Connect with us

हेल्दी लाइफ

गर्मियों में दस्त से बचाव के लिए सावधानी जरूरी, लू और दूषित खानपान मुख्य कारण, डिहाइड्रेशन से हो सकती है मौत! जानिए सब कुछ

Published

on

Symbolic Image
Share This Now :

रायपुर : गर्मियों में बढ़ते तापमान के साथ बच्चों से लेकर बुजुर्गों में दस्त यानि डायरिया का खतरा बढ़ जाता है। डायरिया के लिए आमतौर पर लू और दूषित खानपान मुख्य कारण है। दूषित खाद्य या पेय पदार्थों में मौजूद वायरस, बैक्टीरिया या प्रोटोजोआ के कारण ही विभिन्न आयु के लोगों में डायरिया होता है।दस्त का उपचार यदि शुरूआत में नहीं किया जाए तो अनेक आपातकालीन स्थितियां बन सकती है तथा यह जानलेवा भी हो सकता है।

cnt_05nov22
3- 13 sep 2022
4 - 13 sep 2022
1 -13 sep 22
2 - 13 sep 22

गर्मियों में दस्त से बचाव के लिए सभी आयु वर्ग के लोगों को अपने खान-पान में विशेष सावधानी बरतने की जरूरत होती है। तीव्र डायरिया में दस्त के कारण शरीर में पानी और इलेक्ट्रोलाइट्स यानि सोडियम व पोटेशियम की मात्रा बहुत तेजी से कम होने लगती है जिससे शरीर में ऐंठन, बेहोशी जैसे लक्षण मिलते हैं। इन लक्षणों से पीड़ित को त्वरित उपचार नहीं मिलने पर डिहाइड्रेशन के कारण मौत भी हो सकती है ।

शासकीय आयुर्वेद कॉलेज रायपुर के सह-प्राध्यापक डॉ. संजय शुक्ला ने बताया कि डायरिया के घातक होने की संभावनाओं के मद्देनजर आम लोगों को अपने खान-पान की गुणवत्ता और आदतों पर सावधानी बरतने की जरूरत है। गर्मियों में भोजन और अन्य खाद्य पदार्थ अत्यधिक तापमान के कारण बड़ी जल्दी खराब हो जाते हैं। इसलिए बासी और खुले भोजन से बचना चाहिए तथा ताजा भोजन ही लेना चाहिए।

इन दिनों बाजार में बिकने वाले खाद्य पदार्थों और शीतल पेय जैसे लस्सी, गन्ने और अन्य फलों के रस के सेवन में सावधानी बरतना चाहिए क्योंकि इनके संक्रमित या दूषित होने से दस्त सहित पेट से संबंधित अनेक रोगों की होने की संभावना ज्यादा होती है। चूंकि गर्मियों में पाचन तंत्र कमजोर होता है और शारीरिक सक्रियता कम रहती है इसलिए लोगों को तले-भुने, मसालेदार गरिष्ठ भोजन, फास्ट फूड, स्ट्रीट फूड, मांसाहार और शराब सेवन का परहेज करना चाहिए।

दस्त होने पर भोजन में चावल या खिचड़ी, दही, केला, अनार इत्यादि को शामिल करना चाहिए। शिशुओं को मां का दूध, दाल या चावल का पानी यानि माढ़ आदि तथा चिकित्सक के परामर्श पर जिंक का टेबलेट देना चाहिए।

डॉ. संजय शुक्ला ने बताया कि आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति में डायरिया यानि अतिसार का मुख्य कारण त्रिदोष यानि वात, पित्त व कफ का असंतुलन और पाचक अग्नि यानि जठराग्नि का मंद होना है। इसलिए इस पद्धति में अतिसार से बचने के लिए गर्मियों में भरपेट भोजन के बजाय थोड़ी-थोड़ी मात्रा में अनेक बार ताजा और सुपाच्य भोजन ग्रहण करने का निर्देश है।

इस मौसम में बाजार में मिलने वाले कोल्ड ड्रिंक्स की जगह जीरा मिलाकर मठा यानि छाछ, नारियल पानी, नींबू पानी, बेल का शरबत, आम का पना आदि का सेवन करना चाहिए। गर्मियों में पेयजल की शुद्धता पर भी ध्यान देना आवश्यक है। घर में कटे फल और भोज्य पदार्थों को ढंक कर रखना चाहिए। इसके अलावा लोगों को व्यक्तिगत स्वच्छता पर भी ध्यान देना चाहिए। शौच के बाद और भोजन के पहले साबुन से अपने हाथों को अच्छी तरह से धोना चाहिए। उपयोग से पहले फलों और सब्जियों को अच्छी तरह से पानी से धो लेना चाहिए ताकि संक्रमण की संभावना न हो।

डायरिया से पीड़ित रोगियों के उपचार में विशेष सावधानी बरतने की जरूरत होती है। अत्यधिक दस्त के कारण डिहाइड्रेशन की संभावना रहती है, इसलिए शुरूआत में ही रोगी को जीवन रक्षक घोल यानि ओआरएस या घर में बने नमक-शक्कर का घोल, दाल या चावल का पानी इत्यादि पिलाते रहना चाहिए। रोगी को प्राथमिक उपचार देने के बाद अतिशीघ्र नजदीकी सरकारी स्वास्थ्य केंद्र ले जाएं या चिकित्सा विशेषज्ञ का परामर्श लें, ताकि आपातकालीन स्थिति न बने।

advt_02 - Copy
advt_04 - Copy
advt_01 - Copy
advt_03 - Copy
advt_02 - Copy advt_04 - Copy advt_01 - Copy advt_03 - Copy

Share This Now :

हेल्दी लाइफ

Cranberry For Ladies: महिलाएं रोज खाएं क्रैनबेरी, यूरिन इंफेक्शन रहेगा दूर मिलेंगे ये जबरदस्त फायदे

Published

on

Share This Now :

सेब, केला, संतरा, अनार, पपीता- ये कुछ ऐसे फल हैं जिन्हें आप हर सीजन में खाते हैं और इन्हें खाने के फायदों के बारे में तो हम सब जानते हैं। लेकिन हम आपको बता रहे हैं उन exotic फ्रूट्स के बारे में जिनके बारे में कम लोग जानते हैं लेकिन अपने औषधीय गुणों की वजह से सेहत के लिए कई तरह से फायदेमंद है। ऐसा ही एक फल है क्रैनबेरी। लाल रंग का ये बेहद छोटा लेकिन टेस्टी फल क्रैनबेरीज, न्यूट्रिएंट्स का पावरहाउस है। आपने क्रैनबेरी का जूस तो जरूर पिया होगा और शायद सॉस भी खाया हो लेकिन अब क्रैनबेरी को फल के तौर पर अपने डेली डायट में शामिल करने का समय आ गया है। इस फल को खाने के कितने फायदे हैं, यहां जानें।​

cnt_05nov22
3- 13 sep 2022
4 - 13 sep 2022
1 -13 sep 22
2 - 13 sep 22

यूटीआई की समस्या दूर करती है क्रैनबेरी

यूटीआई यानी यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन की समस्या दूर करने में फायदेमंद मानी जाती है क्रैनबेरीज और महिलाओं सालों से इसका इस्तेमाल करती आ रही हैं। इस बार में अब तक हो चुकी बहुत सी रिसर्च में यह बात साबित भी हो चुकी है कि हर दिन क्रैनबेरीज खाने या इसका जूस पीने से यूरिन इंफेक्शन की समस्या को दूर किया जा सकता है। क्रैनबेरीज में पीएसी नाम का तत्व पाया जाता है तो बैक्टीरिया को यूरिनरी ट्रैक्ट में चिपकर इंफेक्शन फैलने से रोकता है।

​कैंसर सेल के विकास को रोकता है

रिसर्च में यह बात भी साबित हो चुकी है कि क्रैनबेरीज में मौजूद फाइटोकेमिकल्स ट्यूमर या कैंसर के सेल्स को बढ़ने से रोकता है जिससे ब्रेस्ट कैंसर, कोलोन कैंसर, लंग कैंसर जैसी बीमारियों को बढ़ने से रोका जा सकता है। इतना ही नहीं, क्रैनबेरीज को अपनी डेली डायट में शामिल करने से बहुत तरह के कैंसर को होने से भी रोका जा सकता है। क्रैनबेरी में ऐंटी-कार्सिनोजेनिक कम्पाउंड पाया जाता है जो शरीर में कैंसर के सेल्स को बढ़ने से रोकता है।

​आंतों को हेल्दी बनाने में मददगार

गट यानी आंतों में मौजूद गुड बैक्टीरिया को बढ़ाने और हानिकारक बैक्टीरिया को दूर करने में मदद करती है क्रैनबेरीज। शरीर में मौजूद गट बैक्टीरिया का बैलेंस बना रहना जरूरी है ताकि भोजन में मौजूद फायदेमंद कंपाउंड को निकालकर शरीर तक पहुंचाया जा सके और पेट खराब होने से बच जाए। साथ ही साथ क्रैनबेरीज में मौजूद पीएसी एक और तरह के बैक्टीरिया को दबाने में मदद करता है जो पेट में अल्सर के लिए जिम्मेदार होता है।

​किडनी स्टोन की समस्या होगी दूर

क्रैनबेरीज में क्वीनिक ऐसिड के साथ-साथ कई दूसरे पोषक तत्व भी पाए जाते हैं जो किडनी में स्टोन होने की समस्या से रोकता है। साथ ही किडनी को डिटॉक्स करने में भी मदद करता है ताकि किडनी की सही तरीके से सफाई हो पाए।

मुंह की बीमारियां रहें दूर

अगर आप चाहते हैं कि आप हर तरह के डेंटल प्रॉब्लम से दूर रहें आपकी सांस हमेशा ताजी बनी रहे और मुंह या सांस से बदबू की समस्या का सामना न करना पड़े तो क्रैनबेरीज खाना शुरू कर दें। क्रैनबेरी में प्रोऐन्थोसाइनिडिन पाया जाता है जो मुंह में प्लाक, कैविटीज और मसूड़ों से जुड़ी बीमारी फैलाने वाले बैक्टीरिया को रोकने में मदद करता है।

​दिल से जुड़ी बीमारियां नहीं होती

क्रैनबेरीज में पॉलिफेनॉल्स भी पाया जाता है और यह एक ऐसा तत्व है तो कार्डियोवस्कुलर डिजीज यानी दिल से जुड़ी बीमारियों के खतरे को कम करने में मदद करता है। 2019 में हुई एक स्टडी में यह बात साबित हो चुकी है कि अगर डायट में क्रैनबेरीज को शामिल किया जाए तो दिल से जुड़ी बीमारी होने का खतरा काफी कम हो जाता है। साथ ही साथ ब्लड प्रेशर भी कंट्रोल में रखने में मदद मिलती है।

​कलेस्ट्रॉल की समस्या होगी दूर

क्रैनबेरीज का सेवन करने से शरीर का बीएमआई भी कम होता जिससे शरीर में गुड कलेस्ट्रॉल का लेवल बढ़ता है और बैड कलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद मिलती है। साथ ही साथ ब्लड शुगर का लेवल भी कंट्रोल में रहता है। आप चाहें तो क्रैनबेरीज का जूस या पाउडर का सेवन भी कर सकते हैं।

इन्फ्लेमेशन की समस्या होगी दूर

इन्फ्लेमेशन यानी सूजन-जलन बहुत सी बीमारियों की मुख्य वजह होती है। कैंसर, आर्थराइटिस, डायबीटीज ये सब शरीर में इन्फ्लेमेशन होने की वजह से ही होता है। ऐसे में ऐंटी इन्फ्लेमेट्री फूड खाने से इन्फ्लेमेशन को कम करने में मदद मिलती है और क्रैनबेरी ऐसा ही एक फूड है जिसमें पॉलिफेनॉलिक कम्पाउंड पाया जाता है जो कैंसर और हार्ट डिजीज समेत कई बीमारियों को रोकने में मदद करता है।

वेट लॉस में मददगार

क्रैनबेरीज में ऐंटिऑक्सिडेंट्स की मात्रा भी भरपूर होती है और इस वजह से शरीर से टॉक्सिन्स को बाहर निकालने में मदद मिलती है। साथ ही साथ फैट भी कम होने लगता है जिससे वेट लॉस में मदद मिलती है। साथ ही क्रैनबेरीज में ढेर सारा फाइबर भी होता है इसलिए इसे खाने के बाद लंबे समय तक आपका पेट भरा हुआ महसूस होता है और आपको भूख भी नहीं लगती।

advt_02 - Copy
advt_04 - Copy
advt_01 - Copy
advt_03 - Copy
advt_02 - Copy advt_04 - Copy advt_01 - Copy advt_03 - Copy

Share This Now :
Continue Reading

हेल्दी लाइफ

Pneumonia के लक्षणों खांसी और बुखार से निपटने और इससे जल्द रिकवरी के लिए 6 कारगर Home Remedies

Published

on

Share This Now :

निमोनिया एक ऐसा संक्रमण है जो आपके शरीर के लिए काफी हानिकारक हो सकता है. यह आपके फेफड़ों और उसके अंदर की वायुकोषों को प्रभावित करता है जिससे उनमें सूजन हो जाती है. इससे खांसी और कफ के साथ-साथ सांस लेने में तकलीफ, बुखार, ठंड लगना और मवाद जैसी अन्य समस्याएं होती हैं.

cnt_05nov22
3- 13 sep 2022
4 - 13 sep 2022
1 -13 sep 22
2 - 13 sep 22

निमोनिया होने के कई कारण हो सकते हैं. इसे रोकने के लिए व्यक्ति को इस स्थिति के बारे में अच्छी तरह से पता होना चाहिए. यह वायरस, बैक्टीरिया, कवक और विभिन्न प्रकार के जीवों के कारण हो सकता है. दुर्भाग्य से ऐसा कोई घरेलू उपाय नहीं है जो शरीर से निमोनिया को पूरी तरह से मिटा सके. हालांकि यह इस बीमारी को कंट्रोल करने के लिए निमोनिया के लक्षणों को मैनेज कर सकता है. यह बच्चों और वयस्कों को अधिक गंभीर रूप से प्रभावित करता है और इसलिए आवश्यक सावधानी बरतनी बेहतर है.

खांसी निमोनिया का लगातार और प्राथमिक लक्षण है. अगर इस लक्षण को कंट्रोल कर लिया जाए तो बहुत सारे पैरामीटर नियंत्रण में आ सकते हैं. खांसी से गले में दर्द और जलन हो सकती है. निमोनिया पैदा करने वाली खांसी के लिए यहां कुछ घरेलू उपचार दिए गए हैं.

गर्म पुदीने की चाय

पुदीना निमोनिया के लिए एक बहुत अच्छा उपाय है क्योंकि इसमें एक एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होता है जो गले और शरीर से बलगम को बाहर निकालने में मदद करता है. यह खराब खांसी के इलाज के लिए प्रभावी उपाय है और गले और शरीर के अन्य हिस्सों में दर्द के लिए दर्द निवारक के रूप में भी काम करता है. खांसी और संबंधित समस्याओं से राहत पाने के लिए लोग दिन में दो बार पुदीने की चाय पी सकते हैं. अगर आपके घर में पुदीना है तो आप घर पर भी पुदीने की चाय बना सकते हैं.पुदीने की चाय बनाने के लिए-

सबसे पहले पुदीने की ताजी पत्तियों को धोकर काट लें.फिर इसे एक पैन में डालें जिसमें चाय के लिए पानी हो.अब पानी को लगभग 5 मिनट तक उबालें.उबालने के बाद, स्वाद के लिए थोड़ा नींबू, शहद या दूध डालें.पुदीने की चाय की सुगंध को सूंघने से भी आपके नाक मार्ग और गले की खांसी से राहत मिल सकती है.

खारे पानी से गरारे करें

खांसी से राहत के लिए गरारे करना हमेशा फायदेमंद होता है. ये निमोनिया के दौरान होने वाले रैश गले को भी शांति प्रदान करते हैं. खारे पानी का गरारा दिन में कभी भी किया जा सकता है. यह आपके गले में बलगम से छुटकारा पाने और राहत प्रदान करने में आपकी मदद कर सकता है.

इन 3 चरणों में खारे पानी से गरारे किए जा सकते हैं.सबसे पहले एक गिलास गर्म पानी लें और उसमें आधा टेबल स्पून नमक डालें.पानी में नमक अच्छी तरह मिला लें.अब एक वॉशबेसिन में जाएं और उस घोल से दिन में 3 बार गरारे करें.
निमोनिया का दूसरा लक्षण लगातार बुखार होना है. निमोनिया के दौरान लोगों को रेमिटेंट बुखार हो जाता है और निमोनिया को भी कम करने के लिए इस लक्षण को नियंत्रित करना महत्वपूर्ण हो जाता है. इसके लिए ये उपाय काम कर सकते हैं-

पेन किलर लें

दवाएं बुखार और इसके साथ आने वाले शरीर के दर्द को कम करने में मदद करती हैं. कई बार यह असहनीय हो जाता है और वह व्यक्ति ठीक से आराम भी नहीं कर पाता है. इसलिए बुखार और दर्द के लक्षणों को नियंत्रित करने के लिए दर्द निवारक दवा देना महत्वपूर्ण हो जाता है. दर्द निवारक दवा खाना खाने के बाद ही लेनी चाहिए.

गुनगुना सेक लगाएं

शरीर को आराम देने और आपके तापमान को कम करने के लिए गुनगुना सेक दिया जाता है. निमोनिया शरीर के तापमान को 102 डिग्री सेल्सियस से ऊपर बढ़ा सकता है जो तुलनात्मक रूप से समस्याग्रस्त हो सकता है. इसलिए बेहतर होगा कि आप अपने आप को या व्यक्ति को सिर और ऊपरी शरीर पर धीरे-धीरे गुनगुना सेक दें. इस सेक को देने के लिए आप तौलिये का इस्तेमाल कर सकते हैं.

एक कप कॉफी पिएं

सांस की तकलीफ से पीड़ित व्यक्ति के जोखिम को कम करने में कॉफी काफी फायदेमंद होती है. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि कैफीन में एक दवा होती है जिसका उपयोग ब्रोंकाइटिस की समस्याओं के इलाज के लिए किया जाता है. कॉफी में पाई जाने वाली दवा ब्रोन्कोडायलेटर है और आपके फेफड़ों में वायु प्रवाह को खोल सकती है. एक कप कॉफी पीने से आपके लक्षणों में राहत मिल सकती है और सांस की तकलीफ के खिलाफ एक प्रभावी उपाय के रूप में काम कर सकता है.

हल्दी की चाय

हल्दी में कई लाभकारी गुण होते हैं जैसे कि एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण, एंटीऑक्सिडेंट और एंटी-माइक्रोबियल गुण जो सीने के दर्द से राहत दिलाने में मदद करते हैं. यह सीने में दर्द के जोखिम को भी कम करता है और निमोनिया के दौरान शरीर को शांत करता है हल्दी की चाय निमोनिया के कई अन्य लक्षणों को भी कम करने में कारगर हो सकती है.

हल्दी की चाय बनाने का तरीका-

उबलते पानी में एक चम्मच हल्दी की शक्ति डालें.आंच को कम करें और इसे 10 मिनट तक उबलने दें.अब इसमें थोडा़ सा शहद और नींबू डाल दीजिए.एक चुटकी काली मिर्च डालें.अब इसे अपनी सुविधा के अनुसार पीएं.आप दिन में दो बार हल्दी वाली चाय पी सकते हैं.

advt_02 - Copy
advt_04 - Copy
advt_01 - Copy
advt_03 - Copy
advt_02 - Copy advt_04 - Copy advt_01 - Copy advt_03 - Copy

Share This Now :
Continue Reading

Special News

वजन घटाने के लिए फॉलो करें फ्रूट डाइट प्लान, जानें क्या कैसे खाएं

Published

on

Share This Now :

Fruit diet for weight loss: वजन घटाने के लिए लोग बहुत सारे विकल्प और तरीकों को आजमाएं हैं। वैसे तो वजन घटाना कोई आसान काम नहीं हैं, लेकिन अगर सही एक्सरसाइज और डाइट प्लान को फॉलो किया जाए तो ये नामुमकिन काम भी नहीं हैं।

cnt_05nov22
3- 13 sep 2022
4 - 13 sep 2022
1 -13 sep 22
2 - 13 sep 22

वजन घटाने के लिए फलों का सेवन काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। विटामिन्स, मिनरल्स, फाइबर और कई तरह के पोषक तत्वों से भरपूर फल शरीर को कई बीमारियों से बचाने में मददगार साबित होते हैं। अगर सही फलों का सेवन किया जाए तो ये शरीर के फैट तेजी से पिघलाने में मदद कर सकते हैं।

इसलिए आज हम आपको फ्रूट डाइट प्लान के बारे में बताने जा रहे हैं। फ्रूट डाइट प्लान को फॉलो करके आप तेजी से वजन घटाकर कुछ ही दिनों में स्लिम और अट्रैक्टिव बन सकते हैं।

वजन घटाने के लिए फॉलो करें फ्रूट डाइट प्लान

नाश्ता

वजन घटाने के लिए नाश्ते में सेब, जामुन, अंगूर, रसबैरी या एवोकाडो जैसे फल खा सकता है क्योंकि इनमें काफी कम मात्रा में शुगर होती है। सेब में पर्याप्त मात्रा में कार्बोहाइड्रेट,शुगर,फाइबर,विटामिन-सी,पोटैशियम,प्रोटीन पाया जाता है। नाश्ते में सेब का सेवन करने से पेट को लंबे समय तक भरा हुआ महसूस होता है। जाहिर सी बात है कि जब पेट लंबे समय तक भरा हुआ महसूस करेगा तो ओवरइटिंग नहीं होगा और वजन घटाने में मदद मिलेगी।

लंच

वेट लॉस जर्नी के दौरान लंच में केला, तरबूज या खरबूज जैसे फलों को शामिल किया जा सकता है। आप चाहें तो केले का शेक बनाकर भी पी सकते हैं। केले में फाइबर और कैलोरी की अच्छी मात्रा पाई जाती है जिससे आपको लंबे समय तक भूख नहीं लगता है और शरीर में एनर्जी बनी रहती है। इस कारण आपको ज्यादा नहीं खाते है जिससे आप वेट गेन नहीं होता है। वजन घटाने के लिए केले का सेवन एक निश्चित मात्रा में ही करें। अगर आप ज्यादा केले खाते हैं तो वजन घटने की बजाय बढ़ भी सकता है।

डिनर

रात को डिनर में आप किसी भी एक ऐसे फल का चुनाव कर सकते हैं, जिसमें पानी की मात्रा ज्यादा होती हो। रात को पानी से भरपूर फल का सेवन करने से पेट को आराम मिलता है। उदाहरण के लिए अगर आप डिनर में तरबूज का सेवन करते हैं, तो इसमें कैलोरी काफी कम मात्रा में होती है, साथ ही फाइबर अधिक होता है। फाइबर होने के कारण तरबूज खाने को अच्छे से पचाने में मदद करता है। तरबूज का जूस शरीर में जमा गंदगी को निकालने में भी सहायक होता है।

ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर के बीच अगर आपको भूख लगती है तो अपनी डाइट में ब्लूबेरी , आड़ू , कीवी , स्ट्रॉबेरी, अनानास जैसे फलों को शामिल कर सकते हैं। ये सभी फल शरीर से फैट को घटाने में मददगार साबित होते हैं। ये फल उपापचय प्रक्रियाओं को बेहतर बनाता है जिससे कोलेस्ट्रोल और ट्राइग्लिसराइड्स के नियंत्रण में मदद मिल सकती है।

अगर आप प्रेग्नेंट हैं, छोटे बच्चे को स्तनपान करवा रहे हैं, डायबिटीज, कैंसर, ब्लड शुगर, हाई प्रेशर जैसी बीमारियों से जूझ रहे हैं तो फ्रूट डाइट प्लान को फॉलो करने से पहले एक्सपर्ट की सलाह अवश्य लें।

advt_02 - Copy
advt_04 - Copy
advt_01 - Copy
advt_03 - Copy
advt_02 - Copy advt_04 - Copy advt_01 - Copy advt_03 - Copy

Share This Now :
Continue Reading

Something New!!!!

RO-NO-12200/24

RO-NO-12200/24

RO-NO-12172/78

RO-NO-12141/77

RO-NO-12111/80





RO-NO-12078/75

Advertisement

Chhattisgarh Trending News

राज्य एवं शहर3 hours ago

राजधानी में राज्य स्तरीय मेगा जॉब फेयर का आयोजन, 46 हजार 616 पदों पर होगी भर्ती

रायपुर 4 दिसंबर 2022: शिक्षित बेरोजगार युवाओं के लिए मेगा जॉब फेयर (mega job fair) का आयोजन राजधानी में किया...

राज्य एवं शहर3 hours ago

भारतीय नौसेना दिवस: साहस, शौर्य और निष्ठा के प्रतीक नौसैनिकों को सीएम भूपेश ने दी शुभकामनाएं

रायपुर 4 दिसंबर 2022: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने 4 दिसम्बर को भारतीय नौसेना दिवस पर साहस, शौर्य और निष्ठा के...

राज्य एवं शहर3 hours ago

भानुप्रतापपुर उपचुनाव:नक्सल प्रभावित क्षेत्रों के लिए तैयार हैं हेलीकॉप्टर,8 दिसंबर को होगी मतगणना

भानुप्रतापपुर उपचुनाव 4 दिसंबर 2022: राज्य के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय ने भानुप्रतापपुर उप चुनाव के लिए तैयारी पूरी कर...

क्राइम3 hours ago

KBC के नाम पर ठगी,पिता की गई जान

सरगुजा 4 दिसंबर 2022: सरगुजा जिले में टीवी के लोकप्रिय गेम शो ‘कौन बनेगा करोड़पति’ के नाम पर रोजगार सहायक...

क्राइम4 hours ago

दिनदहाड़े चाकू की नोक पर 3 युवकों की किडनैपिंग,फोन पर मांगी 50 हजार रुपए की फिरौती

भिलाई 4 दिसंबर 2022: छत्तीसगढ़ के भिलाई में कुछ युवकों ने कार को रुकवा कर उसमें बैठे तीन युवकों को...

Advertisement

CONNECT WITH US :

Country News Today Exclusive3 months ago

MLNC Enactus के प्रोजेक्ट ‘स्नेह’ द्वारा रियूजेबल कपड़े के डायपर उत्पादन से पर्यावरण बचाव के साथ-साथ मिला रहा रोजगार ; जानिए क्या है खासियत?

क्राइम3 months ago

शर्मनाक : रायपुर में नाबालिग ने की अमानवीयता की सारे हदें पार, 5 कुत्तों के ऊपर फेंका एसिड, 2 की मौत, वीडियो आया सामने

क्राइम3 months ago

CG BREAKING : रायपुर के तेलीबांधा तालाब में कूदकर आत्महत्या करने वाले युवक की लाश बरामद ; देखिए वीडियो

बॉलीवुड तड़का - Entertainment4 months ago

MMS Scandal : एमएमएस लीक कांड पर कच्चा बादाम फेम अंजली अरोरा की तीखी प्रतिक्रिया, अभद्र भाषा इस्तेमाल करते हुए कह डाली ये बात : देखिए वीडियो

राज्य एवं शहर4 months ago

CG : दुर्ग में शिवनाथ नदी खतरे के निशान से 15 फीट ऊपर, कई गांव डूबे, शहर में भी घुसा पानी, SDRF ने किया रेस्क्यू ; 4 साल पहले बना पुल धंसा : देखिए वीडियो

Top 10 News

Must Read

Special News1 day ago

पुष्पा 2 में होगी सज्जाद डेलाफ्रूज की एंट्री, अल्लू और सज्जाद शेयर करेंगे स्क्रीन

मुंबई 3 दिसम्बर 2022: अल्लू अर्जुन (Allu Arjun) की पुष्पा के बाद अब इसके Pushpa 2 का फैंस को बेसब्री...

Special News2 weeks ago

CG में बॉलीवुड फिल्म और वेब सीरीज की शूटिंग,खैरागढ़ विश्वविद्यालय बना 1947 के जमाने का महल

रायपुर 21 नवम्बर 2022: छत्तीसगढ़ के शहरों में लाइट कैमरा और एक्शन वाला माहौल देखा जा रहा है। एक बॉलीवुड...

Special News2 weeks ago

फिल्म An Action Hero में जबरदस्त आइटम नंबर करते दिखीं नोरा फ़तेहि

मुंबई 18 नवम्बर 2022: एक्टर आयुष्मान खुराना (Ayushman Khurana) की अपकमिंग थ्रिलर फिल्म ‘एन एक्शन हीरो’ (An Action Hero) के...

Special News2 weeks ago

काफी समय से सुनने में हो रही थी दिक्कत, शख्स ने चेक कराया तो पता चला की 5 साल से फंसा है Earbuds

इंग्लैंड 17 नवम्बर 2022: आज से इस हाईटेक जमाने में हमें कई तरह के सुविधा मिलने लगा है। हेडफोन और...

Special News2 weeks ago

फ्लिपकार्ट ने शुरू की ओपन बॉक्स डिलीवरी, अब नहीं होगी गलत सामान की डिलीवरी

दिल्ली 17 नवम्बर 2022: ऑनलाइन शॉपिंग के बढ़ते क्रेज के बीच कस्टमर्स को डैमेज्ड और गलत प्रोडक्ट्स की डिलिवरी के...

Advertisement

Trending