Sunday, February 5, 2023

गुरु और माता-पिता का कभी अपमान ना करें, ना हीं उनकी निंदा सुने, मंदिर जाएं तो सबके कल्याण की कामना करें- पंडित प्रदीप मिश्रा

बलौदाबाजार. ग्राम कोकड़ी में आयोजित शिव महापुराण कथा के छठवें दिन लगभग साढे़ चार लाख श्रद्धालुओं को व्यासपीठ से अंतर्राष्ट्रीय कथा वाचक पंडित प्रदीप मिश्रा ने कहा कि जीवन में कभी भी अपने गुरु और माता-पिता का ना अपमान करें और ना ही उनकी निंदा सुनें. उन्होंने कहा कि शिवभक्तों का भी अपमान ना करें, कारण ये है कि शिवभक्त आपसे कहेगा कुछ नहीं, पर जो देवाधिदेव महादेव हैं वो देख लेंगे और फिर वो कर देंगे जो आपने सोचा भी नहीं है. ऐसी मेरे भोले नाथ की महिमा है.शिव महापुराण कथा के छठवें दिन पंडित प्रदीप मिश्रा ने आगे बताया कि एक बात जीवन में उतार लीजिए. कि दुख, तकलीफ, समस्या आपका है आपके दुःख को दूर करने का सामर्थ्य किसी भी व्यक्ति में नहीं है. जब आप दुःखी हैं घर पर रो लीजिए पर दरवाजे पर कोई आये तो उनसे अपनी तकलीफ ना बताएं, क्योंकि वो आपके तकलीफ को जानकर आपका फायदा उठा सकता है. आपका दुःख, तकलीफ, कर्म आपका है, उसे खुद आपको सुधार करना है. भगवान शिव के शरण में जाइए आपका कर्म और भगवान की भक्ति ही आपका दुःख दूर करेंगे. कर्म करिए, भक्ति कीजिए, लोगों पर आश्रित होने के बजाय भगवान के आश्रित हो जाइए, सारे दुःख आपके अच्छे कर्म ही दूर करेंगे. आपके अच्छे कर्म के कारण आप अच्छा जीवन जी रहे हैं, बुरे कर्म के कारण फल प्राप्त कर रहे हैं. भगवान शिव को एक लोटा जल चढ़ाइए वो आपको अच्छा फल देंगे.

पंडित प्रदीप मिश्रा ने कहा कि संत शिरोमणि गुरु नानक देव जी ने कहा कि परमात्मा सब जगह है, पर उनको देखने की दृष्टि एक गुरु ही दे सकता है. इसलिए जीवन में गुरु की महत्ता स्वीकार कीजिए. गुरु ईश्वर का स्वरूप है. जो जीवन में आपके दर्पण का काम करेंगे. सनातन धर्म कहता है कि कभी भी किसी का उपहास नहीं करना चाहिए, किसी भी धर्म, सम्प्रदाय की आलोचना ना करें. सभी को अपना दुःख बड़ा लगता है. अपना कर्म अच्छा और दूसरे का कर्म बुरा और छोटा लगता है. समय की अवस्था जब बदलती है तो वो सब सीखा जाता है. समय सबसे अच्छा गुरु ,शिष्य और सबक है. इसलिए जब मंदिर जाओ शिवालय जाओ तो सभी के सुख की कामना करें. हमारे पास कोई मंत्र तंत्र साधना नहीं है, हम चमत्कार नहीं करते, बस दिल से शिवालय जाइये भोलेनाथ को एक लोटा जल ,शिव तत्व का अर्पण कर भगवान शिव की भक्ति ,भजन कीजिए भोलेनाथ सब सुख आपको प्रदान करेंगे.

उन्होंने कहा कि पिता जैसी पूंजी जीवन में नहीं हो सकती. पिता सन्तान की सबसे बड़ी पूंजी है. जिस पिता ने अपना भोजन और इच्छा को संतान के लिए सीमित कर दिया उनसे बड़ा कोई नहीं है. इसलिए अपने माता-पिता का सम्मान कीजिए. क्योंकि मात- पिता की अनुपस्थिति आपको अहसास कराएगा की आपने क्या खोया. माता पिता की उपस्थिति की महत्ता स्वीकार कीजिए उनकी सेवा ही प्रभु सेवा है. गुरु, माता-पिता का अपमान ना करें, ज्ञान का अहंकार ना करें. भोलेनाथ माता-पिता, गुरु और शिवभक्त का अपमान सहन नहीं करते. अगर कोई एक व्यक्ति गलती करता है उसे देखो, बताओ, समझाओ. पर जब सभी व्यक्ति में कमी दिखाई दे ,गलती दिखाई दे तो अपने आप को देखने की समझने की जरूरत है.

spot_img

AAJ TAK LIVE

ABP LIVE

ZEE NEWS LIVE

अन्य खबरे
Advertisements
यह भी पढ़े
Live Scores
Rashifal
Panchang