Connect with us

Country News Today Exclusive

गरीबों को राशन, मुफ्त टीका, विपक्ष पर तंज… – जानें PM मोदी के संबोधन की बड़ी बातें CNT पर

Published

on

Share This Now :

अब टीकाकरण की पूरी जिम्मेदारी केंद्र के कंधों पर, सभी को मिलेगी फ्री वैक्सीन… जानें पीएम मोदी के संबोधन की बड़ी बातें


नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज देश के नाम अपने संबोधन में टीकाकरण अभियान की पूरी जिम्मेदारी केंद्र सरकार के कंधों पर होने की घोषणा की है। उन्होंने कहा कि राज्यों की अपील पर पहले टीकाकरण की 25 प्रतिशत जिम्मेदारी राज्यों को दी। बाद में इसमें कुछ दिक्कतें देखने को मिलीं। इसे देखते हुए सरकार ने तय किया है कि 21 जून यानी अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस से 18 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों के लिए राज्यों को केंद्र सरकार मुफ्त में वैक्सीन देगी। राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में पीएम मोदी ने गरीबों के लिए मुफ्त राशन योजना का लाभ दीपावली तक बढ़ाने की घोषणा की है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के राष्ट्र के नाम संबोधन की 15 बड़ी बातें:

1- कोरोना की दूसरी लहर में कोविड अस्पताल बनाने से लेकर आईसीयू बेड बढ़ाने तक में देश ने काफी तेज गति से काम किया है। कोविड से लड़ने के लिए बीते सवा साल में एक नया हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार किया है। दूसरी लहर में भारत में मेडिकल ऑक्सीजन की मांग भी बढ़ी। भारत के इतिहास में इतनी मात्रा में कभी भी जरूरत महसूस नहीं हुई थी। इसे पूरा करने के लिए युद्ध स्तर पर काम किया। ऑक्सीजन एक्सप्रेस, एयरफोर्स, नौसेना की मदद ली गई। आज के समय में दस गुना उत्पादन बढ़ गया है।

2- कोरोना की लड़ाई में दवाइयों की कमी भी देखने को मिली। दुनिया के हर कोने से जो कुछ भी उपलब्ध हो सकता था उसे लाया गया। जरूरी दवाओं के उत्पादन को कई गुना बढ़ाया गया। विदेशों से दवाइयां और इंजेक्शन मंगाई गई।

3- कोरोना जैसे अदृश्य और रूप बदलने वाले दुश्मन के खिलाफ लड़ाई में सबसे बड़ा हथियार कोविड प्रोटोकॉल है। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। मास्क लगाए रखें। इस लड़ाई में वैक्सीन सुरक्षा कवच की तरह है।

4- आज पूरे विश्व में वैक्सीन की मांग की तुलना में उत्पादन करने वाले देश और कंपनियां काफी कम हैं। अभी भारत के पास भारत में बनी वैक्सीन नहीं होती तो भारत जैसे विशाल देश में क्या होता। भारत को विदेशों से वैक्सीन प्राप्त करने में दशकों लग जाते थे। विदेशों में वैक्सीन का काम पूरा हो जाता था, तब भी हमारे यहां टीकाकरण शुरू नहीं होता था। पोलियो, चेचक जैसे टीकों के लिए देश ने लंबा इंतजार किया था।

5- भारत में टीकाकरण का कवरेज 2014 में सिर्फ 60 प्रतिशत के आसपास था। यह चिंता की बात थी। जिस रफ्तार से टीकाकरण चल रहा था, 40 साल लग जाते। हमने मिशन इंद्रधनुष लॉन्च किया। इसके जरिए युद्ध स्तर पर वैक्सीनेशन किया जा रहा है। मिशन मोड में काम किया। सिर्फ 5-6 साल में वैक्सीनेशन कवरेज 60 से बढ़कर 90 प्रतिशत से ज्यादा हो गई। हमने टीकाकरण की स्पीड भी बढ़ाई और दयरा भी बढ़ाया।

6- हमने बच्चों को कई जानलेवा बीमारियों से बचाने के लिए कई टीकों को शामिल किया। हमें गरीब के बच्चों की चिंता थी। देश 100 प्रतिशत टीकाकरण की तरफ बढ़ रही था कि कोरोना संक्रमण ने हमें घेर लिया। आशंकाएं घिरने लगीं कि भारत कैसे इससे बच पाएगा।

7- जब नीयत साफ हो, नीति स्पष्ट होती है तो नतीजे मिलते हैं। भारत एक साल के भीतर ही दो मेड इन इंडिया वैक्सीन लॉन्च कर दिया। वैज्ञानिकों ने दिखा दिया कि भारत बड़े-बड़े देशों के पीछे नहीं है। अब तक 23 करोड़ लोगों को वैक्सीन दी जा चुकी है। हमारे प्रयासों से हमें सफलता तब मिलती है जब हमें खुद पर भरोसा होता है। हमें पूरा विश्वास था कि हामारे वैज्ञानिक सफल होंगे। रिसर्च वर्क के दौरान ही दूसरी तैयारियां शुरू कर दी गईं। पिछले साल जब कोरोना के कुछ ही हजार केस थे तभी वैक्सीन टास्क फोर्स का गठन कर दिया था।

8- सरकार ने वैक्सीन बनाने वाली कंपनियों को हर तरीके से सपोर्ट किया। क्लीनिकल ट्रायल और रिचर्स के लिए फंड दिया गया। आत्मनिर्भर भारत के तहत हजारों करोड़ों रुपए उपलब्ध कराए गए। आने वाले दिनों में वैक्सीन की सप्लाई और भी ज्यादा बढ़ने वाली है।

9- आज देश में सात कंपनी विभिन्न वैक्सीन का प्रोडक्शन कर रही हैं। दूसरे देशों से भी वैक्सीन खरीदने की प्रक्रिया तेज किया गया है। बच्चों को लेकर भी चिंता जताई जा रही है। इस दिशा में भी वैक्सीन का ट्रायल चल रहा है। नेजल वैक्सीन पर भी रिसर्च जारी है। देश को अगर निकट भविष्य में सफलता मिलती है तो भारत के टीकाकरण अभियान में और तेजी आएगी। इतने कम समय में वैक्सीन बनाना पूरी मानवता के लिए बड़ी उपलब्धी है।

10- वैक्सीन बनने के बाद दुनिया के कम ही देशों में टीकाकरण अभियान शुरू हुआ। WHO ने टीकाकरण को लेकर गाइडलाइन्स दी। भारत ने भी मानक के आधार पर चरणबद्ध तरीके से वैक्सीनेशन करना तय किया। मुख्यमंत्रियों से मिले सुझाव के बाद ही तय हुआ कि जिन्हें कोरोना से ज्यादा खतरा है उन्हें प्राथमिकता दी जाएगी।

11- अगर कोरोना की दूसरी लहर से पहले हमारे फ्रंटलाइन वर्कर्स को वैक्सीन नहीं दी गई होती तो क्या होता। ज्यादा से ज्यादा हेल्थ वर्कर्स टीकाकरण के कारण ही देशवासियों का जीवन बचा पाए।

12- देश में कम होते कोरोना के मामलों के बीच केंद्र सरकार के पास कई तरह की मांगेे आने लगीे। पूछा जाने लगा कि राज्य सरकारों को क्यों नहीं छूट दी जा रही है। दलील यह दी गई संविधान में हेल्थ राज्य का विषय है। इसलिए अच्छा है कि राज्य ही तय करे। भारत सरकार ने गाइडलाइन्स बनाकर राज्यों को दी। स्थानीय स्तर पर कोरोना कर्फ्यू लगाना हो। कंटेनमेंट जोन बनाना हो। भारत सरकार ने राज्यों के इसके लिए नियम बनाकर दिए।

13- 16 जनवरी से अप्रैल तक भारत सरकार के द्वारा टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा था। कई राज्य सरकारों ने टीकाकरण का काम राज्यों पर छोड़ने के लिए कहा। किसी ने कहा उम्र की सीमा केंद्र ही क्यों तय करे। आवाज उठी कि बुजुर्गों को पहले टीका क्यों दिए जा रहे हैं। काफी चिंता करने के बाद इस बात पर सहमति बनी कि राज्य सरकारों की मांग को देखते हुए 16 जनवरी से चली आ रही व्यवस्था में बदलाव किया गया।

14- 25 प्रतिशत का काम राज्यों को दे दिया जाए। 1 मई से राज्यों को 25 प्रतिशत काम दे दिया गया। इसे पूरा करने के लिए सभी ने प्रयास किए। पूरी दुनिया में वैक्सीन की क्या स्थिति है इससे राज्य परिचित हुए। राज्य सरकारें कहने लगीं की पहली व्यवस्था ही अच्छी थी। राज्यों के मन बदलने लगे। राज्यों की इस मांग पर हमने सोचा कि देशवासियों को तकलीफ ना हो। इसके लिए एक मई के पहले वाली व्यवस्था को फिर से लागू किया जाए।

15- आज यह निर्णय लिया गया है कि राज्यों के पास वैक्सीनेशन से जुड़ी 25 प्रतिशत जिम्मेदारी भी केंद्र सरकार उठाएगी। अगले दो सप्ताह में केंद्र और राज्य सरकार मिलकर गाइडलाइन्स तय कर लेगी। 21 जून से 18 साल से अधिक उम्र के लोगों के लिए भारत सरकार राज्यों को मुफ्त वैक्सीन देगी। देश के किसी भी राज्य सरकार को वैक्सीन पर कुछ भी खर्च नहीं होगा। अब 18 साल से अधिक उम्र के लोग भी इसमें जुड़ जाएंगे।

16- आज सरकार ने फैसला लिया है कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना को अब दीपावली तक आगे बढ़ाया जाएगा। महामारी के इस समय में, सरकार गरीब की हर जरूरत के साथ, उसका साथी बनकर खड़ी है। यानी नवंबर तक 80 करोड़ से अधिक देशवासियों को, हर महीने तय मात्रा में मुफ्त अनाज उपलब्ध होगा।

देखिए वीडियो :

Share This Now :

Country News Today Exclusive

CG : तीसरी बटालियन के अधिकारी व जवानों द्वारा नहीं देखा जा सका नदी किनारे कचरों का ढेर, जुटकर किया गया सफाई अभियान

Published

on

Share This Now :

अम्लेश्वर, दुर्ग : तीसरी वाहिनी के सेनानी धर्मेन्द्र सिंह (भापुसे) के निर्देशन में 02 अक्तूबर को स्वच्छ भारत अभियान के तर्ज पर खारुन नदी के रिवर फ्रंट व्यू की सफाई बटालियन के अधिकारी व कर्मचारियों द्वारा किया गया था। जिसमें सभी अधिकारी व जवानों द्वारा साफ सफाई नियमित किये जाने का संकल्प लिया था।

देखिए वीडियो :

बटालियन के अधिकारी व जवानों द्वारा दुर्ग सीमान्तर्गत खारुन नदी पर बने (पचरी) नदी का किनारा अत्यंत कचरे से डंप व एकत्रित होने की सूचना सेनानी धर्मेन्द्र सिंह (भापुसे) को अवगत कराएं जाने पर आज रविवार दिनांक 10.09.2021 को सेनानी महोदय के निर्देशन में खारुन नदी के तट की साफ सफाई अधिकारी व जवानों द्वारा किया गया।

नदी के किनारे की गई सफाई को देखते हुए महादेव घाट के समिति के सदस्य द्वारा धन्यवाद ज्ञापित करते हुए साफ सफाई में समिति द्वारा विशेष ध्यान दिए जाने का भी आश्वासन दिया गया। उक्त अभियान में धर्मेन्द्र सिंह (भापुसे) सेनानी, संजय दीवान, विजय तिर्की सहायक सेनानी, के पी जोशी, हरनाथ विमल सीसी, चंद्रशेखर तिवारी सूबेदार, संतोष साहू उनि, नीरज पारा, विनोद मिश्रा, मनप्रसाद पीसी, दिनेश कोशले एपीसी, कमलेश यदु सउनि अ एवं बटालियन के जवानों का विशेष योगदान रहा।

यह भी पढ़े :

CG : महात्मा गांधी एवं लालबहादुर शास्त्री जयंती पर तीसरी वाहिनी छसबल के द्वारा खारुन नदी में चलाया गया सफाई अभियान

Share This Now :
Continue Reading

Country News Today Exclusive

जानिए Olympics में भारत के लिए Athletics में पहला गोल्ड जितने वाले भारतीय सेना के सूबेदार नीरज चोपड़ा की कहानी

Published

on

Share This Now :

Sports Desk : नीरज चोपड़ा टोक्यो ओलिंपिक-2021 की शुरुआत से पहले से ही वह भारत के प्रबल दावेदार माने जा रहे थे. नीरज ने यह मुकाम अपनी मेहनत से हासिल किया है. भाला फेंक का यह खिलाड़ी आज दुनिया के महान खिलाड़ियों में शामिल है, लेकिन एक समय था जब वह वर्कआउट करना भी पसंद नहीं करते थे. एक समय उनका वजन काफी था और इसी वजन को कम करने के लिए उन्होंने वर्कआउट शुरू किया था और फिर किस्मत और उनकी मेहनत उन्हें टोक्यो ओलिंपिक तक ले आई.

पानीपत के किसान परिवार से आने वाले इस लड़के का वजन शुरु में काफी थ. वह जब 12 साल के थे तब उनका वजन 90 किलो था. इस भारी वजन को कम करने के लिए उन्होंने अपने शरीर पर मेहनत करना शुरू किया या यूं कहें कि उनके परिवार ने उन्हें अपने शरीर पर मेहनत करने के लिए उकसाया. उन्होंने फिर रुख किया शिवाजी स्टेडियम का और यहां से उनके करियर ने एक अलग मोड़ ले लिया.

जय चौधरी से मुलाकात ने बदला करियर

शिवाजी स्टेडियम पर उनकी मुलाकात हुई भालाफेंक खिलाड़ी जय चौधरी से. जय ने उनसे भाला फेंकने को कहा और पहले ही प्रयास में वह नीरज से प्रभावित हो गए और फिर यहां से उनका सफर शुरू हुआ. जय ने इंडिया टाइम्स को दिए एक इंटरव्यू में कहा था, “स्टेडियम में एक दिन शाम को मैंने उनसे भाला फेंकने को कहा. उन्होंने फेंका और यह तकरीबन 30-40 मीटर की दूरी तक गया. मुझे सबसे ज्यादा उनके थ्रो करने का तरीका पसंद आया. उस समय नीरज का वजन काफी हुआ करता था, लेकिन उनका शरीर काफी लचीला था.”

ऐसे चढ़ी सफलता की सीढ़ी

नीरज खबरों में आए 2016 में. जब उन्होंने आईएएएफ वर्ल्ड अंडर-20 चैंपियनशिप में जीत हासिल की. उन्होंने पोलैंड में खेले गए इस टूर्नामेंट में 86.48 मीटर की दूरी तय कर जूनियर विश्व रिकॉर्ड बना दिया. इसी के साथ नीरज इस इवेंट में विश्व खिताब जीतने वाले पहले भारतीय खिलाड़ी बने. फिर नीरज कदम दर कदम आगे बढ़ते चले गए. उन्होंने 2017 में एशियाई चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक अपने नाम किया. 2018 में खेले गए गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेल और जकार्ता एशियाई खेलों में भी वह पदक जीतने में सफल रहे.

चोट ने पैदा की शंका

जैसा हर खिलाड़ी के साथ होता है, वो नीरज के साथ भी हुआ. चोट. कंधे की चोट ने नीरज को परेशान किया और नतीजा यह रहा कि वह दोहा में 2019 में विश्व चैंपियनशिप में हिस्सा नहीं ले सके. इस चोट ने नीरज के करियर पर भी संदेह पैदा कर दिया. शक इस बात का था कि क्या नीरज अपने पुराने रंग में दिख पाएंगे. नीरज ने इन सभी शंकाओं को दूर कर दिया. 2020 में नीरज फिट होकर लौटे और साउथ अफ्रीका में एसीएनडब्ल्यू में शानदार प्रदर्शन कर टोक्यो ओलिंपिक के लिए क्वालीफाई कर लिया. उन्होंने 87.86 मीटर की थ्रो फेंकी जबकि ओलिंपिक क्वालीफाइंग मार्क 85 मीटर का था.

घरेलू टूर्नामेंट में मचाई धूम

नीरज अपनी लय हासिल कर चुके थे और इसका सबूत उन्होंने भारत के घरेलू टूर्नामेंट्स में दे दिया था. फेडरेशन कप और इंडियन ग्रां प्री-3 में उन्होंने दमदार प्रदर्शन किया और 88.07 मीटर का थ्रो फेंक नेशनल रिकॉर्ड बनाया. यहां से तो नीरज से पदक की उम्मीदें और बढ़ गई थीं.

टोक्यो में ये किया

टोक्यो में नीरज पदक के प्रबल दावेदार के रूप में पहुंचे. उम्मीदों का भार उनके सिर पर था. क्वालीफाइंग इवेंट में उन्होंने सिर्फ एक प्रयास किया और फाइनल में जगह बनाई. नीरज ने 86.65 मीटर का थ्रो फेंक कर फाइनल का टिकट कटाया था. वह ओवरऑल पहले स्थान पर रहे थे. फिर फाइनल में 87.58 के थ्रो के साथ गोल्ड मेडल हासिल किया.

Share This Now :
Continue Reading

Country News Today Exclusive

पंकज शर्मा का पदभार ग्रहण आज अध्यक्ष जिला सहकारी केंद्रीय बैंक रायपुर

Published

on

Share This Now :

रायपुर : छत्तीसगढ़ कांग्रेस कमीटी के प्रदेश महामंत्री और सदस्य एआईसीसी एवं रायपुर ग्रामीण विधयाक सत्यनारायण शर्मा के विधयाक प्रतिनिधि पंकज शर्मा नव नियुक्त जिला सहकारी बैंक रायपुर के अध्यक्ष पद पदभार ग्रहण समारोह आज 22 जुलाई 2021 को अपरान्ह 2 बजे जिला सहकारी केंद्रीय बैंक शहीद स्मारक भवन के पास जी.ई .रोड रायपुर में सम्पन्न होने जा रहा है।

प्रतिभा शील युवा नेता पंकज शर्मा की नियुक्ति से क्षेत्र के सभी वर्गो में खुशी एवं उत्साह का लहर है । क्षेत्र के सभी वरिष्ठ जनों ने उन्हें बधाई एवं आशीर्वाद दिया और कहा कि उन्हें पार्टी द्वारा प्रदान की गई इस अहम जिम्मेदारी की पूरी निष्ठा से पालन करे और बैंक की लाभकारी योजनाओ से क्षेत्र की जनता को भी आत्मनिर्भर बनाने में योगदान दे।

 

इस अवसर पर जिला सहकारी केंद्रीय बैंक रायपुर के नव नियुक्त अध्यक्ष पंकज शर्मा ने कहा आप सबके आशीर्वाद, स्नेह एवं सहयोग से माननीय मुख्यमंत्री Bhupesh Baghel जी, प्रदेश अध्यक्ष श्री Mohan Markam जी तथा शीर्ष नेतृत्व द्वारा मुझे रायपुर जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के अध्यक्ष पद का दायित्व प्रदान किया गया है।

इस नवीन दायित्व का पदभार ग्रहण पर क्षेत्र वासियो से उन्होंने अनुरोध किया कि उक्त कार्यक्रम में उपस्थित होकर अपना स्नेह एवं आशीर्वाद उन्हें प्रदान करें।
अध्यक्ष मोहनमरकाम ,मुख्यमंत्री एवं पार्टी के सभी वरिष्ठ जानो का आभार व्यक्त किया और कहा कि उन्हें दी गई इस महत्वपूर्ण जिम्मेदारी का वे निष्ठा पूर्वक निर्वहन करेंगे एवं पार्टी की दिशा निर्दोश का पालन करते हुए क्षेत्र की जनता का सेवा के लिए हमेशा ततपर रहेंग ।

Share This Now :
Continue Reading

Advertisement



Advertisement Sahni Amritsari Kulche

Chhattisgarh Trending News

आस्था16 mins ago

CG : CM बघेल राजधानी रायपुर के रावणभाठा और डब्ल्यू.आर.एस. कॉलोनी के दशहरा उत्सव में हुए शामिल

छत्तीसगढ़ के प्राचीन दशहरा उत्सव में माना जाता है रावणभाठा का दशहरा उत्सव, भगवान श्रीराम का छत्तीसगढ़ से गहरा नाता...

CORONA VIRUS3 hours ago

छत्तीसगढ़ में आज कोरोना के 10 नए मामले आए सामने, 16 मरीज़ हुए रिकवर ; देखिए जिलेवार आंकड़ा

रायपुर : छत्तीसगढ़ मे आज 10 नए कोरोना संक्रमित मरीज मिले। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी मेडिकल बुलेटिन के अनुसार बीते...

राज्य एवं शहर4 hours ago

CG : नया खाई के अवसर पर अपने पैतृक गांव पहुंचे CM ग्रामीणों से की देर तक चर्चा 

हर साल दशहरे के दिन अपने घर मे पूजा करते हैं मुख्यमंत्री, ग्रामीणों ने कहा, आपका इस दिन विशेष रूप...

राज्य एवं शहर5 hours ago

CG : CM ने विजयादशमी पर्व पर विधि-विधान एवँ मंत्रोच्चार के बीच की शस्त्र पूजा, प्रदेशवासियों को विजयादशमी पर्व की दी शुभकामनाएं

रायपुर : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज यहां अपने निवास में विजयादशमी के अवसर पर शस्त्र पूजा की। उन्होंने...

राज्य एवं शहर5 hours ago

CG : हसदेव अरण्य वन क्षेत्र मामला, आंदोलनरत आदिवासियों से मिले CM भूपेश, दिया न्याय का भरोसा

रायपुर : छत्तीसगढ़ में मदनपुर क्षेत्र के आदिवासी ग्रामीण 300 किलोमीटर से अधिक पैदल चलकर रायपुर पहुंचे. जहां सीएम भूपेश...

Advertisement

CONNECT WITH US :

राज्य एवं शहर7 hours ago

CG : जशपुर में तेज रफ्तार गांजे से भरी कार ने दुर्गा विसर्जन की झांकी में भीड़ को रौंदा, 1 की मौत, कई की हालत नाजुक

Country News Today Exclusive6 days ago

CG : तीसरी बटालियन के अधिकारी व जवानों द्वारा नहीं देखा जा सका नदी किनारे कचरों का ढेर, जुटकर किया गया सफाई अभियान

Special News1 week ago

CG में खुला राम वन गमन मार्ग, शंकर महादेवन के बोलो राम-राम गीत पर थिरक उठे CM, मानस मण्डली में बघेल ने स्वयं बजाया खंजरी : देखिए वीडियो

देश-विदेश1 week ago

VIDEO : UP पहुंचे CG के CM बघेल, पुलिस ने लखनऊ हवाई अड्‌डे पर रोका, विरोध में धरने पर बैठे CM भूपेश, सामान्य यात्री बस में कराया सफर

देश-विदेश2 weeks ago

छत्तीसगढ़ के CM बघेल दिल्ली AICC के प्रेस कॉन्फ्रेंस में UP सरकार पर लगाये कई गंभीर आरोप : देखिए वीडियो

Top 10 News

Must Read

Tech Gyan5 days ago

फोन हो गया चोरी? तो ऐसे ब्लॉक करें PAYTM अकाउंट, पूरा पैसा रहेगा सुरक्षित! ; देखिए स्टेप्स

National Desk : आज के समय से भारत में शायद ही कोई ऐसा स्मार्टफोन हो, जिसमें Paytm ना हो। नुक्कड...

Country News Today Exclusive6 days ago

CG : तीसरी बटालियन के अधिकारी व जवानों द्वारा नहीं देखा जा सका नदी किनारे कचरों का ढेर, जुटकर किया गया सफाई अभियान

अम्लेश्वर, दुर्ग : तीसरी वाहिनी के सेनानी धर्मेन्द्र सिंह (भापुसे) के निर्देशन में 02 अक्तूबर को स्वच्छ भारत अभियान के...

Special News1 week ago

CG में खुला राम वन गमन मार्ग, शंकर महादेवन के बोलो राम-राम गीत पर थिरक उठे CM, मानस मण्डली में बघेल ने स्वयं बजाया खंजरी : देखिए वीडियो

भारती बंधुओं ने कबीर के दोहे से बांधा समां, कबीर कैफे मुंबई की प्रस्तुति से झूम उठे दर्शक छत्तीसगढ़ के...

Special News1 week ago

E-कोर्ट के बेहतर प्रसार एवं क्रियान्वयन के लिए छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट को मिला सिल्वर अवार्ड

रायपुर : ई-कोर्ट प्रोजेक्ट के बेहतर प्रसार एवं क्रियान्वयन के लिए नेशनल इंफरमेशन सेंटर (एनआईसी) के डायरेक्टर जनरल की ओर...

Tech Gyan1 week ago

Reliance Jio Network Outrage : रिलायंस जियो का नेटवर्क हुआ डाउन, ट्विटर पर भड़का यूजर्स का गुस्सा

नई दिल्ली : देश की सबसे बड़ी टेलिकॉम ऑपरेटर कंपनी रिलायंस जियो (Reliance Jio) के यूजर्स को आज काफी परेशानी का सामना...

Advertisement

Trending