Connect with us

Special News

लोकवाणी 15वीं कड़ी : छत्तीसगढ़ को उत्पादक भी बनना है और उपभोक्ता भी : भूपेश बघेल, आम जनता से रू-ब-रू हुए मुख्यमंत्री

Published

on

Share This Now :

रायपुर : मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने आज प्रसारित अपनी मासिक रेडियोवार्ता लोकवाणी की 15वीं कड़ी में ‘उपयोगी निर्माण-जन हितैषी अधोसंरचनाएं और आपकी अपेक्षाएं’ विषय पर प्रदेश की जनता की खुशहाली और विकास को लेकर राज्य सरकार के विजन पर अपने विचार विस्तार से रखे।

cnt_05nov22
3- 13 sep 2022
4 - 13 sep 2022
1 -13 sep 22
2 - 13 sep 22

लोकवाणी की प्रमुख बातें-

  • जनता की खुशहाली और राज्य के विकास को लेकर रखा सरकार का विजन
  • ‘उपयोगी निर्माण-जन हितैषी अधोसंरचनाएं और आपकी अपेक्षाएं’ विषय पर की चर्चा
  • राज्य के बहुमूल्य संसाधनों का उपयोग करके छत्तीसगढ़ के लोग भी समृद्ध और खुशहाल बने
  • सड़क, बिजली और सिंचाई संसाधनों के नेटवर्क को पूरा करने पर जोर
  • गौठान बन रहे हैं बहुआयामी सांस्कृतिक, आर्थिक गतिविधियों के केन्द्र
  • स्कूल शिक्षा में गुणात्मक सुधार का रोडमैप तैयार
  • स्थानीय संसाधनों में वेल्यू एडिशन से संबंधित पाठ्यक्रम उच्च शिक्षा संस्थानों में प्रारंभ करने की पहल
  • युवाओं में उद्यमिता के विकास के साथ रोजगार सृजन के प्रयास
  • छत्तीसगढ़ की नई जल संसाधन विकास नीति तैयार
  • चंदूलाल चन्द्राकर स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय को अधिग्रहित करने का फैसला
  • कांकेर, महासमुन्द और कोरबा जिले में खुलेंगे नए मेडिकल कॉलेज

लोकवाणी में मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के बहुमूल्य संसाधनों का उपयोग करके छत्तीसगढ़ के लोग भी समृद्ध और खुशहाल बने। अधोसंरचना विकास के कार्यों में सड़क, बिजली और सिंचाई संसाधनों के नेटवर्क को पूरा करने पर जोर दिया गया है, ताकि अधोसंरचना विकास के कार्यो का पूरा लाभ प्रदेश की जनता को मिल सके। गांव-गांव में महिला स्व सहायता समूह तथा प्रतिभावान युवाओं के नवाचार से प्रदेश में समृद्धि और खुशहाली का नए रास्ते बनाने की शुरूआत हो चुकी है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गांव-गांव में ऐसी अधोसंरचनाएं तैयार की जा रही हैं। जिनका लाभ बड़े पैमाने पर लोगों को मिलता है। नरवा, गरवा, घुरवा, बारी प्रोजेक्ट की शुरूआत छत्तीसगढ़ की इन चार चिनहारी को बचाने के लिए की गयी। गौठान बहुआयामी सांस्कृतिक, आर्थिक गतिविधियों के केन्द्र बन रहे हैं। गांवों में बाड़ी की पुरानी परम्परा को वापस लाया जा रहा है। राज्य की सिंचाई क्षमता दोगुनी करने के लिए प्रदेश की नई जल संसाधन नीति तैयार करने का काम पूरा हो चुका है। वर्मी कम्पोस्ट से जैविक खेती को बढ़ावा मिलेगा। राज्य सरकार ने स्कूल शिक्षा में गुणात्मक सुधार का रोडमैप बनाया है। इसी तरह उच्च शिक्षा के क्षेत्र में विश्वविद्यालयों, महाविद्यालयों, कृषि शिक्षा और इंजीनियरिंग कॉलेजों में ऐसे पाठ्यक्रम प्रारंभ करने पर जोर दिया गया है, जिससे स्थानीय संसाधनों के वेल्यू एडिशन से उत्पादन का रास्ता बने। युवाओं में उद्यमिता का विकास हो और उन्हें रोजगार के बेहतर अवसर मिले। पर्यटन को बढ़ावा देकर स्थानीय विकास को गति देने और रोजगार के नए अवसर सृजित करने के प्रयास किए जा रहे हैं।

लोकवाणी में आम जनता से राज्य सरकार की योजनाओं पर मिलता है फीडबैक

मुख्यमंत्री ने लोकवाणी में श्रोताओं का अभिवादन करते हुए छत्तीसगढ़ी में कहा-सब्बो झन ला मोर जय जोहार, नमस्कार, जय सियाराम। लोकवाणी मं आके मोला अब्बड़ खुसी लागथे, काबर कि हमन सरकार मं बइठके जउन निरनय लेथन, वो बात ल आप सब झन कइसे समझथव, अऊ योजना मन ल कइसे अपनाथव, ऐखर बारे मं मोला सब जानकारी लोकवाणी ले हो जाथे। आप मन ले गोठ-बात करके हमर आत्मविश्वास घलो बाढ़थे, अऊ काम करेके नवा रद्दा घलो मिलथे। तेखर बर जम्मो ‘लोकवाणी’ सुनइया मन ल, गाड़ा-गाड़ा सुभकामना अऊ धन्यवाद।

श्रोताओं ने कहा ‘नरवा, गरवा, घुरवा और बारी’ प्रोजेक्ट से गांवों में मिली अधोसंरचना को दिशा

लोकवाणी के लिए रिकार्ड कराए गए अपने संदेश में बेमता के  भूपेन्द्र कुमार शर्मा ने कहा कि नई सरकार बनने के बाद किसानों को काफी राहत मिली। महासमुंद जिले की बम्हनी ग्राम पंचायत की रूक्मणी पाल ने बताया कि उनके जय मां सरस्वती महिला स्व-सहायता समूह ने गोबर से 200 क्विंटल खाद बनाई, जिससे 1 लाख 77 हजार रुपए आय हुई। आरंग के नंद कुमार ने कहा कि ‘नरवा, गरवा, घुरवा और बारी’ प्रोजेक्ट से अधोसंरचना विकास की एक दिशा दिखी है।

जल संरक्षण और संवर्धन के लिए 30 हजार नरवा चिन्हांकित
मुख्यमंत्री ने श्रोताओं से रू-ब-रू होते हुए कहा कि निश्चित तौर पर ‘नरवा, गरवा, घुरवा, बारी’ हमारा ड्रीम प्रोजेक्ट है और इसकी शुरुआत हमने छत्तीसगढ़ की चार चिन्हारी को बचाने के लिए किया था। नरवा के काम में पंचायत और ग्रामीण विकास, जल संसाधन विकास विभाग, वन विभाग आदि की मदद ली जा रही है। लगभग 30 हजार नरवा चिन्हांकित किए गए हैं और लगभग 5 हजार नरवा विकास का काम काफी आगे बढ़ चुका है। गरवा को लोग सिर्फ गाय, दूध और पशुधन विकास तक ही समझते थे, हमने गरवा के माध्यम से गौठान की योजना बनाई। इस तरह लगभग 10 हजार गौठानों के निर्माण की मंजूरी दे चुके हैं, जिनमें से 5 हजार से ज्यादा गौठानों का निर्माण पूरा हो चुका है। अब गौठान की पहचान एक ऐसी अधोसंरचना के रूप में हो चुकी है, जो सिर्फ गायों को रोकने की जगह ही नहीं है बल्कि गोधन न्याय योजना के माध्यम से गोबर खरीदी केन्द्र, महिला स्व-सहायता समूह के माध्यम से वर्मी कम्पोस्ट बनाने और बेचने का केन्द्र, गोबर से अन्य कलात्मक वस्तुएं बनाने का केन्द्र भी विकसित हुआ है। एक तरह से गौठान बहुआयामी सांस्कृतिक, आर्थिक गतिविधियों के केन्द्र बन रहे हैं। मुझे यह देखकर खुशी होती है कि हमारे गांव-घर की बाड़ियों में उपजाई जाने वाली सब्जी-भाजी- फल कुपोषण मुक्ति का सहारा बन रहे हैं।

आगामी 5 वर्षों में राज्य की सिंचाई क्षमता दोगुनी करने का लक्ष्य

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी नरवा योजना प्रदेश में भू-जल की रिचार्जिंग का बहुत बड़ा साधन बन रही है। हमारे प्रयासों को भारत सरकार के जल शक्ति मंत्रालय द्वारा भी सराहा गया है। बिलासपुर और सूरजपुर जिले की परियोजनाओं को राष्ट्रीय पुरस्कार मिला है। हमने पुरानी जल संसाधन परियोजनाओं की कमियों को दूर किया ताकि वास्तविक सिंचाई का रकबा बढे़, इसके अलावा भी बड़ी-बड़ी नई योजनाएं हाथ में ली हैं। बोधघाट के अलावा शेखरपुर बांध, ढांडपानी बांध, रेहर अटेम जैसी 15 परियोजनाओं पर ध्यान दिया जा रहा था। हमारा लक्ष्य है कि आगामी 5 साल में प्रदेश में ऐसी जल अधोसंरचनाओं का विकास हो जाए, जिससे राज्य की सिंचाई क्षमता दोगुनी हो जाए। मैं यह खुशखबरी भी साझा करना चाहता हूं कि छत्तीसगढ़ की नई जल संसाधन विकास नीति तैयार करने का काम पूरा हो चुका है। जल्दी ही प्रदेश को नई जल संसाधन नीति के रूप में अधोसंरचना विकास की नई सौगात मिलेगी।

ग्रामीणों ने धान खरीदी केन्द्रों में चबूतरा निर्माण को बताया उपयोगी

लोकवाणी में ग्राम डबराखुर्द के  राजेश कुमार कनौजिया ने बताया कि ग्रामीण सेवा सहकारी समिति झाल खम्हरिया में और ग्राम कोसरंगी के सोम प्रकाश साहू ने बताया कि धान खरीदी केन्द्रों में चबूतरा बनने से हमारा धान खराब नहीं होता है। इसके लिए उन्होंने मुख्यमंत्री को धन्यवाद दिया।

गौठानों में 61 हजार वर्मी कम्पोस्ट टंकी और करीब 5 हजार चारागाहों का निर्माण

मुख्यमंत्री ने लोकवाणी में कहा कि आप लोगों ने इस बदलाव को महसूस किया, उसके लिए बहुत-बहुत धन्यवाद। हम महात्मा गांधी नरेगा के साथ विभिन्न योजनाओं के अभिसरण से गांव-गांव में ऐसी अधोसंरचनाओं का विकास कर रहे हैं, जिसमें बहुत बड़े पैमाने पर लोगों को लाभ मिलता है। इस तरह एक ओर जहां हमने हजारों गौठानों के निर्माण की व्यवस्था की, वहीं गौठानों में लगभग 61 हजार वर्मी कम्पोस्ट टंकी बनवा चुके हैं। करीब 5 हजार चारागाह बनाए हैं। भवनविहीन आंगनबाड़ियों के लिए भवन बना रहे हैं। नवगठित ग्राम पंचायतों में पंचायत भवन बना रहे हैं।

उसी प्रकार धान उपार्जन केन्द्रों में 8 हजार चबूतरे बनवाए गए हैं, जिसका जिक्र आप लोगों ने किया, इससे धान को सुरक्षित रखने में मदद मिल रही है। गांवों में ऐसी अधोसंरचनाओं की बहुत जरूरत है, जिससे हमारे ग्रामीण भाई-बहन और बच्चे गांवों में एक नई तरह की व्यवस्था महसूस कर सकें। वे देख सकें कि सरकार का काम खाली शहरी अधोसंरचना का विकास ही नहीं है, गांव वालों की जरूरतें पूरी करने के लिए भी बहुत से काम करना जरुरी है। मुझे खुशी है कि हमने सही समय में गांव वालों की जरूरतों की पहचान कर ली है और उसके अनुरूप निर्माण के निर्णय ले रहे हैं।

इंग्लिश मीडियम स्कूलों में कमजोर वर्ग के बच्चों को मिलेगी अच्छी शिक्षा

लोकवाणी में कोरबा के कुश शर्मा ने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार ‘उपयोगी निर्माण और जनहितैषी अधोसंरचना’ के मामले में ऐसा विकास कर रही है, जो आम लोगों से सीधा जुड़ा है। राज्य सरकार के इंग्लिश मीडियम स्कूल शुरू करने के फैसले से आर्थिक रूप से कमजोर बच्चों के लिए शिक्षा सुलभ हो पाएगी, इसके लिए मुख्यमंत्री जी धन्यवाद के पात्र हैं।

राज्य सरकार ने तैयार किया स्कूल शिक्षा में गुणवत्ता सुधार का रोडमैप

मुख्यमंत्री ने लोकवाणी में कहा कि हमने स्कूल शिक्षा में गुणवत्ता सुधार का एक रोडमैप बनाया है, जिसके अनुसार विभिन्न शालाओं में बहुत से कार्य किए जा रहे हैं, जिनसे बच्चों के व्यक्तित्व का सम्पूर्ण विकास हो, जिससे वे आगे चलकर डॉक्टर, इंजीनियर ही नहीं बल्कि शोधकर्ता, खिलाड़ी, प्रबंधक या अपनी रुचि के अनुसार कोई भी कैरियर अपना सकें। उन्होंने कहा कि महंगे और सजावटी विकास से किसी का भला नहीं होता, वास्तव में यह देखना चाहिए कि निर्माण की गुणवत्ता कैसी है और उससे सेवा की गुणवत्ता में कैसे सुधार होगा। ‘स्वामी आत्मानंद उत्कृष्ट अंग्रेजी माध्यम विद्यालय योजना’ का विचार ही इसलिए आया कि सरकारी स्कूलों को निजी स्कूलों के सामने सम्मानपूर्वक खड़ा किया जाए। ताकि सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले गरीब और मध्यमवर्गीय बच्चे उन सुविधाओं से वंचित न हों, जो उनके भविष्य निर्माण के लिए जरूरी हैं। इसलिए सरकारी क्षेत्र में हम इंग्लिश मीडियम स्कूल के माध्यम से वह सुविधाएं ला रहे हैं।

युवाओं में बढ़ा कृषि शिक्षा की ओर रुझान

इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, रायपुर के कुलपति प्रो. एस. के. पाटिल ने कहा कि छत्तीसगढ़ में कृषि तथा उद्यानिकी को बढ़ावा मिलने से और 31 महाविद्यालयों का वृहद नेटवर्क खड़ा होने से युवाओं में कृषि शिक्षा की ओर रुझान बढ़ा है। उन्होंने मुख्यमंत्री को इसके लिए धन्यवाद देते हुए कहा कि अपने युवाओं में कौशल विकास हेतु विश्वविद्यालयों में उत्पादन केन्द्र तथा युवाओं की कंपनियां स्थापित करने का अभिनव विचार दिया है। इसके माध्यम से युवा, कृषि को एक व्यवसाय के रूप में लेने आगे आ रहे हैं। रायगढ़ के किरण मौर्य ने कहा कि रायगढ़ जिले में स्वर्गीय नन्दकुमार पटेल यूनिवर्सिटी शुरू होने से हम छात्र-छात्राओं को शिक्षा संबंधी कार्यों के लिये बिलासपुर नहीं जाना पड़ेगा।

विश्वविद्यालयों में उत्पादन केन्द्र तथा युवाओं में उद्यमिता विकास के कार्य की नई शुरूआत

मुख्यमंत्री बघेल ने इस संबंध में कहा कि मैं किसान परिवार से हूं। मैं किसान हूं, इसे गौरव का विषय मानता हूं, लेकिन एक लम्बे दौर में हमारे युवाओं के मन में यह बात बैठ गई है कि खेती-किसानी के बारे में चर्चा करना या उसमें अपना कैरियर ढूंढना कोई बहुत अच्छी बात नहीं है। खेती-किसानी को लेकर युवाओं के मन में सम्मान का भाव नहीं होने की एक बड़ी वजह थी कि खेती और उच्च शिक्षा के बीच की कड़ी ही मिसिंग थी। हार्वर्ड विश्वविद्यालय में भ्रमण के दौरान मेरे मन में यह बात आई थी कि विश्वविद्यालयों में उत्पादन केन्द्र तथा युवाओं में उद्यमिता विकास को लेकर कोई संरचनागत, संस्थागत काम होना चाहिए, जिसमें निरंतरता हो और युवाओं को कृषि से संबंधित रोजगार के नए अवसरों की जानकारी हो, उन्हें मार्गदर्शन व सहयोग मिले। छत्तीसगढ़ में यह शुरुआत एक सुखद संकेत है। इसलिए हमने यह तय किया कि उतने ही इंजीनियरिंग कॉलेजों को महत्व मिले जितने में गुणवत्ता से शिक्षा दी जा सके और उसमें भी ऐसे पाठ्यक्रम होने चाहिए जो स्थानीय संसाधनों के वेल्यू एडीशन से उत्पादन का रास्ता बनाएं। यह तो विडम्बना ही थी कि हमारे कृषि प्रधान राज्य में इंजीनियरिंग कॉलेजों की भरमार हुई लेकिन कृषि शिक्षा के कॉलेज समुचित संख्या में नहीं खोले गए, इसलिए हमने एग्रीकल्चर के साथ उद्यानिकी-वानिकी, डेयरी टेक्नोलॉजी, फूड प्रोसेसिंग, मछली पालन जैसे विषयों के लिए विश्वविद्यालय, महाविद्यालय और पॉलीटेक्निक खोलने पर जोर दिया है।

चंदूलाल चन्द्राकर स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय को अधिग्रहित करने का फैसला

कांकेर, महासमुन्द और कोरबा जिले में खुलेंगे नए मेडिकल कॉलेज

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने लोकवाणी में कहा कि कोविड के दौरान हमने महसूस किया कि प्रदेश में और अधिक मेडिकल कॉलेजों की जरूरत है। दुर्ग जिलेे का चंदूलाल चन्द्राकर स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय निजी क्षेत्र में चलना मुश्किल हो रहा था, उसे हमने अधिग्रहित करने का फैसला लिया ताकि सरकारी चिकित्सा शिक्षा अधोसंरचना को बढ़ाया जा सके। तीन जिलों कांकेर, महासमुन्द और कोरबा में हम नए मेडिकल कॉलेज खोल रहे हैं, इस तरह उच्च शिक्षा की अधोसंरचना में जो अभाव थे, उसे पूरा करने और प्रदेश के युवाओं को बेहतर भविष्य बनाने में मदद करने का हमारा प्रयास है।

राज्य सरकार द्वारा पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए किए जा रहे कार्यों पर सकारात्मक प्रतिक्रिया देते हुए जशपुर के मदन तिर्की ने कहा कि जशपुर के बालाछापर सरना में एथनिक रिसॉर्ट और कवर्धा में सरोधा दादर रिसॉर्ट बनने से आदिवासी पिछड़े अंचल में पर्यटन विकास के अवसर पैदा हो रहे हैं। रायपुर की प्रार्थना तिवारी ने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार उपयोगी निर्माण और जनहितैषी अधोसंरचना के मामले में हमारी अपेक्षाओं पर खरे उतर रही है। क्योंकि हमारा भी मानना है कि कोई निर्माण या इंफ्रास्ट्रक्चर ऐसा हो जो लोगों से जुड़ा हो, निर्माण कार्य केवल शो के लिए नहीं होना चाहिए। पिछले 2 सालोें में यह बदलाव देखने को मिल रहा है कि लोगों की भागीदारी एवं उनकी उपयोगिता को ध्यान दिया जा रहा है।

पर्यटन विकास से मिलेगी स्थानीय विकास को गति

मुख्यमंत्री ने पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए किए जा रहे कार्यो के संबंध में लोकवाणी में कहा कि प्रदेश में एक दौर ऐसा आया था, जब पर्यटन को कुछ प्रचलित केन्द्रों में ही समेटकर रखने और मॉल कल्चर में ढालने के प्रयास हो रहे थे। दुनिया में अपनी प्राचीन धरोहरों को सहेजने और प्राकृतिक सुन्दरता के स्थानों में अधोसंरचना के विकास के प्रयासों को सराहा जाता है। लेकिन छत्तीसगढ़ में ऐसा नहीं हो रहा था, इसलिए हमने पर्यटन विकास की संभावनाओं को बहुत बड़े फलक में आकार देने का प्रयास किया है।

इस क्रम में जशपुर जिले के सरना-बालाछापर तथा कोइनार-कुनकुरी में, बिलासपुर जिले के कुरदर में, कोण्डागांव जिले के धनकुल में, कांकेर जिले के नथिया नवागांव में एथनिक रिसॉर्ट, सरगुजा जिले के महेशपुर में साइट एमेनिटी का विकास किया जा रहा है। सिरपुर को ऐतिहासिक बौद्ध पर्यटन स्थल के रूप में विश्व के मानचित्र में स्थान दिलाने का प्रयास किया जा रहा है। वाटर टूरिज्म तथा एडवेंचर टूरिज्म के लिए कोरबा जिले के सतरेंगा, धमतरी जिले के मेडम सिल्ली डेम जिसका नामकरण हमने बाबू छोटे लाल श्रीवास्तव के नाम पर किया है तथा रविशंकर डेम गंगरेल, गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही जिले के मलानिया जलाशय, कांकेर जिले के दुधावा जलाशय, महासमुन्द जिले के कोडार डेम, बिलासपुर जिले में संजय गांधी जलाशय खुंटाघाट-रतनपुर में अधोसंरचना का विकास किया जा रहा है।

सीएम बघेल ने कहा कि राम वनगमन पथ में आने वाले 75 स्थानों का चयन अधोसंरचना विकास के लिए किया गया है, जिसके प्रथम चरण में 9 स्थानों जैसे सीतामढ़ी हरचौका, रामगढ़, शिवरीनारायण, तुरतुरिया, चंदखुरी, राजिम, सिहावा सप्तऋषि आश्रम, जगदलपुर तथा रामाराम में समुचित अधोसंरचना के विकास का काम शुरू किया गया है। दामाखेड़ा में कबीर सागर के विकास का काम हाथ में लिया गया है।

सूरजपुर की पहाड़ी में स्थित बागेश्वरी मंदिर और कुदरगढ़ में रोप वे सहित समुचित अधोसंरचना का विकास किया जा रहा है। रायपुर का बूढ़ातालाब एक ओर जहां आदिवासी समाज के पूज्य बूढ़ादेव की याद दिलाता है, वहीं स्वामी विवेकानंद के रायपुर प्रवास की स्मृति भी ताजा करता है। इस तरह हमने आम जनता के लिए किफायती और स्वस्थ मनोरंजन स्थलों के विकास को प्राथमिकता दी है, जो हमारे प्रदेश की सामाजिक, आर्थिक और सांस्कृतिक विशेषताओं से मेल खाते हैं। मुझे विश्वास है कि पर्यटन विकास को लेकर हमारी सोच का लाभ बड़े पैमाने पर मिलेगा, इससे स्थानीय विकास में बहुत गति मिलेगी तथा नए रोजगार के अवसर भी बनेंगे।

राज्य सरकार की अधोसंरचना विकास की नई सोच पर अपने विचार रखते हुए रायपुर के श्री नवीन अग्रवाल ने कहा कि ये सुनकर बहुत अच्छा लगता है कि बस्तर के दंतेवाड़ा जैसे सुदूर इलाके में सरकार के सहयोग से रेडीमेड कपड़ों की इंडस्ट्री खुली है और डेनेक्स ब्रांड लांच हुआ है। उन्होंने सड़क, बिजली और कनेक्टीविटी को लेकर मुख्यमंत्री का विजन जानना चाहा। कोरबा जिले की गेवरा की गीत तिवारी ने कहा कि छत्तीसगढ़ की ‘नवा चिन्हारी सस्ता बिजली जम्मो दुआरी’। आपने हम सबको देश में सबसे सस्ती बिजली, वह भी आधी कीमत पर उपलब्ध कराई है।

मुख्यमंत्री ने इन श्रोताओं जिज्ञासा के संबंध में कहा कि मुझे यह सुनकर अच्छा लगा कि दंतेवाड़ा के ब्रांड डेनेक्स की धमक राजधानी रायपुर में ठीक ढंग से सुनी गई। मैं आपकी बात से सहमत हूं कि छत्तीसगढ़ कंज्यूमर नहीं बल्कि उत्पादक राज्य है। आपको याद होगा कि मैंने बिजली के बारे में कहा था कि हमें सिर्फ उत्पादक राज्य नहीं बने रहना है, बल्कि उपभोक्ता राज्य भी बनना है। मैं नहीं चाहता कि हमारे राज्य के बहुमूल्य संसाधनों का उपयोग करके देश और दुनिया के दूसरे हिस्से के लोग तो समृद्ध और खुशहाल हो जाएं लेकिन छत्तीसगढ़ के लोग हमेशा संघर्ष ही करते रहें।

मेरा मानना है कि बांध बनें तोे नहर-नालियों का निर्माण उसके साथ जुड़ा होना चाहिए। बिजली का उत्पादन ठीक से हो तो उसे कारखानों, अस्पतालों, घरों, दफ्तरों, खेतों में पहुंचाने के लिए पूरा नेटवर्क बनें। सड़कों का नेटवर्क पुल-पुलियों के बिना अधूरा है। लोगों से जुड़े सरकारी काम-काज के लिए भवन बने तो वहां पहुंचने के लिए सड़कें भी चाहिए। अगर ऐसा नहीं होता तो निर्माण पर लगी मोटी रकम बरबाद हो जाती है। दुर्भाग्य से पिछले डेढ़-दो दशक में छत्तीसगढ़ को ऐसी ही परिस्थितियों से दो-चार होना पड़ा था। इसलिए हम चंद महंगी और सजावटी सड़कों-भवनों की बात नहीं करना चाहते। बल्कि नेटवर्क कम्पलीट करने के बारे में बात करते हैं। अधोसंरचना विकास को लेकर मेरी यही सीधी और स्पष्ट सोच है।

जवाहर सेतु योजना में बनाए जा रहे है 200 बड़े पुल-पुलिया
मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने ‘जवाहर सेतु योजना’ लाई जो सड़कों को पुल-पुलियों से जोड़ने की योजना है। दो साल में हमने लगभग 200 बड़े पुल-पुलिया बनाने का काम हाथ में लिया और उसे पूरा कर रहे हैं।

‘मुख्यमंत्री सुगम सड़क योजना’: सरकारी दफ्तरों को जोड़ने बन रहीं 2200 सड़कें

सीएम बघेल ने कहा कि हमने ‘मुख्यमंत्री सुगम सड़क योजना’ लाई, जिसके तहत लगभग 2200 ऐसी सड़कें बना रहे हैं, जो सरकारी दफ्तरों को जोड़ती हैं। बिजली में भी हमने ऐसा ही किया। जहां किसी प्राकृतिक आपदा या दुर्घटना से ब्लैक आउट हो जाता था, उन अंचलों में बिजली के ट्रांसमिशन और डिस्ट्रीब्यूशन का नेटवर्क पूरा किया, जिससे वहां दोहरी-तिहरी ओर से आपूर्ति की व्यवस्था हो जाए। बस्तर इसका एक बड़ा उदाहरण है। इसके साथ पूरे राज्य में बिजली उप केन्द्रों, पारेषण व वितरण लाइनों का जाल बिछा रहे हैं, जिसके कारण बसाहटों में विद्युतीकरण का नया कीर्तिमान बना है और बिजली बिल हाफ करने का वादा निभाना भी संभव हुआ है। उन्होंने कहा कि इस तरह हमने राज्य की अधोसंरचना को संतुलित और विस्तृत करने पर जोर दिया ताकि यह विश्वसनीय बने।

नई उद्योग नीति स्थानीय संसाधनों के वेल्यू एडीशन के आधार पर

मुख्यमंत्री ने कहा कि स्थानीय संसाधनों के वेल्यू एडीशन के आधार पर ही हमने नई उद्योग नीति बनाई। प्रदेश में राजस्व प्रशासन को सरल बनाया। हमारी इस कार्यप्रणाली और विश्वसनीयता के कारण खनिज, कृषि- उपज, वनोपज जैसे अन्य संसाधनों के बारे में निवेशकों की समझ बढ़ी। यही वजह है कि जब दुनिया में आर्थिक तंगी का शोर था तब हमारे छत्तीसगढ़ के बाजारों में जोर था। हमारी जमीनी सोच और वास्तविकता के धरातल पर रहकर, सही कदम उठाने की नीतियों से ही छत्तीसगढ़ दुनिया का पसंदीदा निवेश स्थल बन रहा है। मुझे विश्वास है कि इसी रास्ते पर चलते हुए अनेक नए ब्रांड छत्तीसगढ़ की धरती से ही उपजेंगे। गांव-गांव में महिला स्व-सहायता समूह तथा प्रतिभावान युवाओं के नवाचार से एक नया रास्ता बनना शुरू हो चुका है।

लोकवाणी में बस्तर जिले के मनीष मूलचन्दानी ने बस्तर जैसे दूरस्थ अंचल में राज्य सरकार की पहल से वायुयान सेवा प्रारंभ होने को सुखद बताया। इसी तरह बस्तर के  रेणुकांत जोशी ने जगलदपुर के महारानी अस्पताल को सर्वसुविधायुक्त और निजी अस्पताल के जैसा बनाने के लिए मुख्यमंत्री के प्रति आभार जताया।

बस्तर से देश की सर्वाधिक वनोपज खरीदी

मुख्यमंत्री ने इस संबंध में कहा कि बस्तर से ऐसी खबरें सुनने के लिए बरसों से हमारे कान तरस रहे थे। मेरा मानना है कि नीति आयोग देश के 115 आकांक्षी जिलों की डेल्टा रैंकिंग में बीजापुर को पहला स्थान देता है। अलग-अलग मापदण्डों में जब कोण्डागांव, नारायणपुर, सुकमा जैसे जिले, देश में अव्वल आते हैं तो इसके पीछे किसी अधोसंरचना का योगदान होता है। जब लॉकडाउन के दौरान बस्तर से देश की सर्वाधिक वनोपज खरीदी होती है या पूरे प्रदेश में समर्थन मूल्य पर धान खरीदी का नया कीर्तिमान बनता है तो भी एक अधोसंरचना ही काम करती है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हमने मानव विकास की जिस अधोसंरचना के निर्माण का सपना देखा है, उसकी हमारे प्रदेश के ग्रामीणों, अनुसूचित जनजाति, अनुसूचित जाति और पिछड़े वर्ग, कमजोर और मध्यम वर्ग, माताओं, बहनों, बच्चों, जवानों की आंखों में दिखने लगी है और इसी चमक के रास्ते से पूरा प्रदेश, एक नई तरह की जगमगाहट पैदा कर रहा है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ को भविष्य में उत्पादक राज्य भी बनना है और उपभोक्ता राज्य भी यही है हमारा ‘गढ़बो नवा छत्तीसगढ़।’

advt_02 - Copy
advt_04 - Copy
advt_01 - Copy
advt_03 - Copy
advt_02 - Copy advt_04 - Copy advt_01 - Copy advt_03 - Copy

Share This Now :
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Special News

CG में बॉलीवुड फिल्म और वेब सीरीज की शूटिंग,खैरागढ़ विश्वविद्यालय बना 1947 के जमाने का महल

Published

on

Share This Now :

रायपुर 21 नवम्बर 2022: छत्तीसगढ़ के शहरों में लाइट कैमरा और एक्शन वाला माहौल देखा जा रहा है। एक बॉलीवुड फिल्म और वेब सीरीज की शूटिंग शुरू हो चुकी है। इन्हें रायपुर, खैरागढ़, कवर्धा, कांकेर जैसे आस-पास के शहरों में शूट किया जा रहा है। आने वाले कुछ हफ्तों में और भी बड़े स्टार्स और प्रोजेक्ट की शूटिंग शुरू होने जा रही है।

cnt_05nov22
3- 13 sep 2022
4 - 13 sep 2022
1 -13 sep 22
2 - 13 sep 22

फिल्म पॉलिसी में प्रदेश सरकार के सलाहकार गौरव द्विवेदी ने बताया कि खैरागढ़ में डायरेक्टर आकाश आदित्य की फिल्म शबरी का मोहन शूट हो रही है। ये 1947 के जमाने के एक राजा की कहानी है। दिलचस्प बात ये है कि इस फिल्म में राजा का महल जिस जगह को दिखाया जा रहा है, वो खैरागढ़ संगीत विश्वविद्यालय है। किसी जमाने में ये खैरागढ़ रियासत का महल ही हुआ करता था, जहां आज यूनिवर्सिटी संचालित है। फिल्म में खैरागढ़ की मयूरी सिंह भी एक्टिंग कर रही हैं।

मयूरी सिंह ने रायपुर से पत्रकारिता की पढ़ाई के बाद कुछ समय मुंबई में फिल्म मेकिंग सीखीं। खैरागढ़ में शूट हो रही पहली बॉलीवुड मूवी में मयूरी सिंह भी दिखाई देंगी। फिल्म के कलाकारों का फर्स्ट लुक भी सामने आया, जिसमें वो बंगाली आउट फिट्स में दिख रहे हैं।

काम के मामले में मुंबई से कम नहीं

रायपुर में डायरेक्टर तारीक खान अपनी वेब सीरीज एर्नाकी शूट कर रहे हैं। रायपुर के अलग-अलग कई लोकेशंस पर इस सीरीज के पहले हिस्से को शूट किया जा चुका है। फिल्म के डायरेक्टर तारीक खान ने बताया कि उन्हें रायपुर की लोकेशंस पर काम करके काफी मजा आया और ये शहर सुविधा और काम के मामले में मुंबई से कम नहीं है।

मुंबई के फिल्म मेकर आकाश आदित्य शबरी का मोहन बॉलीवुड फिल्म पर काम शुरु कर चुके हैं। इसमें जूही परमार राजपाल यादव, सोहेला कपूर जैसे स्टार नजर आएंगे। खैरागढ़ में इसकी शूटिंग शुरू हो चुकी है। इसे कांकेर और कवर्धा में भी फिल्माया जाएगा।

दिसंबर में आरा की अनारकली फिल्म के निर्देशक अविनाश दास मुनुरेन फिल्म की शूट छत्तीसगढ़ में करेंगे। इसमें उषा जाधव जैसी नेशनल अवॉर्ड विनिंग कलाकार नजर आएंगी । इसे जशपुर में शूट किया जाएगा।

एक नए कॉन्सेप्ट की वेब सीरीज मिसेस फलानी शूट करने के लिए मनीष किशोर रायपुर आएंगे । इस वेब सीरीज में लीड एक्ट्रेस स्वरा भास्कर हैं। इसमें वह अलग-अलग नौ किरदार निभाती दिखेंगी। रायपुर और आसपास के इलाकों में इस फिल्म के लिए लोकेशंस देखी जा रही है । दिसंबर में इस वेब सीरीज की शूटिंग शुरू हो सकती है।

एक माह पहले आए थे अक्षय

छत्तीसगढ़ के रायगढ़ शहर में 1 माह पहले बॉलीवुड के खिलाड़ी कहे जाने वाले अक्षय कुमार फिल्म की शूटिंग करने पहुंचे थे। अक्षय कुमार की शूटिंग देखने फैंस की भारी भीड़ जमा हो गई थी। लोग अक्षय-अक्षय का शोर मचाने लगे थे। ये देख अक्षय कुमार ने भी मस्ती की। वो उछलकर फैंस के करीब पहुंच गए लोगों से हाथ मिलाया। एक बच्चा भीड़ में परेशान था, उसके साथ आए लोगों को देखकर अक्षय ने कहा भाई बच्चे को संभाल के कहीं लग न जाए।

रायगढ़ में फिल्म की शूटिंग

ये शूटिंग रायगढ़ के जिंदल हवाई पट्‌टी पर की गई । अक्षय कुमार ने देखा कि हवाई पट्‌टी के किनारे बनी जालियों के पास लोगों की भीड़ जमा है। इस वजह से बॉलीवुड एक्टर लोगाें का अभिवादन स्वीकारने पहुंचे। अक्षय कुमार यहां तमिल फिल्म का हिंदी रीमेक बना रहे थे। ये फिल्म देश में सबसे सस्ती एयरलाइंस और उसके संघर्ष के प्लॉट पर आधारित है।

रायपुर आईं थीं ईशा कोप्पिकर

बॉलीवुड एक्ट्रेस इशा कोप्पिकर 4 दिन पहले रायपुर पहुंचीं थीं। दैनिक भास्कर और सहेली ज्वेलर्स के कार्यक्रम में इशा शामिल हुईं। उन्होंने सदर बाजार स्थित स्टोर भी विजिट किया। यहां लोगों से मुलाकात की। इशा ने इस दौरान अपनी जिंदगी और फिल्मों से जुड़े प्रोजेक्ट्स के बारे में बताया। इशा बॉलीवुड की उन चुनिंदा अदाकाराओं में से हैं जो साइंस ग्रैजुएट हैं, बास्केट बॉल प्लेयर रही हैं और ताईक्वांडो में ब्लैक बेल्ट हैं।

advt_02 - Copy
advt_04 - Copy
advt_01 - Copy
advt_03 - Copy
advt_02 - Copy advt_04 - Copy advt_01 - Copy advt_03 - Copy

Share This Now :
Continue Reading

Special News

फिल्म An Action Hero में जबरदस्त आइटम नंबर करते दिखीं नोरा फ़तेहि

Published

on

Share This Now :

मुंबई 18 नवम्बर 2022: एक्टर आयुष्मान खुराना (Ayushman Khurana) की अपकमिंग थ्रिलर फिल्म ‘एन एक्शन हीरो’ (An Action Hero) के निर्माताओं ने गुरुवार को इसके पहले गीत ‘जेहदा नशा’ को रिलीज किया है। इस गाने ने आते साथ धूम मचा दिया है। गजब का ड्रेसअप और मूव्स से भरे इस गाने में Nora Fatehi गजब ढा रही हैं।

cnt_05nov22
3- 13 sep 2022
4 - 13 sep 2022
1 -13 sep 22
2 - 13 sep 22

बता दें कि आयुष्मान खुराना (Ayushman Khurana) ने इंस्टाग्राम पर गाने की एक झलक शेयर की है। जिसके कैप्शन में उन्होंने लिखा, “#JedhaNasha एक बार फिर आप पर अपना जादू चलाने के लिए तैयार है।”

इस गाने को अमर जलाल, आईपी सिंह, योहानी और हरजोत कौर (Amar Jalal, IP Singh, Yohani, Harjot Kaur) ने शानदार तरह से गाया है। इस सॉन्ग को अमर जलाल और बल्ला जलाल ने लिखा है। यह गाना एक डांसिंग ट्रैक है जिसमें आयुष्मान खुराना और Nora Fatehi ने बेहतरीन डांस किया है। दोनो ऑफ व्हाइट कलर का ड्रेस पहना है।

गाने में Nora Fatehi वाइट कलर की वन पीस पहनी है, जिसमें वह गजब ढा रही हैं। वहीं आयुष्मान ने वाइट कलर का पेंट और शर्ट पहने हुए हैं। इस गाने के अलावा फिल्म में मलाइका अरोड़ा भी आइटम नंबर करते नजर आएंगी।

आपको बता दें, यह फिल्म 2 दिसंबर, 2022 को सिनेमाघरों में लगने को तैयार है। फिल्म में जबरदस्त एक्शन सीन फिल्माए गए हैं। फिल्म निर्माताओं ने इस थ्रिलर फिल्म के आधिकारिक ट्रेलर को अन्वील किया था। जिसे दर्शकों से भारी रिएक्शन मिला है। अनिरुद्ध अय्यर द्वारा निर्मित, इस फिल्म में जयदीप अहलावत भी लीड में नजर आएंगे।

advt_02 - Copy
advt_04 - Copy
advt_01 - Copy
advt_03 - Copy
advt_02 - Copy advt_04 - Copy advt_01 - Copy advt_03 - Copy

Share This Now :
Continue Reading

Special News

काफी समय से सुनने में हो रही थी दिक्कत, शख्स ने चेक कराया तो पता चला की 5 साल से फंसा है Earbuds

Published

on

Share This Now :

इंग्लैंड 17 नवम्बर 2022: आज से इस हाईटेक जमाने में हमें कई तरह के सुविधा मिलने लगा है। हेडफोन और Earbuds जैले कई तरह की चीजें आज हम इस्तेमाल करते हैं। यह वायरलेस डिवाइस जहां कई मायनों में काफी अच्छा है तो इसके कुछ खतरे भी हैं। खतरा भी ऐसा जो जान पे बन आए या आपकी सुनने की क्षमता भी खत्म कर दे। हाल ही में ऐसा ही एक मामला सामने आया है। जहां एक शख्स को कई दिनों तक सुनने में दिक्कत आने लगी, जिसके बाद चेकअप में जो पता चला उसे देशकर उसके होश उड़ गए।

cnt_05nov22
3- 13 sep 2022
4 - 13 sep 2022
1 -13 sep 22
2 - 13 sep 22

इस वजह से गया कान के अंदर

रॉयल नेवी में काम करने वाले इंग्लैंड के विलिस ली 5 साल पहले परिवार से मिलने ऑस्ट्रेलिया जा रहे थे। फ्लाइट में एयरप्लेन के शोर से बचने के लिए उन्होंने कानों में Earbuds लगा लिया। जब वह ऑस्ट्रेलिया पहुंचे तो इयरबड को कान से निकालना भूल गए। धीरे-धीरे वह Earbuds उनके कान के अंदर घुस गया। इसके बाद विलिस ली को धीरे-धीरे उन्हें सुनने में दिक्कत होने लगी। शुरू में उन्हें लगा कि एविएशन इंडस्ट्री में लंबे समय से काम करने की वजह से उन्हें ठीक से सुनाई नहीं दे रहा है।

खुद ही चेक किया तो हकीकत का पता चला

इसके अलावा विलिस ली को यह भी लगा कि जवानी के दिनों में जब वह रग्बी खेला करते थे तो उनके कान में चोट लगी थी। हो सकता है कि उसी वजह से उन्हें सुनने में दिक्कत हो रही है। दिक्कत लगातार बढ़ने पर उन्होंने एंडोस्कोप किट खरीदी और घर पर ही कान को चेक करने का फैसला किया।

इस दौरान उन्हें पता चला कि कोई सफेद चीज उनके कान में फंसी हुई है। यह पता चलते ही बिना समय बर्बाद किए उन्होंने डॉक्टर से संपर्क किया। डॉक्टर ने उस Earbuds को बाहर निकाला तो उन्हें ठीक से सुनाई देने लगा। 5 साल तक उनके कान में Earbuds फंसा हुआ था।

advt_02 - Copy
advt_04 - Copy
advt_01 - Copy
advt_03 - Copy
advt_02 - Copy advt_04 - Copy advt_01 - Copy advt_03 - Copy

Share This Now :
Continue Reading

Something New!!!!

RO-NO-12200/24

RO-NO-12200/24

RO-NO-12172/78

RO-NO-12141/77

RO-NO-12111/80





RO-NO-12078/75

Advertisement

Chhattisgarh Trending News

राज्य एवं शहर28 mins ago

कफन रैली में बेहोश हुई महिला, अनुकंपा नियुक्ति के लिए विधवा महिलाओं ने निकाली रैली

रायपुर. अनुकंपा नियुक्ति की मांग को लेकर 42 दिनों से विधवा महिलाएं राजधानी में धरने पर बैठी हैं. इन्होंने आज...

क्राइम3 hours ago

महादेव ऐप का सबसे बड़ा बुकी गिरफ्तार, दुबई में होने की अफवाह फैलाई, मगर भारत में ही छिपा था, दबाव बढ़ा तो खुद सरेंडर किया

दुर्ग पुलिस का ऑनलाइन सट्टा महादेव ऐप के खिलाफ कार्रवाई जारी है। इसकी वजह से बड़े सटोरियों में दहशत है।...

राज्य एवं शहर3 hours ago

छत्तीसगढ़ में पानी से बिजली बनाने की बड़ी योजना

छत्तीसगढ़ में पानी से 7700 मेगावाट बिजली बनाने की नई तकनीक पर काम शुरू हुआ है। यह पंप स्टोरेज हाइडल...

क्राइम3 hours ago

CG crime: पिता की हत्या कर कुएं में फेंकी लाश,सबूत छिपाने ऊपर से डाली झाड़ियां और कचरा,खून के छींटों ने खोल दी पोल

कोरबा जिले के रजगामार चौकी इलाके में अपने 65 साल के बुजुर्ग पिता की हत्या करने वाले आरोपी बेटे को...

क्राइम6 hours ago

हेड मास्टर ने की छात्रा से गंदी हरकत,लड़की ने बताई आप-बीती, फिर गिरफ्तार

कोंडागांव 30 नवम्बर 2022: छ्त्तीसगढ़ के कोंडागांव जिले में स्थित एक स्कूल के हेड मास्टर ने छात्रा के साथ छेड़छाड़...

Advertisement

CONNECT WITH US :

Country News Today Exclusive3 months ago

MLNC Enactus के प्रोजेक्ट ‘स्नेह’ द्वारा रियूजेबल कपड़े के डायपर उत्पादन से पर्यावरण बचाव के साथ-साथ मिला रहा रोजगार ; जानिए क्या है खासियत?

क्राइम3 months ago

शर्मनाक : रायपुर में नाबालिग ने की अमानवीयता की सारे हदें पार, 5 कुत्तों के ऊपर फेंका एसिड, 2 की मौत, वीडियो आया सामने

क्राइम3 months ago

CG BREAKING : रायपुर के तेलीबांधा तालाब में कूदकर आत्महत्या करने वाले युवक की लाश बरामद ; देखिए वीडियो

बॉलीवुड तड़का - Entertainment3 months ago

MMS Scandal : एमएमएस लीक कांड पर कच्चा बादाम फेम अंजली अरोरा की तीखी प्रतिक्रिया, अभद्र भाषा इस्तेमाल करते हुए कह डाली ये बात : देखिए वीडियो

राज्य एवं शहर3 months ago

CG : दुर्ग में शिवनाथ नदी खतरे के निशान से 15 फीट ऊपर, कई गांव डूबे, शहर में भी घुसा पानी, SDRF ने किया रेस्क्यू ; 4 साल पहले बना पुल धंसा : देखिए वीडियो

Top 10 News

Must Read

Special News1 week ago

CG में बॉलीवुड फिल्म और वेब सीरीज की शूटिंग,खैरागढ़ विश्वविद्यालय बना 1947 के जमाने का महल

रायपुर 21 नवम्बर 2022: छत्तीसगढ़ के शहरों में लाइट कैमरा और एक्शन वाला माहौल देखा जा रहा है। एक बॉलीवुड...

Special News2 weeks ago

फिल्म An Action Hero में जबरदस्त आइटम नंबर करते दिखीं नोरा फ़तेहि

मुंबई 18 नवम्बर 2022: एक्टर आयुष्मान खुराना (Ayushman Khurana) की अपकमिंग थ्रिलर फिल्म ‘एन एक्शन हीरो’ (An Action Hero) के...

Special News2 weeks ago

काफी समय से सुनने में हो रही थी दिक्कत, शख्स ने चेक कराया तो पता चला की 5 साल से फंसा है Earbuds

इंग्लैंड 17 नवम्बर 2022: आज से इस हाईटेक जमाने में हमें कई तरह के सुविधा मिलने लगा है। हेडफोन और...

Special News2 weeks ago

फ्लिपकार्ट ने शुरू की ओपन बॉक्स डिलीवरी, अब नहीं होगी गलत सामान की डिलीवरी

दिल्ली 17 नवम्बर 2022: ऑनलाइन शॉपिंग के बढ़ते क्रेज के बीच कस्टमर्स को डैमेज्ड और गलत प्रोडक्ट्स की डिलिवरी के...

Special News2 weeks ago

बैक टू बैक छत्तीसगढ़ आएंगे बॉलीवुड एक्टर्स:स्वरा भास्कर, राजपाल यादव, जूही परमार जैसे स्टार्स पहुंचेंगे

रायपुर 14 नवम्बर 2022: राजधानी रायपुर और इसके आस-पास के इलाकों में जल्द ही बॉलीवुड स्टार्स का आना-जाना शुरू होने...

Advertisement

Trending