Connect with us

Special News

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया लाइट हाउस प्रोजेक्ट का शिलान्यास, बोले- देश का फोकस गरीब और मध्यम वर्ग की जरूरतों पर

Published

on

Share This Now :

New Delhi : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी नए साल के पहले दिन इंदौर में बनने वाले महत्वाकांक्षी लाइट हाउस प्रोजेक्ट (एलएचपी) का शिलान्यास किया। इस कार्यक्रम में राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सहित मध्यप्रदेश शासन के मंत्री एवं अन्य जनप्रतिनिधि भी वर्चुअल माध्यम से शामिल हुए।

PM Narendra Modi Speech Live Updates:

>> जो लोग हमारे मज़दूर के सामर्थ्य को स्वीकार नहीं करते थे कोरोना ने उन्हें स्वीकार करने के लिए मज़बूर कर दिया। शहरों में हमारे श्रमिकों को उचित किराए पर मकान उपलब्ध नहीं होते हैं। हमारे श्रमिक गरिमा के साथ जीवन जिये ये हम सब देशवासियों का दायित्व है। इसी सोच के साथ सरकार उद्योगों के साथ और दूसरे निवेशकों के साथ मिलकर उचित किराए वाले घरों का निर्माण करने पर बल दे रही है और कोशिश ये भी है कि जहां वो काम करते हैं उसी इलाके में उनका मकान हो।

>> देश का रियल एस्टेट सेक्टर निरंतर मजबूत हो इसके लिए सरकार की कोशिश लगातार जारी है। मुझे विश्वास है कि हाऊसिंग फॉर ऑल का सपना जरूर पूरा होगा।

>> इंफ्रास्ट्रक्चर और कंस्ट्रक्शन पर होने वाला निवेश और विशेषकर हाउसिंग सेक्टर पर किया जा रहा खर्च अर्थव्यवस्था में force multiplier का काम करता है। इतनी बड़ी मात्रा में स्टील, सीमेंट, कंस्ट्रक्शन मैटीरियल का लगना पूरे सेक्टर को गति देता है।

>> पिछले साल कोरोना संकट के दौरान ही एक और बड़ा कदम भी उठाया गया है। ये कदम है Affordable rental housing complex योजना। इस योजना का लक्ष्य हमारे वो श्रमिक साथी हैं, जो एक राज्य से दूसरे राज्य में या गांव से शहर में आते हैं।

>> इन घरों की चाबी से कई द्वार खुल रहे हैं। घर की चाबी हाथ आने से सम्मानजनक और सुरक्षित जीवन का द्वार खुलता है। इससे एक आत्मविश्वास आता है। ये चाबी उनकी प्रगति का द्वार भी खोल रही है

>> हाऊसिंग फॉर ऑल इस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए जो चौतरफा काम किया जा रहा है, वो करोड़ गरीबों और मध्यम वर्ग परिवारों के जीवन में परिवर्तन ला रहा है। ये घर गरीबों के आत्मविश्वास को बढ़ा रहे हैं। ये घर देश के युवाओं का सामर्थ्य को बढ़ा रहे हैं।

>> लोगों के पास अब RERA जैसे कानून की शक्ति भी है। RERA ने लोगों में ये भरोसा लौटाया है कि जिस प्रोजेक्ट में वो पैसा लगा रहे हैं, वो पूरा होगा, उनका घर अब फसेंगा नहीं। आज देश में लगभग 60 हजार रियल एस्टेट प्रोजेक्ट RERA के तहत रजिस्टर्ड हैं। इस कानून के तहत हजारों शिकायतों का निपटारा किया जा चुका है।

>> सरकार के प्रयासों का बहुत बड़ा लाभ शहरों में रहने वाले मध्यम वर्ग को हो रहा है। मध्यम वर्ग को अपने घर के लिए एक तय राशि के होम लोन पर ब्याज में छूट दी जा रही है। कोरोना संकट के समय भी सरकार ने होम लोन पर ब्याज पर छूट की विशेष योजना शुरु की।

>> गरीबों को मिलने वाले घर के साथ-साथ दूसरी योजना को भी एक पैकेज की तरह जोड़ा गया है। गरीब को जो घर मिल रहे हैं, उसमें पानी, बिजली, गैस, शौचालय और अन्य आवश्यक सुविधाएँ सुनिश्चित की जा रही हैं।

>> शहर में रहने वाले गरीब हों या मध्यम वर्ग, इन सबका सबसे बड़ा सपना होता है, अपना घर। वो घर जिसमें उनकी खुशियां, सुख-दुख, बच्चों की परवरिश जुड़ी होती हैं। लेकिन बीते वर्षों में लोगों का अपने घर को लेकर भरोसा टूटता जा रहा था। घरों की कीमतें इतनी ज्यादा हो गईं थी कि अपने घर का भरोसा टूटने लगा था। एक वजह ये थी कि कानून हमारा साथ देगा या नहीं, हाउसिंग सेक्टर की ये स्थिति थी कि लोगों को शंका थी कि गड़बड़ हो जाने की स्थिति में कानून उनका साथ नहीं देगा। बैंक की ऊंची ब्याज दर, कर्ज मिलने में होने वाली दिक्कतें भी इसका एक कारण थीं।

>> देश में ही आधुनिक हाउसिंग तकनीक से जुड़ी रिसर्च और स्टार्टअप्स को प्रमोट करने के लिए आशा इंडिया प्रोग्राम चलाया जा रहा है। इसके माध्यम से भारत में ही 21वीं सदी के घरों के निर्माण की नई और सस्ती तकनीक विकसित की जाएगी।

>> विशेषज्ञों को तो इसके विषय में पता है। लेकिन देशवासियों को भी इनके बारे में जानना जरूरी है। क्योंकि आज तो ये तकनीक एक शहर में इस्तेमाल हो रही है , कल को इन्हीं का विस्तार पूरे देश में किया जा सकता है।

>> ये प्रोजेक्ट आधुनिक तकनीक और इनोवेटिव प्रोसेस से बनेंगे। इसमें कंस्ट्रक्शन का समय कम होगा और गरीबों के लिए ज्यादा affordable और कम्फ़र्टेबल घर तैयार होंगे।

>> ये लाइट हाउस प्रोजेक्ट अब देश के काम करने के तौर-तरीकों का उत्तम उदाहरण है। हमें इसके पीछे बड़े विजन को भी समझना होगा। एक समय आवास योजनाएं केंद्र सरकारों की प्राथमिकता में उतनी नहीं थी, जितनी होनी चाहिए। सरकार घर निर्माण की बारिकियों और क्वालिटी में नहीं जाती थी।

आधिकारिक जानकारी के अनुसार प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के ग्लोबल हाउसिंग टेक्नोलॉजी चैलेंज इंडिया अंतर्गत प्रतिस्पर्था के माध्यम से इंदौर का चुनाव राष्ट्रीय स्तर पर लाइट हाउस प्रोजेक्ट (एलएचपी) के निमार्ण के लिए भारत सरकार, आवासन एवं शहरी विकास मंत्रालय द्वारा किया गया है। लाइट हाउस प्रोजेक्ट के क्रियान्वयन के लिए देश के स्वच्छतम शहर इन्दौर का चुनाव होना, मध्यप्रदेश के लिए गौरव की बात है।

इंदौर में एलएचपी के क्रियान्वयन से भवन निमार्ण की नवीन तकनीकों को प्रदेश में प्रोत्साहन मिलेगा और नवीन तकनीकों के उपयोग से निमार्ण अवधि भी कम होगी। इंदौर में निर्मित होने वाले इस महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट में पूर्वनिर्मित सैंडविच पैनल प्रणाली के माध्यम से 1,024 आवासीय इकाइयों का निमार्ण किया जाना है। इस प्रीफेब्रिकेटेड पूर्वनिर्मित सैंडविच पैनल प्रणाली में दीवार पैनल, सीमेंट फाइबर बोर्ड के बीच हल्के वजन वाले कंक्रीट के कोर के साथ बना हुआ अभिनव निमार्ण पद्धति हैं।

मध्यप्रदेश में इस तरह के सैंडविच पैनल प्रणाली के साथ पहली बार इतने बड़े पैमाने पर किसी भवन निमार्ण परियोजना में उपयोग किया जा रहा है। लाइट हाउस प्रोजेक्ट की क्रियान्वयन अवधि में विभिन्न शैक्षणिक संस्थाओं जैसे आईआईटी, आईआईएम, एनआईटी, अन्य इंजीनियरिंग कॉलेज व राज्य की निमार्ण एजेंसियों द्वारा इसका उपयोग लाइव प्रयोगशाला के रूप में किया जा सकेगा।

निमार्ण अवधि पूर्ण होने के पश्चात भी वर्कशॉप एवं साइट विजिट के माध्यम से विद्यार्थियों व शोधकतार्ओं द्वारा उपयोग की जा रही प्रीफेब्रिकेटेड पूर्वनिर्मित सैंडविच पैनल प्रणाली की जानकारी प्राप्त की जा सकेगी। साथ ही लाइट हाउस प्रोजेक्ट के तकनीकी नवाचार का लाभ देश के अन्य शहरों को मिल सकेगा।

इंदौर स्वच्छता के क्षेत्र में नए आयाम स्थापित कर चुका है और लाइट हाउस प्रोजेक्ट के माध्यम से इंदौर नवीन निमार्ण तकनीकी के प्रोत्साहन में भी देश को वैश्विक स्तर पर एक लीडर बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका प्रदान करेगा।

Share This Now :
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Country News Today Exclusive

CG : तीसरी बटालियन के अधिकारी व जवानों द्वारा नहीं देखा जा सका नदी किनारे कचरों का ढेर, जुटकर किया गया सफाई अभियान

Published

on

Share This Now :

अम्लेश्वर, दुर्ग : तीसरी वाहिनी के सेनानी धर्मेन्द्र सिंह (भापुसे) के निर्देशन में 02 अक्तूबर को स्वच्छ भारत अभियान के तर्ज पर खारुन नदी के रिवर फ्रंट व्यू की सफाई बटालियन के अधिकारी व कर्मचारियों द्वारा किया गया था। जिसमें सभी अधिकारी व जवानों द्वारा साफ सफाई नियमित किये जाने का संकल्प लिया था।

देखिए वीडियो :

बटालियन के अधिकारी व जवानों द्वारा दुर्ग सीमान्तर्गत खारुन नदी पर बने (पचरी) नदी का किनारा अत्यंत कचरे से डंप व एकत्रित होने की सूचना सेनानी धर्मेन्द्र सिंह (भापुसे) को अवगत कराएं जाने पर आज रविवार दिनांक 10.09.2021 को सेनानी महोदय के निर्देशन में खारुन नदी के तट की साफ सफाई अधिकारी व जवानों द्वारा किया गया।

नदी के किनारे की गई सफाई को देखते हुए महादेव घाट के समिति के सदस्य द्वारा धन्यवाद ज्ञापित करते हुए साफ सफाई में समिति द्वारा विशेष ध्यान दिए जाने का भी आश्वासन दिया गया। उक्त अभियान में धर्मेन्द्र सिंह (भापुसे) सेनानी, संजय दीवान, विजय तिर्की सहायक सेनानी, के पी जोशी, हरनाथ विमल सीसी, चंद्रशेखर तिवारी सूबेदार, संतोष साहू उनि, नीरज पारा, विनोद मिश्रा, मनप्रसाद पीसी, दिनेश कोशले एपीसी, कमलेश यदु सउनि अ एवं बटालियन के जवानों का विशेष योगदान रहा।

यह भी पढ़े :

CG : महात्मा गांधी एवं लालबहादुर शास्त्री जयंती पर तीसरी वाहिनी छसबल के द्वारा खारुन नदी में चलाया गया सफाई अभियान

Share This Now :
Continue Reading

Special News

CG में खुला राम वन गमन मार्ग, शंकर महादेवन के बोलो राम-राम गीत पर थिरक उठे CM, मानस मण्डली में बघेल ने स्वयं बजाया खंजरी : देखिए वीडियो

Published

on

Share This Now :

भारती बंधुओं ने कबीर के दोहे से बांधा समां, कबीर कैफे मुंबई की प्रस्तुति से झूम उठे दर्शक

छत्तीसगढ़ के जनमन में रचे बसे हैं राम: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल


रायपुर : राम वन गमन परिपथ विकास परियोजना के लोकार्पण समारोह में मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल भी राम-धुन में रमे हुए नजर आए। इस अवसर पर अनेक अवसर ऐसे आए जब मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम प्रस्तुत कर रहे कलाकारों की धुन के साथ अपनी ताल मिलाई। जब छत्तीसगढ़ के लोक कलाकर मानस-भजन प्रस्तुत कर रहे थे, तब वे खंजरी लेकर मानस-मंडली के बीच बैठ गए और स्वयं खंजरी बजाने लगे।

देखिए वीडियो :

शंकर महादेवन के बोलो राम-राम गीत पर दर्शकों के साथ थिरक उठे मुख्यमंत्री

इसी तरह जब बॉलीवुड के प्रसिद्ध कलाकार शंकर महादेवन अपनी प्रस्तुति दे रहे थे, तब उनके गीतों में वे थिरकते नजर आए। शंकर महादेवन ने बोलो राम-राम और छत्तीसगढ़िया सबले बढ़िया गीत गाकर दर्शकों को झूमने मजबूर किया।मुख्यमंत्री श्री बघेल के साथ-साथ पर्यटन मंत्री श्री ताम्रध्वज साहू और अन्य मंत्रियों ने भी भाव-विभोर होकर प्रस्तुतियों का आनंद लिया।

भारती बंधुओं ने कबीर के दोहे से बांधा समां

माता कौशल्या मंदिर और राम वन गमन पथ सौन्दर्यीकरण लोकार्पण समारोह के पहले दिन लोक कलाकरों एवं मुंबई के कलाकारों द्वारा रंगा-रंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुतियां दी गई। कलाकारों की प्रस्तुति देखकर मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल, मंत्रिगण सहित उपस्थित जन समुदाय मंत्रमुग्ध हो उठा। उन्होंने कलाकारों का उत्साहवर्धन भी किया। कार्यक्रम में श्री राजेन्द्र साहू और उनकी मंडली द्वारा रामायण के प्रसंगों को प्रस्तुत किया गया। वहीं पद्मश्री भारती बंधुओं ने संत कबीर के दोहों तथा भजन के माध्यम से बांधा समां।

लोक गायिका श्रीमती कविता वासनिक ने राजगीत ‘अरपा पैरी की धार‘ से छत्तीसगढ़ वासियों का मन मोह लिया। महासमुंद के श्री नंदकुमार साहू की मानस राम मंडली ने छत्तीसगढ़ी लोक गीत की प्रस्तुति दी। कार्यक्रम के तृतीय चरण में कबीर कैफे मुंबई की ‘क्या लेकर आया जगत में, क्या लेकर जाएगा‘ जैसे गीतों की प्रस्तुति से दर्शक झूम उठे। वहीं इंडियन ओशियन कलाकारों के समूह ने ‘सुनो एक गाथा राम की‘ जैसे मनमोहक गीतों की प्रस्तुति से दर्शकों का जमकर मनोरंजन किया।

देश-दुनिया के लिए छत्तीसगढ़ में खुला राम वन गमन मार्ग

भगवान राम जिस वन पथ पर चलकर मर्यादा पुरूषोत्तम कहलाए आज छत्तीसगढ़ में वह वन पथ देश-दुनिया के लिए खुल गया। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने आज मां कौशल्या की नगरी चंदखुरी में राम वन गमन पर्यटन परिपथ परियोजना के प्रथम चरण का लोकार्पण किया। इस अवसर पर आयोजित तीन दिवसीय भव्य समारोह का शुभारंभ करते हुए मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कहा कि भगवान श्री राम का छत्तीसगढ़ से बड़ा गहरा नाता है।

भगवान श्री राम हम छत्तीसगढ़ियों के जीवन और मन में रचे बसे हैं। सोते-जागते, एक-दूसरे का अभिवादन करते, सुख हो अथवा दुख हर पल हम छत्तीसगढ़िया लोग भगवान श्री राम का सुमिरन करते हैं। हम छत्तीसगढ़िया लोग, भगवान श्री राम को माता कौशल्या के राम, भांचा राम, वनवासी राम, शबरी के स्नेही और दयालु राम के रूप में जानते और मानते हैं। कार्यक्रम की अध्यक्षता लोक निर्माण, गृह एवं पर्यटन मंत्री श्री ताम्रध्वज साहू ने की।

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कहा कि भगवान श्री राम का छत्तीसगढ़ के जन जीवन, लोक संस्कृति, लोक गीत में गहरा प्रभाव देखने और सुनने को मिलता है। भगवान श्री राम ने अपने वनवास की 14 साल की अवधि में से लगभग 10 साल की अवधि छत्तीसगढ़ में व्यतीत की। माता कौशल्या से मिले संस्कार और छत्तीसगढ़ में ग्रामीणों, वनवासियों और किसानों के साथ बिताई अवधि ने उनके व्यक्तित्व को इतनी ऊंचाई दी कि भगवान श्री राम मर्यादा पुरूषोत्तम कहलाए। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर माता कौशल्या की नगरी चंदखुरी को प्रणाम करते हुए सभी लोगों को नवरात्रि पर्व की बधाई दी। उन्होंने कहा कि आज यहां का वातावरण ऐसा लग रहा है जैसे माता कौशल्या भगवान राम को लेकर मायके चंदखुरी आई है, पूरा दृश्य मनोरम हो गया है। चंदखुरी ही नहीं पूरा छत्तीसगढ़ भगवान श्री राम का ननिहाल है। उन्होंने कहा कि भगवान श्री राम का यह प्रताप है कि छत्तीसगढ़िया लोग भांचा को राम के रूप में मानते हैं और उन्हें प्रणाम करते हैं।

भगवान श्री राम की 51 फीट ऊंची प्रतिमा का अनावरण

चंदखुरी के प्राचीन माता कौशल्या मंदिर पहुंचकर मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने विधिविधान से पूजा-अर्चना कर प्रदेशवासियों की खुशहाली और समृद्धि की कामना की। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर भगवान श्री राम की 51 फीट ऊंची प्रतिमा का लाईट के माध्यम से अनावरण किया।  गौरतलब है कि कौशल्या माता मंदिर का जीर्णाेद्धार एवं परिसर के सौंदर्यीकरण का कार्य 15 करोड़ 45 लाख रुपए की लागत से किया जा रहा है। वैश्विक पर्यटन के दृष्टिकोण से विकसित किए जा रहे मंदिर परिसर में 51 फीट ऊंची श्रीराम प्रतिमा स्थापित की गई है। साथ परिसर में भव्य गेट, मंदिर के चारांे ओर तालाब का सौंदर्यीकरण, आकर्षक पथ निर्माण, वृक्षारोपण किया गया है। मंदिर चारों ओर से मनमोहक उद्यानों से घिरा है, तालाब के मध्य में शेषनाग शैय्या पर शयन मुद्रा में भगवान विष्णु के चरण दबाते मां लक्ष्मी की आकर्षक प्रतिमा है, दूसरी ओर समुद्र मंथन के दृश्य को प्रतिबिंबित करती हुई देव-दानवों की मूर्तियां श्रद्धालुओं के आकर्षण का प्रमुख केंद्र हैं।

राम वन गमन पर्यटन परिपथ के पग-पग पर होंगे भगवान श्रीराम के दर्शन

छत्तीसगढ़ में भगवान श्रीराम के वनवास काल से जुड़े स्थलों को विश्व स्तरीय पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने के लिए प्रारंभ की गई राम वन गमन पर्यटन परिपथ परियोजना का आज मुख्यमंत्री ने आधिकारिक तौर पर शुभारंभ किया। छत्तीसगढ़ भगवान श्रीराम के ननिहाल के रूप में सम्पूर्ण विश्व में अपनी अलग पहचान रखता है। इस पर्यटन परिपथ के कोरिया जिले से सुकमा तक कदम-कदम पर भगवान श्रीराम के दर्शन होंगे और उनसे जुड़ी महत्व की कथाएं देखने और सुनने को मिलेंगी। राम वन गमन पर्यटन परिपथ परियोजना में सीतामढ़ी हरचौका (कोरिया), रामगढ़ (सरगुजा), शिवरीनारायण (जांजगीर-चांपा), तुरतुरिया (बलौदाबाजार), चंदखुरी (रायपुर), राजिम (गरियाबंद), सिहावा सप्तऋषि आश्रम (धमतरी), जगदलपुर (बस्तर) और रामाराम (सुकमा) का 133 करोड़ 55 लाख रुपए की लागत से पर्यटन की दृष्टि से विकास का कार्य किया जा रहा है। इस पर्यटन परिपथ के माध्यम से राज्य में न केवल ग्रामीण पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा, बल्कि पर्यटन के नए वैश्विक अवसर बढ़ेंगे।

Share This Now :
Continue Reading

Special News

E-कोर्ट के बेहतर प्रसार एवं क्रियान्वयन के लिए छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट को मिला सिल्वर अवार्ड

Published

on

Share This Now :

रायपुर : ई-कोर्ट प्रोजेक्ट के बेहतर प्रसार एवं क्रियान्वयन के लिए नेशनल इंफरमेशन सेंटर (एनआईसी) के डायरेक्टर जनरल की ओर से छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट को सिल्वर अवार्ड प्रदान किया गया है। भारत सरकार राष्ट्रीय सूचना एवं विज्ञान केन्द्र द्वारा ई-कोर्ट, ई-हॉस्पिटल, ई-ऑफिस, सर्विस प्लस आदि सात प्रोजेक्ट पर अवार्ड दिए गए है। जिसमें छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट में संचालित ई-कोर्ट प्रोजेक्ट को यह अवार्ड प्रदान किया गया है। अवार्ड समारोह 1 अक्टूबर को वर्चुअली आयेाजित किया था। छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट की इस उपलब्धि में कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश श्री प्रशांत कुमार मिश्रा का सतत् मार्गदर्शन एवं प्रोत्साहन रहा। हाईकोर्ट कम्प्यूटराईजेशन कमेटी के चेयरमेन जस्टिस मुनीन्द्र मोहन श्रीवास्तव, रजिस्टार जनरल, रजिस्टार कम्प्यूटराईजेशन एवं हाईकोर्ट के सभी तकनीकी अधिकारी कर्मचारी का भी उल्लेखनीय सहयोग रहा।

छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट में एनआईसी के प्रभारी एवं साइंटिस्ट-सी श्री संजय कुमार कश्यप ने बताया कि छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट में माननीय सुप्रीम कोर्ट के दिशा-निर्देश अनुसार ई-कोर्ट प्रोजेक्ट कार्यान्वित की जा रही है। इस प्रोजेक्ट के तहत् हाईकोर्ट, जिला कोर्ट और तालुका कोर्ट में केस इंफरमेशन सिस्टम का नवीनतम संस्करण स्थापित किया गया है, जो सफलतापूर्वक संचालित हो रहा है। केस इंफरमेशन सिस्टम से प्रत्येक स्तर के कोर्ट का डाटा कहीं से भी इंटरनेट में एक्सेस कर ऑनलाईन केस स्टेट्स देख सकते है। ई-कोर्ट का एक मोबाईल ऐप भी उपलब्ध है। कोई भी यूजर ऐप के माध्यम से अपने केस स्टेट्स की जानकारी ले सकता है। श्री कश्यप ने बताया कि छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट में क्योस्क मशीन लगाया गया है और लगभग सभी ज्यूडिशियल सेक्शन को कम्प्यूटराईज कर दिया गया है। इसके साथ ही प्रदेश के सभी जिला व तालुका कोर्ट में भी क्योस्क मशीन उपलब्ध है, जिससे कोई भी पक्षकार अपने केस का स्टेट्स देख सकता है।

केस का स्टेट्स, जजमेंट सभी ऑनलाईन हैं। छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट के वेबसाईट में जाकर एक क्लिक में सभी जानकारी ली जा सकती है। उन्होंने बताया कि आने वाले समय में हाईकोर्ट में ई-कोर्ट प्रोजेक्ट को और विस्तारित किया जाएगा और डिजिटलाईजेशन और कम्प्यूटराईजेशन के क्षेत्र में छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट को और आगे ले जाने का प्रयास करेंगे।

Share This Now :
Continue Reading

Advertisement



Advertisement Sahni Amritsari Kulche

Chhattisgarh Trending News

Festival & Fastings8 hours ago

CG : रायपुर जिला प्रशासन ने Eid Milad Un Nabi के लिए जारी किया दिशानिर्देश, इन जुलूस, रैली सहित इन चीजों पर लगी पाबंदी

रायपुर : ईद मिलादुन्नबी को लेकर रायपुर जिला प्रशासन ने गाइडलाइन जारी की है। गाइडलाइन के अनुसार ईद मिलादुन्नबी के दौरान...

CORONA VIRUS8 hours ago

कोरोना : छत्तीसगढ़ में आज 16 नए मामले आए सामने, 14 मरीज़ हुए रिकवर ; देखिए जिलेवार आंकड़ा

रायपुर : छत्तीसगढ़ मे आज 16 नए कोरोना संक्रमित मरीज मिले। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी मेडिकल बुलेटिन के अनुसार बीते...

देश-विदेश8 hours ago

CM बघेल की पहल पर छत्तीसगढ़ और ओडिशा के पुलिस अधिकारियों की होगी उच्चस्तरीय बैठक, गांजा तस्करी को रोकने के लिए तैयार होगी कार्ययोजना

24 घंटे निगरानी के लिए सीसीटीवी कैमरे और पुलिस जवान होंगे तैनात   मुख्यमंत्री ने राज्य के पुलिस महानिदेशक और विशेष...

राज्य एवं शहर10 hours ago

CG : अंबिकापुर के मेडिकल कॉलेज में 4 नवजातों की मौत की वजह क्या? सरकार ने जांच के लिए भेजी टीम

सरगुजा : छत्तीसगढ़ के सरगुजा जिले में पिछले दो दिन के अंदर चार नवजात बच्चों की मौत हो चुकी है।...

राज्य एवं शहर10 hours ago

CG : CM बघेल ने मांझी, चालकी, पुजारी और जनजातीय समाज प्रमुखों के साथ किया भोजन

रायपुर : मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल बादल एकेडमी के लोकार्पण के बाद परिसर में मांझी, चालकी, पुजारी और जनजातीय समाज...

Advertisement

CONNECT WITH US :

राज्य एवं शहर2 days ago

CG : जशपुर में तेज रफ्तार गांजे से भरी कार ने दुर्गा विसर्जन की झांकी में भीड़ को रौंदा, 1 की मौत, कई की हालत नाजुक

Country News Today Exclusive1 week ago

CG : तीसरी बटालियन के अधिकारी व जवानों द्वारा नहीं देखा जा सका नदी किनारे कचरों का ढेर, जुटकर किया गया सफाई अभियान

Special News1 week ago

CG में खुला राम वन गमन मार्ग, शंकर महादेवन के बोलो राम-राम गीत पर थिरक उठे CM, मानस मण्डली में बघेल ने स्वयं बजाया खंजरी : देखिए वीडियो

देश-विदेश2 weeks ago

VIDEO : UP पहुंचे CG के CM बघेल, पुलिस ने लखनऊ हवाई अड्‌डे पर रोका, विरोध में धरने पर बैठे CM भूपेश, सामान्य यात्री बस में कराया सफर

देश-विदेश2 weeks ago

छत्तीसगढ़ के CM बघेल दिल्ली AICC के प्रेस कॉन्फ्रेंस में UP सरकार पर लगाये कई गंभीर आरोप : देखिए वीडियो

Top 10 News

Must Read

Tech Gyan1 week ago

फोन हो गया चोरी? तो ऐसे ब्लॉक करें PAYTM अकाउंट, पूरा पैसा रहेगा सुरक्षित! ; देखिए स्टेप्स

National Desk : आज के समय से भारत में शायद ही कोई ऐसा स्मार्टफोन हो, जिसमें Paytm ना हो। नुक्कड...

Country News Today Exclusive1 week ago

CG : तीसरी बटालियन के अधिकारी व जवानों द्वारा नहीं देखा जा सका नदी किनारे कचरों का ढेर, जुटकर किया गया सफाई अभियान

अम्लेश्वर, दुर्ग : तीसरी वाहिनी के सेनानी धर्मेन्द्र सिंह (भापुसे) के निर्देशन में 02 अक्तूबर को स्वच्छ भारत अभियान के...

Special News1 week ago

CG में खुला राम वन गमन मार्ग, शंकर महादेवन के बोलो राम-राम गीत पर थिरक उठे CM, मानस मण्डली में बघेल ने स्वयं बजाया खंजरी : देखिए वीडियो

भारती बंधुओं ने कबीर के दोहे से बांधा समां, कबीर कैफे मुंबई की प्रस्तुति से झूम उठे दर्शक छत्तीसगढ़ के...

Special News2 weeks ago

E-कोर्ट के बेहतर प्रसार एवं क्रियान्वयन के लिए छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट को मिला सिल्वर अवार्ड

रायपुर : ई-कोर्ट प्रोजेक्ट के बेहतर प्रसार एवं क्रियान्वयन के लिए नेशनल इंफरमेशन सेंटर (एनआईसी) के डायरेक्टर जनरल की ओर...

Tech Gyan2 weeks ago

Reliance Jio Network Outrage : रिलायंस जियो का नेटवर्क हुआ डाउन, ट्विटर पर भड़का यूजर्स का गुस्सा

नई दिल्ली : देश की सबसे बड़ी टेलिकॉम ऑपरेटर कंपनी रिलायंस जियो (Reliance Jio) के यूजर्स को आज काफी परेशानी का सामना...

Advertisement

Trending