्टर में उछाल, गत वर्ष की तुलना में नए वाहनों के पंजीयन में 17.17% हुई वृद्धि, सीएम भूपेश ने दी बधाई

Published

on

Demo Pic
Share This Now :

रायपुर : देश में कोरोना के कारण आर्थिक संकट के बावजूद हमारे छत्तीसगढ़ में इस वर्ष भी धनतेरस और दीपावली के दौरान ऑटोमोबाइल सेक्टर में अच्छा उछाल आया है। पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष दीपावली के दौरान प्रदेश में वाहनों के पंजीयन में 17.17 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है। कृषि क्षेत्र में उपयोग किए जाने वाले ट्रेक्टर, हार्वेस्टर, व्यवसायिक टेªक्टर की खरीदी बढ़ी है। साथ ही व्यक्तिगत उपयोग के वाहनों मोटर सायकल, माल वाहक वाहनों की खरीदी में भी अच्छा खासा इजाफा हुआ है।

परिवहन विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार इस वर्ष 2021 में दीपावली के दौरान 2 से 6 नवम्बर के बीच 13 हजार 706 वाहनों की खरीदी हुई, जबकि वर्ष 2020 में दीपावली के दौरान 12 से 16 नवम्बर के दौरान 11 हजार 697 वाहनों की खरीदी हुई थी। दीपावली के दौरान पिछले वर्ष की तुलना में इस वर्ष खरीदे गए वाहनों के पंजीयन में 17.17 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

प्रदेश में वर्ष 2021 में दीपावली के दौरान 607 कृषि कार्य में उपयोग में लाए जाने वाले ट्रेक्टरों की खरीदी की गई, जबकि वर्ष 2020 में दीपावली के दौरान 242 ट्रेक्टरों की खरीदी की गई थी। इसी प्रकार वर्ष 2021 में 9 हार्वेस्टरों और 18 कमर्शियल ट्रेक्टरों की खरीदी हुई, जबकि पिछले वर्ष मात्र 01 हार्वेस्टर और 7 कमर्शियल ट्रेक्टरों की खरीदी हुई थी। इसी तरह वर्ष 2021 में 11 हजार 313 मोटर सायकल और स्कूटरों, 153 मोपेड की खरीदी हुई, जबकि वर्ष 2020 में दीपावली के दौरान 9 हजार 223 मोटर सायकल और स्कूटरों, 31 मोपेड वाहनों की खरीदी हुई थी। इसी तरह वर्ष 2021 में निजी उपयोग के लिए 13 ओमनी बस, 11 मैक्सी कैब, 10 मोटर कैब, 19 ई-रिक्शा, 05 ई-रिक्शा विथ कार्ड की खरीदी हुई। पिछले वर्ष 07 ओमनी बस, 01 मैक्सी कैब, 8 मोटर कैब, 13 ई-रिक्शा और 29 ई-रिक्शा विथ कार्ड की खरीदी की गई थी। इसके साथ ही साथ इस वर्ष 2021 में 1370 कार, 140 गुडस् कैरियर वाहन, 23 एक्सेवेटर की खरीदी की गई है।

advt_dec21
geeta_medical1
geeta_medical

Share This Now :
Continue Reading
Advertisement

Video Advertisment

Advertisement



Advertisement Sahni Amritsari Kulche

Chhattisgarh Trending News

राज्य एवं शहर32 mins ago

छत्तीसगढ़ : पंचायत विभाग के मैदानी काम-काज की हो रही है समीक्षा

रायपुर : पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग की योजनाओं के मैदानी स्तर पर हो रहे क्रियान्वयन की प्रगति की समीक्षा...

राजनीति37 mins ago

छत्तीसगढ़ के 15 कांग्रेस MLA’s को उत्तरप्रदेश चुनाव के लिए मिली जिम्मेदारी, आज प्रियंका गांधी से करेंगे मुलाकात

रायपुर : उत्तरप्रदेश में आगामी दिनों में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने छत्तीसगढ़ के 15 विधायकों को...

क्राइम42 mins ago

CG : रायपुर में शराब दुकान में घुसकर चाकूबाजी, मैनेजर के सीने में चाकू से जानलेवा हमला किया  

रायपुर : बुधवार देर रात राजधानी की एक शराब दुकान में कुछ गुंडों ने खूब उत्पात मचाया। दुकान के सामानों...

राज्य एवं शहर17 hours ago

छत्तीसगढ़ : रायपुर मेडिकल कॉलेज के अधीन होगा DKS सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल, स्वास्थ्य विभाग ने जारी किया आदेश

रायपुर : राजधानी रायपुर का DKS अस्पताल अब रायपुर मेडिकल कॉलेज के अधीन होगा। मेडिकल कॉलेज के डीन ही DKS...

CORONA VIRUS17 hours ago

छत्तीसगढ़ : दुर्ग में आज कोरोना से एक मौत और 9 नए केस, प्रदेश में कुल 37 नए मामले, 27 स्वस्थ : देखिए जिलेवार आंकड़ा

रायपुर : छत्तीसगढ़ मे आज 37 नए कोरोना संक्रमित मरीज मिले। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी मेडिकल बुलेटिन के अनुसार बीते...

Advertisement

CONNECT WITH US :

Top 10 News

Must Read

Special News20 hours ago

CG : CM ने इको लर्निंग सेंटर दुधावा और इको पर्यटन स्थल कोडार का किया लोकार्पण, सैलानियों को आकर्षित करेगा कुदरत का नजारा

रायपुर : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल पर्यटन स्थल को बढ़ावा देने के लिए उत्तर बस्तर कांकेर में दुधावा डेम पर...

Special News22 hours ago

CG : सिटी बसों का किराया 25% तक बढ़ाया गया, त्रैमासिक कर में 1 जुलाई 2020 से 31 दिसम्बर 2021 तक छूट ; जानिए कैबिनेट के अहम फैसले

रायपुर : सीएम निवास में आयोजित कैबिनेट की बैठक में कई अहम फैसले लिए गए हैं।  सिटी बसों का किराया...

Special News2 days ago

छत्तीसगढ़ में धूम मचा रही गोबर से बनी चप्पल, जानिए कीमत से लेकर इसकी खासियत

रायपुर : छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में गोबर की चप्पल इन दिनों आकर्षण का केंद्र बनी हुई है. गोकुल नगर...

Special News3 days ago

किसान सम्मेलन और सम्मान समारोह के आयोजन में शामिल हुए CM, परिस्थितियाँ चाहें जैसी भी हों किसानों को खुशहाल बनाने के फैसले पर अडिग रहेंगे : बघेल

किसान सम्मेलन और सम्मान समारोह के आयोजन में शामिल हुए मुख्यमंत्री, मुख्यमंत्री ने प्रगतिशील कृषकों, कृषि से जुड़े स्व-सहायता समूहों...

Tech Gyan3 days ago

प्रीपेड यूजर्स के बाद अब पोस्टपेड ग्राहकों को झटका देने की तैयारी, 20 से 25 फीसदी तक महंगा हो सकता है प्लान

National Desk : दूरसंचार कंपिनयां प्रीपेड के बाद अब जल्द ही प्रोस्पेड ग्राहकों को झटका दे सकती है। सूत्रों के...

Advertisement

Trending