Wednesday, February 8, 2023

CG की सिंगर को ब्रेन हेमरेज,गम में बुआ की मौत,मोनिका खुरसैल के इलाज के लिए मदद की दरकार, आर्थिक तंगी से जूझ रहा परिवार

छत्तीसगढ़ी गीतों से हर कार्यक्रम में लोगों की वाहवाही बटोरने वाली यंग सिंगर मोनिका की हालत गंभीर है। बिलासपुर की रहने वाली मोनिका को रायपुर लाया गया है। शहर के पचपेड़ी नाका स्थित प्राइवेट अस्पताल में इसका इलाज चल रहा है। ब्रेन हेमरेज की वजह से मोनिका की हालत बेहद नाजुक बनी हुई है।

मोनिका खुरसैल ने कई छत्तीसगढ़ी गाने गाए हैं। रायपुर बिलासपुर में स्टेज शोज किए हैं। सोशल मीडिया पर कई फेमस छत्तीसगढ़ी एक्टर्स के साथ इनके कोलैब वीडियो हैं। मगर अब जब जिंदगी मुश्किल में है तो साथ देने वाला कोई नहीं है। खराब माली हालत से गुजर रहे मोनिका के परिवार को सरकार और सामाजिक संस्थाओं से मदद की आस है।

परिवार मुश्किल में

सामाजिक कार्यकर्ता प्रियंका शुक्ला ने दैनिक भास्कर को बताया कि मोनिका यंग टैलेंटेड सिंगर रही हैं। उसे ब्रेन हेमरेज हुआ है। अस्पताल के ICU में हर दिन इलाज का खर्च करीब 1 लाख रुपए आ रहा है। परिवार अपना सब कुछ लगा चुका है। कर्ज भी लिया है, मगर अब परेशानी बढ़ती जा रही है। मोनिका ने मेरी ख़ुशी, अरपा पैरी के धार, बाबा साहेब, होली गीत डारन दे, जैसे गाने गए जो काफी पसंद किए हैं। आज मोनिका ज़िंदगी और मौत के बीच संघर्ष कर रही है।

मां जैसी बुआ गम में चल बसी

अस्पताल में जहां मोनिका अपनी जिंदगी के लिए मौत से लड़ रही है उसकी ये हालत परिवार झेल नहीं पा रहा है। मोनिका की मां नहीं है। बुआ ने ही मां की तरह पाला, मोनिका अपनी बुआ को ही मां कहती थीं। मोनिका की बिगड़ती हालत वो देख न सकीं तीन दिन पहले ही उनका निधन हो गया। बीते 8 नवंबर को मोनिका की दादी का देहांत हो गया। प्रिया शुक्ला ने बताया कि मोनिका के परिवार के लिए ये समय बेहद मुश्किलों भरा है।

परिवार को आर्थिक मदद की आस

मोनिका के पिता प्रमोद पेशे से वकील हैं, सभी घर वालों ने बेटी को बचाने भरपूर प्रयास किया है। अब परिजनाें को उम्मीद है कि उन्हें सरकार से मदद मिल जाए। कुछ मंत्रियों और विधायकों तक बता पहुंचाई भी मगर अब तक कोई ठोस मदद नहीं मिली है। मोनिका की मदद की अपील सामाजिक कार्यकर्ता लोगों से प्रदेश के अन्य कलाकारों से कर रहे हैं।

आप भी कर सकते हैं मदद

सिंगर मोनिका को दुआ और दवा दोनों की जरूरत है। मोनिका के भाई अविनाश के अकाउंट क्यू आर कोड के जरिए उसे मदद भेजी जा सकती है। कुछ लोगों ने मदद का हाथ बढ़ाया है, आर्थिक मदद के लिए इस क्यू आर कोड को स्कैन कर मदद की जा सकती है।

सरकार ने की थी हर्ष की मदद

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने 7 दिन पहले मासूम हर्ष के इलाज के लिए हर मुमकिन मदद का ऐलान किया था। सीएम ने इसके लिए कलेक्टर को निर्देश जारी कर दिए थे। हर्ष को रायपुर के सरकारी मॉडल अस्पताल में भर्ती किया गया था। 13 महीने का हर्ष इलाज के अभाव में परिजनों के साथ रायपुर एम्स के बाहर फुटपाथ पर रहने को मजबूर था। कवर्धा से आए 13 महीने के बच्चे को पांच महीने से मां फुटपंप से सांसें दे रही थी। बच्चे को ब्रेन ट्यूमर है और वो नाक से सांस नहीं ले सकता। अब कैंसर ने इसे घेर रखा है।

spot_img

AAJ TAK LIVE

ABP LIVE

ZEE NEWS LIVE

अन्य खबरे
Advertisements
यह भी पढ़े
Live Scores
Rashifal
Panchang