Connect with us

Country News Today Exclusive

CG : सोवियत संघ और भारत के बीच आज के दिन ही BSP स्थापना के लिए हुआ था करार ; शपथ फाउन्डेशन भिलाई द्वारा आयोजित ‘Thank You Bhilai’ में शामिल हुए MLA विकास और देवेंद्र

Published

on

Share This Now :

दुर्ग-भिलाई, लाभेश घोष : दुर्ग जिले के भिलाई में स्थित भिलाई इस्पात संयंत्र की स्थापना का करार सोवियत संघ और भारत सरकार के बीच आज के ही दिन 2 फरवरी को हुआ था। भिलाई स्टील प्लांट का लोहा पूरे विश्व में माना जाता है। रेल की पटरी से लेकर तमाम बड़े प्रोजेक्टों में स्टील स्ट्रक्चर्स आदि भिलाई स्टील प्लांट से निर्मित होते हैं।

cnt_05nov22
3- 13 sep 2022
4 - 13 sep 2022
1 -13 sep 22
2 - 13 sep 22

इस अवसर पर शपथ फाउन्डेशन भिलाई द्वारा ‘Thank You Bhilai’ कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमे भिलाई को धन्यवाद करने का कार्यक्रम रखा गया। इस अवसर पर शपथ फाउन्डेशन भिलाई के तमाम पदाधिकारी एवं रायपुर पश्चिम के विधायक एवं संसदीय सचिव विकास उपाध्याय और भिलाई नगर विधायक देवेंद्र यादव, पार्षद आदित्य सिंह भी शामिल हुए।

विधायक देवेंद्र यादव ने कहा भिलाई पूरे भारत के लिए उद्यमियता के स्मारक के रुप में जाना जाता है. भिलाई हमारा गौरव है.. इस धरती का धन्यवाद करता हूँ Thank You Bhilai।  इस उपलक्ष्य पर संसदीय सचिव बड़े भाई श्री विकास उपाध्याय जी का भी सानिध्य प्राप्त हुआ, सफल आयोजन हेतु शपथ फाउन्डेशन परिवार को असीम शुभकामनाएं।

भिलाई गांव से भिलाई शहर तक का सफर

भिलाई गांव से लेकर भिलाई शहर तक का सफर बड़ा ही रोचक हैं, जी हां! शायद आप लोग में से बहुत लोगों को पता नहीं होगा खासकर युवा पीढ़ी को कि भिलाई पहले गांव हुआ करता था। 

भिलाई इस्पात संयंत्र के निर्माण के लिए समझौते पर हस्ताक्षर

तारीख थी 2 फरवरी जिस दिन सोवियत संघ और भारत सरकार के बीच भिलाई स्टील प्लांट की स्थापना का करार हुआ। तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू कि केंद्र में सरकार थी। करार होते ही भिलाई गांव की तस्वीर बदलने लगी। तब भिलाई मध्यप्रदेश का हिस्सा हुआ करता था।

जवाहरलाल नेहरू वेनियामिन दिमशिट्स के साथ, जो आगे चलकर सोवियत उप-प्रधानमंत्री बने

भिलाई स्टील प्लांट की स्थापना के करार के बाद ही रोजगार के नए अवसर मिलने लगे भिलाई गांव में तरक्की के दरवाजे खुलने लग गए।

भारतीय इंजीनियरों से मिलते हुए जवाहरलाल नेहरू

आइए इसी पर आधारित भारत सरकार, फिल्म डिवीजन और बीबीसी की भिलाई स्टील प्लांट की स्थापना पर आधारित यह डॉक्यूमेंट्री देखें :

ताजा न्यूज़ अपडेट के लिए कंट्री न्यूज़ टुडे के यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करने के लिए यहां क्लिक करें

दस बार देश का सर्वश्रेष्ठ एकीकृत इस्पात प्लांट के लिए प्रधानमंत्री ट्रॉफी

विकिपीडिया के अनुसार इस संयंत्र की स्थापना सोवियत संघ की सहायता से 1955 में हुई थी। इस कारखाने की स्थापना दूसरी पंचवर्षीय योजना (1956-61)के अंतर्गत की गई थी।

दस बार देश का सर्वश्रेष्ठ एकीकृत इस्पात कारखाने के लिए प्रधानमंत्री ट्रॉफी प्राप्त यह कारखाना राष्ट्र में रेल की पटरियों और भारी इस्पात प्लेटों का एकमात्र निर्माता तथा संरचनाओं का प्रमुख उत्पादक है। देश में 260 मीटर की रेल की सबसे लम्बी पटरियों के एकमात्र सप्लायर, इस कारखाने की वार्षिक उत्पादन क्षमता 31 लाख 53 हजार टन विक्रेय इस्पात की है। यह कारखाना वायर रॉड तथा मर्चेन्ट उत्पाद जैसे विशेष सामान भी तैयार कर रहा है। भिलाई इस्पात कारखाना आईएसओ 9001:2000 गुणवत्ता प्रबन्धन प्रणाली से पंजीकृत है। अतः इसके सभी विक्रेय इस्पात आईएसओ की परिधि में आते हैं।

भिलाई के कारखाने, इसकी बस्ती और डल्ली खानों को पर्यावरण प्रबन्धन प्रणाली से सम्बन्धित आईएसओ 14001 भी प्राप्त है। यह देश का ऐसा एकमात्र इस्पात कारखाना है जिसे इन सभी क्षेत्रों में प्रमाणपत्र मिला है। कारखाने को सामाजिक उत्तरदायित्व निभाने के लिए एसए: 8000 प्रमाणपत्र और व्यावसायिक स्वास्थ्य तथा सुरक्षा के लिए ओएचएसएएस-18001प्रमाणपत्र भी प्राप्त है। इन अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर मान्य प्रमाणपत्रों के कारण भिलाई के उत्पादों का महत्व और भी बढ़ जाता है तथा इस्पात उद्योग में इसकी गणना सर्वश्रेष्ठ संगठनों में की जाती है। भिलाई को अनेक राष्ट्रीय पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है तथा इसे लगातार तीन वर्ष सीआईआई-आईटीसी सस्टेनेबिलिटी पुरस्कार प्राप्त हुआ है।

advt_02 - Copy
advt_04 - Copy
advt_01 - Copy
advt_03 - Copy
advt_02 - Copy advt_04 - Copy advt_01 - Copy advt_03 - Copy

Share This Now :

Country News Today Exclusive

MLNC Enactus के प्रोजेक्ट ‘स्नेह’ द्वारा रियूजेबल कपड़े के डायपर उत्पादन से पर्यावरण बचाव के साथ-साथ मिला रहा रोजगार ; जानिए क्या है खासियत?

Published

on

Share This Now :

नई दिल्ली : मोतीलाल नेहरू कॉलेज (दिल्ली यूनिवर्सिटी), नई दिल्ली के सामाजिक संगठन ‘Enactus’ ने एक खास पहल के तहत प्रोजेक्ट ‘स्नेह’ का संचालन किया जा रहा है।

cnt_05nov22
3- 13 sep 2022
4 - 13 sep 2022
1 -13 sep 22
2 - 13 sep 22

प्रोजेक्ट ‘स्नेह’ का मुख्य उद्देश्य खुले में शौच को रोकना और विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में बच्चों के बीच स्वच्छता की आदतों को बढ़ावा देने पर कार्य कर रहा है।

Enactus MLNC के प्रोजेक्ट ‘स्नेह’ के हेड वंश अग्रवाल ने कंट्री न्यूज टुडे के साथ एक्सक्लूसिव बातचीत में बताया की – हम उन्हें गैर-बायोडिग्रेडेबल डायपर के उपयोग को हतोत्साहित करने के साथ-साथ उचित मूल्य पर पुन: प्रयोज्य कपड़े के डायपर प्रदान करते हैं। प्रोजेक्ट स्नेह पुन: प्रयोज्य कपड़े के डायपर प्रदान करके समस्याओं का समाधान करता है, इन डायपर की खास बात ये है की ये पर्यावरण के अनुकूल होने के साथ-साथ किफायती भी हैं।

इस परियोजना का उद्देश्य समुदाय के बीच स्वास्थ्य और स्वच्छता के बारे में जागरूकता पैदा करना है ताकि वे बुनियादी स्वच्छता आदतों को अपना सकें। ये कपड़े के डायपर वंचित महिलाओं द्वारा प्राकृतिक कपड़ों से बनाए जाते हैं।

जो बच्चे की कोमल त्वचा के लिए सुरक्षित होते हैं। बच्चों और पर्यावरण की सुरक्षा सुनिश्चित करते हुए, परियोजना महिला रोजगार को बढ़ावा देने पर भी निर्देशित करती है।

हमने जनवरी 2019 में चाणक्यपुरी, मॉडल टाउन, कीर्ति नगर, लाल बाग, ओखला गांव और हौज खास में शुरुआत की। हमने 250 से अधिक डायपर बेचकर और अब तक 628 डॉलर की आय अर्जित करके 500 से अधिक जीवन को सीधे प्रभावित किया है। “

Enactus के प्रोजेक्ट ‘स्नेह’ के उपलब्धियां  :

  • रेस 4 ओशन्स, एनेक्टस वर्ल्ड 2021 में शीर्ष 12 में पहुंचे।
  • व्यापक रूप से पढ़े जाने वाले अमर उजाला, एचटी सिटी और स्टार्ट-अप इंडिया पत्रिका में उल्लेख किया गया।
  • द स्टार्टअप बॉक्स, आर्यभट्ट 2020 में प्रथम स्थान प्राप्त किया।
  • JIMS (जयपुरिया इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट), 2021 द्वारा पिच द प्लान में फर्स्ट रनर अप।
  • विशेष उल्लेख, सिमरोह बी योजना, सिम्बायोसिस नोएडा, 2020

प्रोजेक्ट ‘स्नेह’ के बारे में अधिक जानने के लिए निम्न वेबसाइट पर जाएँ – http://www.enactusmlnc.com/project-sneh/

प्रोजेक्ट स्नेह के प्रमुख, वंश अग्रवाल से अधिक जानकारी के लिए +91 99997 88787 पर संपर्क किया जा सकता है।)

नोट : ये खबर Sponsored नहीं है, केवल सूचना और जागरूकता, पर्यावरण बचाओ और समाज कल्याण के उद्देश्य से इस खबर को प्रकाशित किया गया है। ये खबर के लिए किसी भी तरह का शुल्क नहीं लिया गया है। कंट्री न्यूज टुडे किसी भी लेनदेन को न ही प्रत्सोहित करता है न ही किसी भी तरीके के लेनदेन के लिए जिम्मेदार हैं।

advt_02 - Copy
advt_04 - Copy
advt_01 - Copy
advt_03 - Copy
advt_02 - Copy advt_04 - Copy advt_01 - Copy advt_03 - Copy

Share This Now :
Continue Reading

Country News Today Exclusive

CNT Exclusive : दुर्ग में शिवनाथ का विकराल रूप : बारिश से बाढ़ के हालत ; शहर के इस फोटोग्राफर के द्वारा ड्रोन से लिए गए तस्वीरों में देखिए मंजर

Published

on

PC : Vedant Sharma
Share This Now :

दुर्ग : “शिवनाथ” अगर आप दुर्ग, रायपुर, बिलासपुर और छत्तीसगढ़ से ताल्लुक रखते है तो ये नाम आप लोगो ने जरूर सुना होगा। जी हा, आज हम बाबा भोले के नाम पर पावन नदी शिवनाथ के बारे में बात कर रहें है। जो की महानदी की मुख्य सहायक नदियों में से एक है। छत्तीसगढ़ में लगातर हो रहे बारिश से शिवनाथ नदी उफान पर है, नदी से लगे इलाको में बाढ़ के हालत है। आज हम आपको शिवनाथ नदी के विकराल रूप का ड्रोन से लिए गए तस्वीरें दिखाएंगे एवं कुछ अनसुनी खास बाते बताएंगे।

cnt_05nov22
3- 13 sep 2022
4 - 13 sep 2022
1 -13 sep 22
2 - 13 sep 22

ट्विटर में देखिए तस्वीरे और पेज को फॉलो जरूर करें ;

इंस्टाग्राम में देखिए तस्वीरे और पेज को फॉलो जरूर करें : 

फेसबुक में तस्वीरे देखने के लिए यहां क्लिक करें और पेज को लाइक और फॉलो जरूर करें (Click Here)

ये तस्वीर दुर्ग शहर के टैलेंटेड फोटोग्राफर वेदांत शर्मा ने ड्रोन के द्वारा खींची हैं।

शिवनाथ नदी से जुड़ी खास बातें...

शिवनाथ नदी महानदी की सबसे लंबी सहायक नदी है, जो भारत के छत्तीसगढ़ में जांजगीर-चांपा जिले के चंगोरी में मिलती है। इसका कुल कोर्स 290 किलोमीटर (180 मील) है। यह नाम हिंदू धर्म में भगवान शिव का है।

शिवनाथ नदी कहा से हुई उत्पन्न ?

शिवनाथ नदी महाराष्ट्र के गढ़चिरौली जिले के गोदरी गाँव से उत्पन्न होती है और 300 किलोमीटर उत्तर पूर्व की ओर बहती है। छत्तीसगढ़ में शिवरीनारायण शहर के पास महानदी नदी में मिल जाता है। छत्तीसगढ़ के राजनांदगांव जिले के अंबागढ़ चौकी डिवीजन में समुद्र तल से 624 मीटर (2,047 फीट) ऊपर पानाबारस हिल से शिवनाथ बहते हुए आती है।

advt_02 - Copy
advt_04 - Copy
advt_01 - Copy
advt_03 - Copy
advt_02 - Copy advt_04 - Copy advt_01 - Copy advt_03 - Copy

Share This Now :
Continue Reading

Country News Today Exclusive

दिल्ली : मोतीलाल नेहरू कॉलेज के Enactus ने प्रोजेक्ट DESI के तहत, 1200 से ज्यादा श्वानों का नसबंदी और टीकाकरण कराया ; पढ़िए CNT के साथ उनकी खाश बातचीत

Published

on

Share This Now :

नई दिल्ली, लाभेष घोष : मोतीलाल नेहरू कॉलेज नई दिल्ली के सामाजिक संगठन ‘ENACTUS’ ने एक पहल के तहत प्रोजेक्ट ‘DESI’ की शुरूआत की। Enactus MLNC ने इसमें परिसर के आसपास श्वान की नसबंदी, टीकाकरण और उन्हें खाना खिलाने का जिम्मा उठाया हैं। बेजुबान जानवरों की सुरक्षा और जरूरतों को लेकर वे सब बहुत चिंतित हैं।

cnt_05nov22
3- 13 sep 2022
4 - 13 sep 2022
1 -13 sep 22
2 - 13 sep 22

भारत 🇮🇳 और दुनिया 🌍 भर से ब्रेकिंग न्यूज़ 🗞️ और नवीनतम 🆕️ अपडेट अपने मोबाइल 📲 में पाने के लिए कंट्री न्यूज टुडे के 🔗Whatsapp Group से जुड़े।          Click Here

कंट्री न्यूज टुडे के साथ Enactus MLNC ने एक्सक्लूसिव बातचीत में बताया की – पशु कल्याण सदैव ही Enactus MLNC का मूल सिद्धांत रहा है। हम इस विचार को सत्य मानते हैं कि पशुओं की भलाई के सभी पहलुओं पर गौर करना हमारी जिम्मेदारी है, जिसमें भोजन, आश्रय, बीमारी की रोकथाम और उपचार, तथा जानवरों की समग्र देखभाल शामिल है।

Read Also : 777 Charlie Review : कलयुग के ‘धर्मराज’ की रुला देने वाली कहानी ; श्वान और इंसान के बीच अनोखा रिश्ता समझाएगा ये फिल्म ; देखिए ट्रेलर

शुरू से ही हम मानव-पशु संबंधों में सकारात्मक बदलाव लाने की पूरी कोशिश करते रहे हैं और हमारी संस्थापक परियोजना, प्रोजेक्ट देसी, उसी लक्ष्य को पूरा करती है।

भारत और दुनिया 🌍 भर से ब्रेकिंग न्यूज़ 🗞️ और नवीनतम 🆕️ अपडेट अपने मोबाइल 📲 में पाने के लिए कंट्री न्यूज टुडे का 🔗 Youtube चैनल सब्सक्राइब करें। (Click Here)

2014 में, Enactus MLNC ने पशु कल्याण के लिए प्रोजेक्ट DESI शुरू किया। DESI का मतलब है (Duty To Empathise Sterilise and Immunise) अर्थात् दिल्ली के आवारा कुत्तों को सहानुभूति प्रदान करना, उनकी नसबंदी करवाना और उनका टीकाकरण करवाना Enactus MLNC का लक्ष्य है। भारत में आवारा कुत्तों की एक बड़ी आबादी है। यहां 30 मिलियन से ज्यादा आवारा कुत्ते रहते है, और उनके साथ अक्सर लोगों द्वारा दुर्व्यवहार करते देखा जाता है। आज भी देश का एक बड़ा वर्ग जानवरों के साथ अमानवीय व्यवहार करता है। एक ऐसे देश में जहां कुछ जानवरों को देवताओं के समान सम्मान दिया जाता है, वहीं दूसरों को इमारतों से फेंक दिया जाता है, गाड़ी से कुचल दिया जाता हैं तथा मनोरंजन के लिए विभिन्न तरीकों से अत्याचार किया जाता है।

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Project DESI (@project.desi)

प्रोजेक्ट DESI के माध्यम से, हम आवारा कुत्तों की अधिक आबादी, रेबीज, कुत्तों में आक्रामकता और बहुत कुछ ऐसे मुद्दों पर अंकुश लगाने का उद्देश्य रखते हैं। अब तक हमने दिल्ली के विभिन्न इलाकों में नियमित अभियान चलाकर 1200 से अधिक कुत्तों की नसबंदी और टीकाकरण सफलतापूर्वक किया है।

हमने अपने कार्य क्षेत्र में विस्तार किया है और अब मेरठ, मुजफ्फरनगर, मोदीनगर, गाजियाबाद और नोएडा में भी काम कर रहे हैं, जहां हमने 300 से अधिक कुत्तों का टीकाकरण और नसबंदी करवाई है। प्रोजेक्ट DESI पशु कल्याण के बारे में लोगों को शिक्षा और जागरूकता की दिशा में भी प्रमुख रूप से काम करता है, क्योंकि हम मानते हैं कि ज्ञान और जागरूकता एक बड़े बदलाव की कुंजी है।

भारत 🇮🇳 और दुनिया 🌍 भर से ब्रेकिंग न्यूज़ 🗞️ और नवीनतम 🆕️ अपडेट अपने मोबाइल 📲 में पाने के लिए कंट्री न्यूज टुडे को🔗Twitter पर फ़लो  करें। (Click Here)

हमने रेबीज, कुत्ते के काटने और समग्र मानव-पशु कल्याण जैसे गंभीर मुद्दों पर 1,20,000+ लोगों को प्रभावी ढंग से शिक्षित और जागरूक किया है। प्रोजेक्ट DESI के प्रयासों की कई संगठनों द्वारा प्रशंसा की गई है, जिसमें संयुक्त राज्य अमेरिका स्थित फंडिंग संगठन, द पोलिनेशन प्रोजेक्ट से एक उदार अनुदान भी शामिल है। उनकी मदद से हम दिल्ली एनसीआर में अधिक से अधिक कुत्तों की नसबंदी कराने में सक्षम हैं।

भारत और दुनिया 🌍 भर से ब्रेकिंग न्यूज़ 🗞️ और नवीनतम 🆕️ अपडेट अपने मोबाइल 📲 में पाने के लिए कंट्री न्यूज टुडे को🔗Instagram पर फ़ॉलो करें। (Click Here)

अफवाहों के कारण कोरोना संक्रमण के दौरान कुत्तों पर पड़ा बुरा असर

जैसे-जैसे महामारी विभिन्न घातक मुद्दों जैसे बेरोजगारी, मृत्यु दर में वृद्धि आदि का एक बड़ा और एकमात्र कारण बन गई, वायरस उन लोगों को भी प्रभावित कर रहा था जिनके पास आवाज नहीं थी। अपने भोजन का एकमात्र स्रोत खोने के कारण, कई आवारा जानवर भूख से मर गए और उसी के कारण मृत्यु हो गई।

भारत और दुनिया 🌍 भर से ब्रेकिंग न्यूज़ 🗞️ और नवीनतम 🆕️ अपडेट अपने मोबाइल 📲 में पाने के लिए कंट्री न्यूज टुडे को🔗Facebook पर फॉलो और लाइक करें। (Click Here)

Enactus MLNC के सभी टीम के सदस्य हमारे साथी प्राणियों के प्रति समर्पित हैं, और महामारी के दौरान, हमने दूर से ही अधिक से अधिक कुत्तों तक पहुंचना सुनिश्चित किया, जो अब दैनिक आधार पर कम से कम 200 कुत्तों को खिलाने में मदद करता है। विभिन्न अफवाहों के कारण जानवरों के साथ भी दुर्व्यवहार किया गया, जिसमें कहा गया था कि वायरस जानवरों के माध्यम से प्रसारित किया जा सकता है।

इस तरह की अफवाहों के कारण कई परिवारों ने अपने कुत्तों को बीच में ही छोड़ दिया। जानवरों ने किस हद तक पीड़ित किया, यह महसूस करके हम चुप नहीं रह सके। इसलिए, हम देसीक्लब के विचार के साथ आए, जो प्रोजेक्ट DESI के समानुभूति वाले हिस्से को पूरा करता है। देसी क्लब उन्हें बचाने और आवारा कुत्तों को गोद लेने की दिशा में भी काम करता है। अब तक, हमने 150 बेघर कुत्तों को गोद लिया है और 40 जानवरों को बचाया है।

महात्मा गांधी ने एक बार कहा था कि “किसी राष्ट्र की महानता और उसकी नैतिक प्रगति का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि उसके जानवरों के साथ कैसा व्यवहार किया जाता है।” हम, Enactus MLNC में, इस आदर्श वाक्य पर विश्वास करते हैं और जीते हैं। हमारा उद्देश्य लोगों में इन जानवरों के प्रति जिम्मेदारी और संवेदनशीलता की भावना जगाकर आवारा पशुओं के लिए एक सुरक्षित वातावरण बनाना है।

Enactus MLNC के अध्यक्ष श्री आर्यनमन चतुर्वेदी के मार्गदर्शन में, हमने इस संगठन के तहत सभी परियोजनाओं के लिए बड़ी सफलता हासिल की है।

Enactus MLNC के प्रत्येक सदस्य के लिए, पशु कल्याण का बहुत महत्व है। प्रोजेक्ट DESI ने मानव-पशु संबंधों की बेहतरी की दिशा में ईमानदारी से काम किया है, हमने एक लंबा सफर तय किया है और हमने जितना सोचा था उससे कहीं अधिक हासिल किया है। लेकिन, हम और भी अधिक बेजुबान प्राणियों तक पहुंचना और उनकी मदद करना चाहते हैं और इसके लिए हम सभी को प्रोत्साहित करते हैं कि वे आगे आएं और एक कुत्ते को खिलाने जितना काम करके इस नेक काम में मदद करें।

(परियोजना DESI की प्रमुख, राधिका से अधिक जानकारी के लिए 9818962494 पर संपर्क किया जा सकता है।)

कंट्री न्यूज़ टुडे मोतीलाल नेहरू कॉलेज नई दिल्ली के ENACTUS द्वारा संचालित की जा रही प्रोजेक्ट DESI की सराहना करता है और सभी लोगों से निवेदन करता है कि आवारा कुत्तों को अपनी क्षमता के अनुसार जरूर खाना खिलाए, सहारा दे, मदद करें और अडॉप्ट करें।

नोट : ये खबर Sponsored नहीं है, केवल सूचना और जागरूकता और पशु भलाई के उद्देश्य से इस खबर को प्रकाशित किया गया है। ये खबर के लिए किसी भी तरह का शुल्क नहीं लिया गया है। कंट्री न्यूज टुडे किसी भी लेनदेन के न ही प्रत्सोहित करता है न ही किसी भी तरीके के लेनदेन के लिए जिम्मेदार हैं।

advt_02 - Copy
advt_04 - Copy
advt_01 - Copy
advt_03 - Copy
advt_02 - Copy advt_04 - Copy advt_01 - Copy advt_03 - Copy

Share This Now :
Continue Reading

Something New!!!!

RO-NO-12200/24

RO-NO-12200/24

RO-NO-12172/78

RO-NO-12141/77

RO-NO-12111/80





RO-NO-12078/75

Advertisement

Chhattisgarh Trending News

राज्य एवं शहर19 mins ago

राजधानी में राज्य स्तरीय मेगा जॉब फेयर का आयोजन, 46 हजार 616 पदों पर होगी भर्ती

रायपुर 4 दिसंबर 2022: शिक्षित बेरोजगार युवाओं के लिए मेगा जॉब फेयर (mega job fair) का आयोजन राजधानी में किया...

राज्य एवं शहर21 mins ago

भारतीय नौसेना दिवस: साहस, शौर्य और निष्ठा के प्रतीक नौसैनिकों को सीएम भूपेश ने दी शुभकामनाएं

रायपुर 4 दिसंबर 2022: मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने 4 दिसम्बर को भारतीय नौसेना दिवस पर साहस, शौर्य और निष्ठा के...

राज्य एवं शहर30 mins ago

भानुप्रतापपुर उपचुनाव:नक्सल प्रभावित क्षेत्रों के लिए तैयार हैं हेलीकॉप्टर,8 दिसंबर को होगी मतगणना

भानुप्रतापपुर उपचुनाव 4 दिसंबर 2022: राज्य के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय ने भानुप्रतापपुर उप चुनाव के लिए तैयारी पूरी कर...

क्राइम32 mins ago

KBC के नाम पर ठगी,पिता की गई जान

सरगुजा 4 दिसंबर 2022: सरगुजा जिले में टीवी के लोकप्रिय गेम शो ‘कौन बनेगा करोड़पति’ के नाम पर रोजगार सहायक...

क्राइम34 mins ago

दिनदहाड़े चाकू की नोक पर 3 युवकों की किडनैपिंग,फोन पर मांगी 50 हजार रुपए की फिरौती

भिलाई 4 दिसंबर 2022: छत्तीसगढ़ के भिलाई में कुछ युवकों ने कार को रुकवा कर उसमें बैठे तीन युवकों को...

Advertisement

CONNECT WITH US :

Country News Today Exclusive3 months ago

MLNC Enactus के प्रोजेक्ट ‘स्नेह’ द्वारा रियूजेबल कपड़े के डायपर उत्पादन से पर्यावरण बचाव के साथ-साथ मिला रहा रोजगार ; जानिए क्या है खासियत?

क्राइम3 months ago

शर्मनाक : रायपुर में नाबालिग ने की अमानवीयता की सारे हदें पार, 5 कुत्तों के ऊपर फेंका एसिड, 2 की मौत, वीडियो आया सामने

क्राइम3 months ago

CG BREAKING : रायपुर के तेलीबांधा तालाब में कूदकर आत्महत्या करने वाले युवक की लाश बरामद ; देखिए वीडियो

बॉलीवुड तड़का - Entertainment4 months ago

MMS Scandal : एमएमएस लीक कांड पर कच्चा बादाम फेम अंजली अरोरा की तीखी प्रतिक्रिया, अभद्र भाषा इस्तेमाल करते हुए कह डाली ये बात : देखिए वीडियो

राज्य एवं शहर4 months ago

CG : दुर्ग में शिवनाथ नदी खतरे के निशान से 15 फीट ऊपर, कई गांव डूबे, शहर में भी घुसा पानी, SDRF ने किया रेस्क्यू ; 4 साल पहले बना पुल धंसा : देखिए वीडियो

Top 10 News

Must Read

Special News1 day ago

पुष्पा 2 में होगी सज्जाद डेलाफ्रूज की एंट्री, अल्लू और सज्जाद शेयर करेंगे स्क्रीन

मुंबई 3 दिसम्बर 2022: अल्लू अर्जुन (Allu Arjun) की पुष्पा के बाद अब इसके Pushpa 2 का फैंस को बेसब्री...

Special News2 weeks ago

CG में बॉलीवुड फिल्म और वेब सीरीज की शूटिंग,खैरागढ़ विश्वविद्यालय बना 1947 के जमाने का महल

रायपुर 21 नवम्बर 2022: छत्तीसगढ़ के शहरों में लाइट कैमरा और एक्शन वाला माहौल देखा जा रहा है। एक बॉलीवुड...

Special News2 weeks ago

फिल्म An Action Hero में जबरदस्त आइटम नंबर करते दिखीं नोरा फ़तेहि

मुंबई 18 नवम्बर 2022: एक्टर आयुष्मान खुराना (Ayushman Khurana) की अपकमिंग थ्रिलर फिल्म ‘एन एक्शन हीरो’ (An Action Hero) के...

Special News2 weeks ago

काफी समय से सुनने में हो रही थी दिक्कत, शख्स ने चेक कराया तो पता चला की 5 साल से फंसा है Earbuds

इंग्लैंड 17 नवम्बर 2022: आज से इस हाईटेक जमाने में हमें कई तरह के सुविधा मिलने लगा है। हेडफोन और...

Special News2 weeks ago

फ्लिपकार्ट ने शुरू की ओपन बॉक्स डिलीवरी, अब नहीं होगी गलत सामान की डिलीवरी

दिल्ली 17 नवम्बर 2022: ऑनलाइन शॉपिंग के बढ़ते क्रेज के बीच कस्टमर्स को डैमेज्ड और गलत प्रोडक्ट्स की डिलिवरी के...

Advertisement

Trending