Connect with us

आस्था

Navratri 2021 3rd Day : नवरात्रि के तीसरे दिन होती है मां चंद्रघंटा की पूजा, जानिए विधि, महत्व, मंत्र और आरती

Published

on

Share This Now :

आस्था डेस्क : नवरात्रि का पावन पर्व देशभर में मनाया जा रहा है। नवरात्रि के नौ दिनों में मां के नौ रूपों की पूजा- अर्चना की जाती है। नवरात्रि का तीसरे दिन मां के तीसरे स्वरूप माता चंद्रघंटा की पूजा- अर्चना की जाती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार माता चंद्रघंटा को राक्षसों की वध करने वाला कहा जाता है। ऐसा माना जाता है मां ने अपने भक्तों के दुखों को दूर करने के लिए हाथों में त्रिशूल, तलवार और गदा रखा हुआ है। माता चंद्रघंटा के मस्तक पर घंटे के आकार का अर्धचंद्र बना हुआ है, जिस वजह से भक्त मां को चंद्रघंटा कहते हैं। आइए जानते हैं नवरात्रि के तीसरे दिन की पूजा विधि, महत्व, मंत्र और कथा…

RO-NO-12027/80

RO-NO-12027/80
RO-NO-12027/80
RO-NO-12027/80

नवरात्रि तृतीय दिन पूजा विधि…

  • नवरात्रि के तीसरे दिन विधि- विधान से मां दुर्गा के तीसरे स्वरूप माता चंद्रघंटा की अराधना करनी चाहिए। मां की अराधना उं देवी चंद्रघंटायै नम: का जप करके की जाती है। माता चंद्रघंटा को सिंदूर, अक्षत, गंध, धूप, पुष्प अर्पित करें। आप मां को दूध से बनी हुई मिठाई का भोग भी लगा सकती हैं। नवरात्रि के हर दिन नियम से दुर्गा चालीस और दुर्गा आरती करें।

मां चन्द्रघंटा का स्त्रोत मंत्र:

ध्यान वन्दे वाच्छित लाभाय चन्द्रर्घकृत शेखराम।

सिंहारूढा दशभुजां चन्द्रघण्टा यशंस्वनीम्घ

कंचनाभां मणिपुर स्थितां तृतीयं दुर्गा त्रिनेत्राम।

खड्ग, गदा, त्रिशूल, चापशंर पद्म कमण्डलु माला वराभीतकराम्घ

पटाम्बर परिधानां मृदुहास्यां नानालंकार भूषिताम।

मंजीर हार, केयूर, किंकिणि, रत्‍‌नकुण्डल मण्डिताम्घ

प्रफुल्ल वंदना बिबाधारा कांत कपोलां तुग कुचाम।

कमनीयां लावाण्यां क्षीणकटिं नितम्बनीम्घ

स्तोत्र आपद्धद्धयी त्वंहि आधा शक्तिरू शुभा पराम।

अणिमादि सिद्धिदात्री चन्द्रघण्टे प्रणमाम्यीहम्घ्

चन्द्रमुखी इष्ट दात्री इष्ट मंत्र स्वरूपणीम।

धनदात्री आनंददात्री चन्द्रघण्टे प्रणमाम्यहम्घ

नानारूपधारिणी इच्छामयी ऐश्वर्यदायनीम।

सौभाग्यारोग्य दायिनी चन्द्रघण्टे प्रणमाम्यहम्घ्

कवच रहस्यं श्रणु वक्ष्यामि शैवेशी कमलानने।

श्री चन्द्रघण्टास्य कवचं सर्वसिद्धि दायकम्घ

बिना न्यासं बिना विनियोगं बिना शापोद्धरं बिना होमं।

स्नान शौचादिकं नास्ति श्रद्धामात्रेण सिद्धिकमघ

कुशिष्याम कुटिलाय वंचकाय निन्दकाय च।

मां चंद्रघंटा की पूजा का महत्व

  • मां चंद्रघंटा की कृपा से  ऐश्वर्य और समृद्धि के साथ सुखी दाम्पत्य जीवन की प्राप्ति होती है।
  • विवाह में आ रही समस्याएं दूर हो जाती हैं।

मां चंद्रघंटा की आरती

जय मां चंद्रघंटा सुख धाम।

पूर्ण कीजो मेरे सभी काम।

चंद्र समान तुम शीतल दाती।चंद्र तेज किरणों में समाती।

क्रोध को शांत करने वाली।

मीठे बोल सिखाने वाली।

मन की मालक मन भाती हो।

चंद्र घंटा तुम वरदाती हो।

सुंदर भाव को लाने वाली।

हर संकट मे बचाने वाली।

हर बुधवार जो तुझे ध्याये।

श्रद्धा सहित जो विनय सुनाएं।

मूर्ति चंद्र आकार बनाएं।

सन्मुख घी की ज्योति जलाएं।

शीश झुका कहे मन की बाता।

पूर्ण आस करो जगदाता।

कांचीपुर स्थान तुम्हारा।

करनाटिका में मान तुम्हारा।

नाम तेरा रटूं महारानी।

भक्त की रक्षा करो भवानी।

Share This Now :
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

आस्था

वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे में जिस जगह पर शिवलिंग मिला उसे तुरंत सील करने का कोर्ट ने दिया आदेश ; वजू पर पाबंदी

Published

on

Share This Now :

वाराणसी : वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे का काम आज तीसरे दिनपूरा हो गया। सर्वे पूरा होने के बाद हिंदू पक्ष ने दावा किया कि-‘बाबा मिल गए।’ कहा गया कि सर्वे में ‘काला पत्‍थर’ मिला जो शिवलिंग है। जितना सोचा था उससे ज्‍यादा साक्ष्‍य मिले हैं।

RO-NO-12027/80

RO-NO-12027/80
RO-NO-12027/80
RO-NO-12027/80

सर्वे के बाद हिंदू पक्ष ने शिवलिंग के संरक्षण के लिए कोर्ट का दरवाजा खटखटाया जिस पर वाराणसी कोर्ट ने डीएम को आदेश दिया कि जिस स्‍थान पर शिवलिंग प्राप्‍त हुआ है, उसे तत्‍काल सील कर दें। किसी भी व्‍यक्ति को वहां जाने न दें। कोर्ट ने इसकी जिम्‍मेदारी जिला प्रशासन और सीआरपीएफ को दी है।

कोर्ट ने शिवलिंग की जगह को सील करने के आदेश के साथ ही साथ ही अधिकारियों की व्‍यक्तिगत जिम्‍मेदारी भी तय कर दी है। कोर्ट ने अपने आदेश में कहा- ‘जिलाधिकारी, पुलिस कमिश्‍नर और सीआरपीएफ कमांडेट को आदेशित किया जाता है कि जस स्‍थान को सील किया गया है, उस स्‍थान को संरक्षित और सुरक्षित रखने की पूर्णत: व्‍यक्तिगत जिम्‍मेदारी उपरोक्‍त समस्‍त अधिकारियों की व्‍यक्तिगत रूप से मानी जाएगी।’

मुस्लिम पक्ष ने हिंदू पक्ष का दावा नकारा

ज्ञानवापी सर्वे पूरा होते ही हिंदू पक्ष ने वहां शिवलिंग मिलने का दावा किया। हिंदू पक्षकार सोहनलाल आर्य ने कहा कि जितना सोचा था उससे अधिक साक्ष्‍य मिले हैं। हालांकि मुस्लिम पक्ष इस दावे को पूरी तरह से नकार रहा है। मुस्लिम पक्ष का दावा है कि ज्ञानवापी मस्जिद में ऐसा कुछ नहीं मिला है जिसका दावा हिंदु पक्ष कर रहा है। इस दावे और उसके खिलाफ प्रतिदावे के बीच कोर्ट कमिश्‍नर अजय कुमार मिश्र ने कोर्ट की गाइडलाइन का हवाला देते हुए शिवलिंग पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। प्रशासन ने भी ऐसे दावे से पल्‍ला झाड़ते हुए लोगों से अपील की कि वे सिर्फ अधिकारिक बयान पर ही ध्‍यान दें। प्रशासन की ओर कहा गया कि यदि किसी भी पक्षकार ने अपनी निजी इच्‍छा से कोई बात बताई है तो यह उसका निजी विचार है।

वजू पर लगी पाबंदी 

सर्वे पूरा होने के थोड़ी देर बाद ही शिवलिंग का मामला कोर्ट भी पहुंच गया। कोर्ट ने अपने हिंदू पक्ष के दावे के बाद अपने आदेश में शिवलिंग के आसपास जाने पर रोक लगा दी। वहां वजू पर भी पाबंदी लगाई गई है।

कल होगी सुनवाई 

कोर्ट के आदेश के मुताबिक अब सिर्फ 20 लोग ही नमाज के लिए जा सकते हैं। कोर्ट के आदेश पर ज्ञानवापी मस्जिद परिसर का सर्वे तीन दिन और कुल 10 घंटे चला। कोर्ट कमिश्‍नर अजय कुमार मिश्र कल सर्वे रिपोर्ट दाखिल करेंगे। इसके बाद अदालत तय करेगी कि ज्ञानवापी का सच क्‍या है?

Share This Now :
Continue Reading

आस्था

Happy Buddh Purnima 2022 : जीवन में सफलता पाने के लिए अपनाएं बुद्ध की ये बातें, कभी नहीं होगी हार

Published

on

Share This Now :

आज बुद्ध पूर्ण‍िमा है. अगर आप जीवन में पिछड़ रहे हैं या आपके हाथ सफलता नहीं लग रही है तो आप बुद्ध की इन बातों का अनुसरण करें. आपको कभी हार का सामना नहीं करना पड़ेगा.


आस्था डेस्क : आज बुद्ध पूर्ण‍िमा है और यह बौद्ध धर्म के अनुयायियों के लिए प्रमुख धार्मिक त्योहारों में से एक है. यह भगवान बुद्ध के जन्म, ज्ञान और पुण्यतिथि को चिन्‍ह‍ित करने के लिए मनाया जाता है. भगवान बुद्ध का जन्म नेपाल के लुंबिनी में शाक्य वंश में राजा शुद्धोधन और माया देवी के पुत्र के रूप में हुआ था. बुद्ध के बचपन का नाम सिद्धार्थ गौतम था. 29 वर्ष की आयु में अपना घर छोड़ने के बाद, वह निर्वाण या ज्ञान की तलाश में थे जो उन्हें केवल 49 दिनों में मिला था.

RO-NO-12027/80

RO-NO-12027/80
RO-NO-12027/80
RO-NO-12027/80

बता दें कि बुद्ध पूर्णिमा ना केवल भारत और नेपाल में, बल्‍क‍ि दुनिया भर में मनाए जाने वाले बौद्धों का एक प्रमुख धार्मिक त्योहार है. बुद्ध पूर्णिमा को भगवान बुद्ध की जयंती और पुण्यतिथि दोनों के रूप में मनाया जाता है.

भगवान बुद्ध के जीवन की ऐसी बहुत सी बातें हैं, जिन्‍हें अगर आप अपने जीवन में उतार लें तो आपको सफलता पाने से कोई नहीं रोक सकता है. नीचे हमने कुछ ऐसी बातों का उल्‍लेख कर रखा है.

  • हर चीज को संदेह से देखें. अपनी खुद की रोशनी की तलाश करें.
  • – भूतकाल में मत जियो, भविष्य के सपने मत देखो, मन को वर्तमान क्षण पर केंद्रित करो.
  • – एक हजार खोखले शब्दों से बेहतर, एक ऐसा शब्द है जो शांति लाता है.
  • – शांति अंतर्मन से आती है. इसके बिना कुछ मत खोजो.
  • -अंत में, केवल तीन चीजें मायने रखती हैं: आप कितना प्रेम किया, आपने कितना सौम्य जीवन जिया, और आपने कितनी खूबसूरती से उन चीजों को जाने दिया जो आपके लिए नहीं थीं.
  • – हर चीज को संदेह से देखें. अपनी खुद की रोशनी की तलाश करें.
Share This Now :
Continue Reading

आस्था

Video : बुद्ध पूर्णिमा के दिन लगा साल का पहला चंद्र ग्रहण, अर्जेंटीना में दिखा अलग नजारा ; ग्रहण के बारे में जानिए हर एक डिटेल और पढ़ें 10 जरूरी बातें

Published

on

Share This Now :

  • चंद्र ग्रहण भारतीय समय के अनुसार सुबह 8:59 बजे से आरंभ हो चुका है जो 10:23 बजे तक रहा। भारत में इस चंद्र ग्रहण का प्रभाव नहीं पड़ेगा।
  • पहला चंद्रगहण वैशाख पूर्णिमा, बुद्ध पूर्णिमा पर विशाखा नक्षत्र और वृश्चिक राशि में लगेगा।

Chandra Grahan : आज साल का पहला चंद्र ग्रहण लगा। यह चंद्र ग्रहण बैशाख शुक्ल की पूर्णिमा तिथि पर लगा है। हालांकि यह ग्रहण भारत में नहीं दिखाई दिया। ग्रहण के अच्छे और बुरे दोनों प्रभाव होते हैं, क्योंकि यह भारत में नहीं दिखेगा इसलिए इस चंद्र ग्रहण का सूतक भारत में मान्य नहीं होगा।

RO-NO-12027/80

RO-NO-12027/80
RO-NO-12027/80
RO-NO-12027/80

अर्जेंटीना में दिखा अलग नजारा, देखें वीडियो

साल का पहला चंद्र ग्रहण लगने के बाद दुनिया के कई देशों से इसके अलग-अलग नजारे देखने को मिल रहे हैं। अर्जेंटीना से सबसे पहले एक वीडियो सामने आया है।

ग्रहण खत्म होने पर इन चीजों का करना है जरूरी

चंद्र ग्रहण समाप्त हो गया है, इस बीच आपको क्या करना है इसका पता होना बेहद जरूरी है। जैसे ही ग्रहण खत्म हो तो तुलसी के पौधे समेत पूरे घर में गंगाजल का छिड़काव करें। दूसरी और ग्रहण खत्म होते ही गर्भवती महिला को तुरंत स्नान करना चाहिए।

80 साल बाद चंद्र ग्रहण पर बना ऐसा सहयोग

ज्योतिषाचार्यों की ज्योतिषीय गणना के आधार पर इस बार चंद्र ग्रहण पर ग्रहों और नक्षत्रों का ऐसा संयोग बना है जो पिछले 80 साल पहले बना था। इस बार चंद्र ग्रहण विशाखा नक्षत्र और परिघ योग में बन रहा है। इसके अलावा चंद्र ग्रहण के दौरान गुरू और शनि देव अपनी स्वराशि में मौजूद रहेंगे। यह ग्रहण वैशाख पूर्णिमा, बुद्ध पूर्णिमा, विशाखा नक्षत्र और वृश्चिक राशि में लग रहा है।

Blood Moon- इन राशि वाले लोगों को होगा चंद्र ग्रहण से फायदा

मेष राशि – चंद्रग्रहण के दौरान बनने वाले दो शुभ योग के कारण मेष राशि वालों के लाभ हो सकता है। करियर के लिहाज से यह समय बहुत बेहतर है। धन लाभ के योग बनेंगे। नौकरी पेशा करने वाले जातकों के लिए यह ग्रहण शुभ है। परिवार का कोई विवाद हल हो सकता है।

सिंह राशि – आगामी चंद्रग्रहण पर बनने वाले योग से सिंह राशि वालों को लाभ होगा। नौकरी में प्रमोशन की संभावनाएं हैं। आय के नए साधन बनेंगे। कोई जरूरी काम बन सकता है। वैवाहिक जीवन सुखद रहेगा। शादी-विवाह के प्रस्ताव मिल सकते हैं। धनु राशि – धनु राशि वालों के लिए ग्रहण बेहद लाभकारी है। तरक्की के नए रास्ते खुल सकते हैं। नई नौकरी मिलने के योग बनेंगे। व्यापारियों को धन लाभ हो सकता है। आर्थिक मोर्चे पर भी लाभ होगा। घर के सदस्यों का सहयोग मिलेगा।

Chandra Grahan 2022- जानिए 2022 में कितने लगेंगे चंद्र ग्रहण

साल 2022 में दो चंद्र ग्रहण का योग बन रहा है। 8 नवंबर को साल का अंतिम और दूसरा चंद्र ग्रहण लगेगा।

भारत में चंद्र ग्रहण का सूतक काल मान्य नहीं, जानिए गर्भवती महिलाओं पर ग्रहण का असर

भारत में चंद्र ग्रहण दिखाई नहीं देने के कारण इसका सूतक काल मान्य नहीं होगा। धार्मिक नजरिए से सूतक काल को अशुभ माना जाता है। चंद्र ग्रहण के दौरान सूतक काल का समय ग्रहण के शुरू होने के 9 घंटे पहले लग जाता है। सूतककाल के दौरान किसी भी तरह का शुभ कार्य नहीं किया जाता है ऐसी मान्यताएं पौराणिक काल से चली आ रही है।

ऐसी मान्यता है कि चंद्र ग्रहण या सूर्य ग्रहण पर गर्भवती महिला और उसके गर्भ में पल रहे बच्चे के लिए अपशकुन और नुकसानदेह साबित हो सकता है। ऐसा माना जाता है कि ग्रहण के दौरान सूर्य और चंद्र से निकल रही किरणों से गर्भस्थ शिशु पर नकारात्मक असर पड़ता है और इससे बच्चे में कई तरह की शारीरिक विकृतियां पैदा हो सकती हैं।

जानें कितने तरह का होता है चंद्र ग्रहण

चंद्र ग्रहण एक प्रकार का खगोलीय घटनाक्रम है। सूर्य और चंद्रमा के बीच एक समय ऐसा आता है जब पृथ्वी बीच में आ जाती है तब कुछ देर के लिए ऐसी स्थिति बन जाती है कि चंद्रमा के ऊपर सूर्य की चमक आनी बंद हो जाती है। इससे चंद्रमा दिखाई नहीं पड़ता है, इसे ही चंद्र ग्रहण कहते हैं। चंद्र ग्रहण तीन प्रकार का होता है पूर्ण चंद्र ग्रहण,आंशिक चंद्र ग्रहण और उपछाया चंद्र ग्रहण।

ज्योतिष में चंद्र ग्रहण को अशुभ घटना माना जाता है। इस दौरान पूजा-पाठ व मांगलिक कार्यों की मनाही होती है। यही कारण है कि ग्रहण काल में शुभ व मांगलिक कार्यों की मनाही होती है। इस दौरान मंदिर के कपाट भी बंद कर दिए जाते हैं। चंद्रग्रहण का सभी 12 राशियों पर प्रभाव देखने को मिलेगा।

पढ़ें वैशाख पूर्णिमा या बुद्ध पूर्णिमा के दिन लगने वाले चंद्र ग्रहण से जुड़ी 10 जरूरी बातें-

1. 16 मई को लगने वाले ग्रहण को क्यों कहा जा रहा ब्लड मून- 16 मई को चंद्रमा लाल रंग में नजर आएगा। जिसे ब्लड मून कहा जाता है। वैज्ञानिक व धार्मिक दृष्टि से चंद्रग्रहण अहम घटना होती है। चंद्रग्रहण पर जब चंद्रमा पूर्ण ग्रहण युक्त होता है तो ब्लड मून दिखता है। 

2. किस राशि में लगेगा चंद्र ग्रहण- साल का आखिरी चंद्र ग्रहण वृषभ राशि में लगेगा। वृषभ राशि में राहु का गोचर चल रहा है। इस कारण वृषभ राशि पर ग्रहण का सबसे ज्यादा असर पड़ेगा।

3. चंद्र ग्रहण का समय- हिंदू पंचांग के अनुसार, सोमवार 16 मई 2022 को चंद्र ग्रहण सुबह 08 बजकर 59 मिनट से लेकर 10 बजकर 23 मिनट तक रहेगा।

4. साल का आखिरी व दूसरा चंद्र ग्रहण- 8 नवंबर को साल का आखिरी व दूसरा चंद्र ग्रहण लगेगा। पहले चंद्रग्रहण की तरह ये भी पूर्ण चंद्रग्रहण होगा।

5. बुद्ध पूर्णिमा पर चंद्र ग्रहण- वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को बुद्ध पूर्णिमा कहा जाता है। हिंदू धर्म में बुद्ध पूर्णिमा का विशेष महत्व होता है।

6. सूतक काल- 16 मई लगने वाले चंद्रग्रहण में सूतक काल नहीं लगेगा। भारत में ग्रहण की दृश्यता शून्य होने के कारण देश में सूतक काल मान्य नहीं होगा। 

7. भारत में कहां दिखेगा- भारत में साल का पहला चंद्रग्रहण नजर नहीं आएगा।

8. विदेशों में कहां दिखेगा- 16 मई को लगने वाले चंद्रग्रहण को दक्षिण-पश्चिमी यूरोप, दक्षिण-पश्चिमी एशिया, अफ्रीका, अधिकांश उत्तरी अमेरिका, दक्षिण अमेरिका, प्रशांत महासागर, हिंद महासागर, अटलांटिक और अंटार्कटिका में देखा जा सकेगा।

9.  2022 में कितने लगेंगे चंद्र ग्रहण- साल 2022 में दो चंद्र ग्रहण का योग बन रहा है। 8 नवंबर को साल का अंतिम और दूसरा चंद्र ग्रहण लगेगा।

10. चंद्र ग्रहण कैसे लगता है- चंद्र ग्रहण एक महत्वपूर्ण खगोलीय घटना है। जब चंद्रमा पर पृथ्वी की छाया पड़ने लगती है तो इसी स्थिति को चंद्र ग्रहण कहते हैं। 

Share This Now :
Continue Reading

R.O No. 12027/80

Advertisment

Advertisement

Advertisement

Advertisement Sahni Amritsari Kulche

Chhattisgarh Trending News

राजनीति30 mins ago

छत्तीसगढ़ में भाजपा का जेल भरो आंदोलन जारी, रायपुर में बृजमोहन अग्रवाल सहित 2000 कार्यकर्ता गिरफ्तार ; अन्य जिलों में भी जारी है प्रदर्शन

रायपुर : छत्तीसगढ़ में धरना-प्रदर्शन को लेकर जारी सरकारी आदेश के को लेकर BJP ने मोर्चा खोल दिया है। बीजेपी...

CORONA VIRUS17 hours ago

छत्तीसगढ़ में कोरोना का अंत! प्रदेश में आज एक भी मरीज़ पॉज़िटिव नहीं, 8 रिकवरी ; एक्टिव केस 20 ; 20 जिले संक्रमण फ्री

रायपुर : छत्तीसगढ़ मे आज कोरोना का एक भी नया मरीज़ नही मिला हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी मेडिकल बुलेटिन...

बॉलीवुड तड़का - Entertainment18 hours ago

छत्तीसगढ़ : रायपुर में चैरिटी शो में बॉलीवुड सिंगर लकी अली ने किया परफॉर्म, रकम से बनेंगे क्लासरूम ; राजकीय गमछा से हुआ स्वागत

रायपुर : बॉलीवुड सिंगर लकी अली ने शनिवार देर रात राजधानी रायपुर में एक चैरिटी शो में अपनी आवाज का...

राज्य एवं शहर19 hours ago

छत्तीसगढ़ : दुर्ग जिले में 20 थाना प्रभारियों का हुआ ट्रांसफर ; देखिए लिस्ट

दुर्ग : छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले में पुलिस विभाग में 20 पुलिसकर्मियों का तबादला हुआ है। एसपी अभिषेक पल्लव द्वारा...

राजनीति20 hours ago

छत्तीसगढ़ : दुर्ग में आपस में भिड़े भाजपा नेता, सांसद विजय बघेल के बयान पर भड़के प्रदेश समिति सदस्य राकेश पांडेय

दुर्ग : दुर्ग जिले में भारतीय जनता पार्टी के नेताओं की आपसी फूट शनिवार को सबके सामने आ गई। भाजपा...

Advertisement

CONNECT WITH US :

राजनीति30 mins ago

छत्तीसगढ़ में भाजपा का जेल भरो आंदोलन जारी, रायपुर में बृजमोहन अग्रवाल सहित 2000 कार्यकर्ता गिरफ्तार ; अन्य जिलों में भी जारी है प्रदर्शन

आस्था47 mins ago

वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे में जिस जगह पर शिवलिंग मिला उसे तुरंत सील करने का कोर्ट ने दिया आदेश ; वजू पर पाबंदी

CORONA VIRUS3 hours ago

भारत में कोरोना के मामलों में आई कमी : पिछले 24 घंटे में 2,202 नए केस मिले, 27 लोगों की हुई मौत 

आस्था4 hours ago

Happy Buddh Purnima 2022 : जीवन में सफलता पाने के लिए अपनाएं बुद्ध की ये बातें, कभी नहीं होगी हार

आस्था4 hours ago

Video : बुद्ध पूर्णिमा के दिन लगा साल का पहला चंद्र ग्रहण, अर्जेंटीना में दिखा अलग नजारा ; ग्रहण के बारे में जानिए हर एक डिटेल और पढ़ें 10 जरूरी बातें

राज्य एवं शहर6 days ago

छत्तीसगढ़ : नेहरू नगर भिलाई के अंडरब्रिज के शेड में लगी भीषण आग ; मचा हड़कंप : देखिए वीडियो

खेल5 days ago

छत्तीसगढ़ की 2 सीनियर क्रिकेट टीम 3 अभ्यास मैच खेलने के लिए उत्तराखंड और पंजाब रवाना ; शशांक और संजीत को मिली कमान ; देखिए सूची

Special News6 days ago

छत्तीसगढ़ के सभी नगरीय निकायों में बनेंगे ’कृष्ण कुंज’ ; बरगद, पीपल, नीम और कदंब के पेड़ों का होगा वृक्षारोपण

राज्य एवं शहर6 days ago

छत्तीसगढ़ में दिखने लगा चक्रवात ‘असानी’ तूफान का असर, बस्तर सहित प्रदेश के कई जिलों में भारी बारिश के आसार ; दुर्ग सबसे गर्म

ज्योतिष6 days ago

राशिफल 10 मई : कर्क समेत इन राशि वालों का बढ़ेगा धन, इन राशियों के जातक बहुत बचकर पार करें समय

आस्था4 hours ago

Video : बुद्ध पूर्णिमा के दिन लगा साल का पहला चंद्र ग्रहण, अर्जेंटीना में दिखा अलग नजारा ; ग्रहण के बारे में जानिए हर एक डिटेल और पढ़ें 10 जरूरी बातें

बॉलीवुड तड़का - Entertainment4 days ago

बिलासा छॉलीवुड अवार्ड 2022 : छत्तीसगढ़ी सुपर हिट गीत ‘मोहिनी’ को मिला बेस्ट एल्बम अवार्ड ; मोनिका वर्मा और तोशांत कुमार ने दिया है आवाज

देश-विदेश5 days ago

गुजरात में राहुल गांधी ने की छत्तीसगढ़ के सरकारी इंग्लिश मीडियम स्कूलों की तारीफ, कहा – गरीब बच्चे भी सीख रहे इंग्लिश ; देखिए वीडियो

राजनीति1 week ago

CG : रेल बंदी, कोयला संकट को लेकर दुर्ग में NSUI ने MP विजय बघेल के निवास के सामने किया तगड़ा प्रदर्शन ; देखिए वीडियो

IPL2 weeks ago

लियाम लिविंगस्टोन ने लगाया IPL 2022 का सबसे लंबा 117 मीटर का छक्का, शमी रह गए हैरान ; राशिद खान ने चेक किया बैट

Top 10 News

Must Read

Special News3 days ago

छत्तीसगढ़ : आत्मनिर्भर भारत सम्मेलन में श्रम विभाग को जनकल्याणकारी योजनाओं के लिए मिला पुरस्कार

रायपुर : नई दिल्ली में आयोजित आत्मनिर्भर भारत सम्मेलन में श्रम विभाग को श्रमिकों के लिए अनेक कल्याणकारी योजनाएं संचालित...

Special News3 days ago

CG : दुर्ग में रोबोट ने इंदिरा मार्केट के 100 साल पुराने कुएं को किया एकदम साफ, गंदगी से पट चुका था कुंआ, पानी का PH लेवर भी बढ़ा ; कई कुंआ तालाबों की होगी सफाई

दुर्ग : छत्तीसगढ़ के दुर्ग को कुंए का शहर भी कहा जाता है. इसके पीछे की वजह ये है कि...

Special News5 days ago

कौशल्या मातृत्व योजना : द्वितीय संतान बालिका होने पर छत्तीसगढ़ सरकार दे रही 5 हजार रूपए की सहायता ; ऐसे करें आवेदन

रायपुर : छत्तीसगढ़ सरकार के द्वारा द्वितीय संतान बालिका के जन्म पर सहायता प्रदान करने के लिए कौशल्या मातृत्व योजना...

Special News6 days ago

CG : भेंट-मुलाकात के 7वें दिन लुंड्रा विधानसभा पहुंचे CM भूपेश ; धौरपुर में SDM कार्यालय और कॉलेज, बच्चों की पूरी की इच्छा ; देखिए झलकियां और घोषणाएं

सरगुजा, रायपुर : छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल आज कल भेंट मुलाकात कार्यक्रम के तहत प्रदेशव्यापी दौरे पर हैं। बलरामपुर...

Special News6 days ago

CG : राजीव गांधी किसान न्याय योजना की एक भी शिकायत नहीं मिली : बघेल ; देखिए भेंट-मुलाकात के 6वें दिन की झलकियां

सूरजपुर में पत्रकार भवन के लिए 25 लाख रूपए की मंजूरी थोडा, थांगता और एथेलिमा फाइटिंग गेम्स के खिलाड़ी को...

Advertisement
Advertisement

Trending