Wednesday, February 8, 2023

Submarine INS Vagir :भारतीय नौसेना में शामिल होगा समुद्र का साइलेंट शार्क ,चकमा देकर हमला करने में माहिर

मुंबई 21 जनवरी 2023:  भारतीय नौसेना Indian Navy) की ताकत में लगातार इजाफा हो रहा है।23 जनवरी को पराक्रम दिवस यानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस के जन्मदिन के साथ ही देश में हफ़्ते भर चलने वाले जश्न-ए-गणतंत्र का आगाज़ हो रहा है. पराक्रम दिवस के दिन भारत की शक्तिशाली पनडुब्बी आईएनएस वागीर नौसेना के जंगी बेड़े में शामिल होने जा रही है. आईएनएस वागीर सबमरीन के रूप में हिंदुस्तान के समुद्र का एक नया सिकंदर मिलने जा रहा है. इंडियन नेवी को आधुनिक कैलवरी क्लास की अटैक सबमरीन वागीर मिल जाएगी। अधिकारियों ने बताया कि भारत में इन पनडुब्बियों का निर्माण मझगांव डॉक शिपबिल्डर्स लिमिटेड (MDL) मुंबई द्वारा मैसर्स नेवल ग्रुप, फ्रांस के सहयोग से किया जा रहा है। कलवरी श्रेणी की चार पनडुब्बियों को पहले ही भारतीय नौसेना में शामिल किया जा चुका है।

पनडुब्बी आईएनएस वागीर में क्या है खास
ये सबमरीन समुद्र के अंदर बारूदी सुरंग बिछाने में सक्षम है। इस आईएनएस वागीर सबमरीन तो 350 मीटर की गहराई में तैनात किया जा सकता है। यह आधुनिक तकनीकों से लैस है। जिसके चलते दुश्मन को भी इसका आसानी से पता नहीं चल पाएगा। ये सबमरीन पूर्ण रूप से स्वदेशी पनडुब्बी है।आईएनएस वागीर एक कलवरी क्लास डीजल इलेक्ट्रिक सबमरीन है. INS वागीर की लंबाई 221 फीट और चौड़ाई 40 फीट है. इसमें चार ताकतवर डीजल इंजन लगे हैं. ये समुद्र के अंदर ये 37 किलोमीटर प्रति घंटा की टॉप स्पीड से चलती है. तो वहीं समुद्र की सतह पर 20 किलोमीटर प्रति घंटा की टॉप स्पीड से चल सकती है. बिना किसी दिक्कत के ये 350 फीट गहराई तक जा सकती है. ये समुद्र की सतह पर एक बार में 12 हजार किलोमीटर का सफर तय कर सकती है. तो वहीं वागीर समुद्र के अंदर एक बार में एक हजार किलोमीटर से ज्यादा का सफर तय कर सकती है. ये पनडुब्बी लगातार 50 दिनों तक पानी के अंदर रह सकती है. ये आधुनिक नेविगेशन और ट्रैकिंग सिस्टम से लैस है. साथ ही इसमें 40 से ज्यादा सैन्य अधिकारी सवार हो सकते हैं.

spot_img

AAJ TAK LIVE

ABP LIVE

ZEE NEWS LIVE

अन्य खबरे
Advertisements
यह भी पढ़े
Live Scores
Rashifal
Panchang