Connect with us

आस्था

Video : बुद्ध पूर्णिमा के दिन लगा साल का पहला चंद्र ग्रहण, अर्जेंटीना में दिखा अलग नजारा ; ग्रहण के बारे में जानिए हर एक डिटेल और पढ़ें 10 जरूरी बातें

Published

on

Share This Now :

  • चंद्र ग्रहण भारतीय समय के अनुसार सुबह 8:59 बजे से आरंभ हो चुका है जो 10:23 बजे तक रहा। भारत में इस चंद्र ग्रहण का प्रभाव नहीं पड़ेगा।
  • पहला चंद्रगहण वैशाख पूर्णिमा, बुद्ध पूर्णिमा पर विशाखा नक्षत्र और वृश्चिक राशि में लगेगा।

Chandra Grahan : आज साल का पहला चंद्र ग्रहण लगा। यह चंद्र ग्रहण बैशाख शुक्ल की पूर्णिमा तिथि पर लगा है। हालांकि यह ग्रहण भारत में नहीं दिखाई दिया। ग्रहण के अच्छे और बुरे दोनों प्रभाव होते हैं, क्योंकि यह भारत में नहीं दिखेगा इसलिए इस चंद्र ग्रहण का सूतक भारत में मान्य नहीं होगा।

RO-NO-12059/77

11_june
22_june

अर्जेंटीना में दिखा अलग नजारा, देखें वीडियो

साल का पहला चंद्र ग्रहण लगने के बाद दुनिया के कई देशों से इसके अलग-अलग नजारे देखने को मिल रहे हैं। अर्जेंटीना से सबसे पहले एक वीडियो सामने आया है।

ग्रहण खत्म होने पर इन चीजों का करना है जरूरी

चंद्र ग्रहण समाप्त हो गया है, इस बीच आपको क्या करना है इसका पता होना बेहद जरूरी है। जैसे ही ग्रहण खत्म हो तो तुलसी के पौधे समेत पूरे घर में गंगाजल का छिड़काव करें। दूसरी और ग्रहण खत्म होते ही गर्भवती महिला को तुरंत स्नान करना चाहिए।

80 साल बाद चंद्र ग्रहण पर बना ऐसा सहयोग

ज्योतिषाचार्यों की ज्योतिषीय गणना के आधार पर इस बार चंद्र ग्रहण पर ग्रहों और नक्षत्रों का ऐसा संयोग बना है जो पिछले 80 साल पहले बना था। इस बार चंद्र ग्रहण विशाखा नक्षत्र और परिघ योग में बन रहा है। इसके अलावा चंद्र ग्रहण के दौरान गुरू और शनि देव अपनी स्वराशि में मौजूद रहेंगे। यह ग्रहण वैशाख पूर्णिमा, बुद्ध पूर्णिमा, विशाखा नक्षत्र और वृश्चिक राशि में लग रहा है।

Blood Moon- इन राशि वाले लोगों को होगा चंद्र ग्रहण से फायदा

मेष राशि – चंद्रग्रहण के दौरान बनने वाले दो शुभ योग के कारण मेष राशि वालों के लाभ हो सकता है। करियर के लिहाज से यह समय बहुत बेहतर है। धन लाभ के योग बनेंगे। नौकरी पेशा करने वाले जातकों के लिए यह ग्रहण शुभ है। परिवार का कोई विवाद हल हो सकता है।

सिंह राशि – आगामी चंद्रग्रहण पर बनने वाले योग से सिंह राशि वालों को लाभ होगा। नौकरी में प्रमोशन की संभावनाएं हैं। आय के नए साधन बनेंगे। कोई जरूरी काम बन सकता है। वैवाहिक जीवन सुखद रहेगा। शादी-विवाह के प्रस्ताव मिल सकते हैं। धनु राशि – धनु राशि वालों के लिए ग्रहण बेहद लाभकारी है। तरक्की के नए रास्ते खुल सकते हैं। नई नौकरी मिलने के योग बनेंगे। व्यापारियों को धन लाभ हो सकता है। आर्थिक मोर्चे पर भी लाभ होगा। घर के सदस्यों का सहयोग मिलेगा।

Chandra Grahan 2022- जानिए 2022 में कितने लगेंगे चंद्र ग्रहण

साल 2022 में दो चंद्र ग्रहण का योग बन रहा है। 8 नवंबर को साल का अंतिम और दूसरा चंद्र ग्रहण लगेगा।

भारत में चंद्र ग्रहण का सूतक काल मान्य नहीं, जानिए गर्भवती महिलाओं पर ग्रहण का असर

भारत में चंद्र ग्रहण दिखाई नहीं देने के कारण इसका सूतक काल मान्य नहीं होगा। धार्मिक नजरिए से सूतक काल को अशुभ माना जाता है। चंद्र ग्रहण के दौरान सूतक काल का समय ग्रहण के शुरू होने के 9 घंटे पहले लग जाता है। सूतककाल के दौरान किसी भी तरह का शुभ कार्य नहीं किया जाता है ऐसी मान्यताएं पौराणिक काल से चली आ रही है।

ऐसी मान्यता है कि चंद्र ग्रहण या सूर्य ग्रहण पर गर्भवती महिला और उसके गर्भ में पल रहे बच्चे के लिए अपशकुन और नुकसानदेह साबित हो सकता है। ऐसा माना जाता है कि ग्रहण के दौरान सूर्य और चंद्र से निकल रही किरणों से गर्भस्थ शिशु पर नकारात्मक असर पड़ता है और इससे बच्चे में कई तरह की शारीरिक विकृतियां पैदा हो सकती हैं।

जानें कितने तरह का होता है चंद्र ग्रहण

चंद्र ग्रहण एक प्रकार का खगोलीय घटनाक्रम है। सूर्य और चंद्रमा के बीच एक समय ऐसा आता है जब पृथ्वी बीच में आ जाती है तब कुछ देर के लिए ऐसी स्थिति बन जाती है कि चंद्रमा के ऊपर सूर्य की चमक आनी बंद हो जाती है। इससे चंद्रमा दिखाई नहीं पड़ता है, इसे ही चंद्र ग्रहण कहते हैं। चंद्र ग्रहण तीन प्रकार का होता है पूर्ण चंद्र ग्रहण,आंशिक चंद्र ग्रहण और उपछाया चंद्र ग्रहण।

ज्योतिष में चंद्र ग्रहण को अशुभ घटना माना जाता है। इस दौरान पूजा-पाठ व मांगलिक कार्यों की मनाही होती है। यही कारण है कि ग्रहण काल में शुभ व मांगलिक कार्यों की मनाही होती है। इस दौरान मंदिर के कपाट भी बंद कर दिए जाते हैं। चंद्रग्रहण का सभी 12 राशियों पर प्रभाव देखने को मिलेगा।

पढ़ें वैशाख पूर्णिमा या बुद्ध पूर्णिमा के दिन लगने वाले चंद्र ग्रहण से जुड़ी 10 जरूरी बातें-

1. 16 मई को लगने वाले ग्रहण को क्यों कहा जा रहा ब्लड मून- 16 मई को चंद्रमा लाल रंग में नजर आएगा। जिसे ब्लड मून कहा जाता है। वैज्ञानिक व धार्मिक दृष्टि से चंद्रग्रहण अहम घटना होती है। चंद्रग्रहण पर जब चंद्रमा पूर्ण ग्रहण युक्त होता है तो ब्लड मून दिखता है। 

2. किस राशि में लगेगा चंद्र ग्रहण- साल का आखिरी चंद्र ग्रहण वृषभ राशि में लगेगा। वृषभ राशि में राहु का गोचर चल रहा है। इस कारण वृषभ राशि पर ग्रहण का सबसे ज्यादा असर पड़ेगा।

3. चंद्र ग्रहण का समय- हिंदू पंचांग के अनुसार, सोमवार 16 मई 2022 को चंद्र ग्रहण सुबह 08 बजकर 59 मिनट से लेकर 10 बजकर 23 मिनट तक रहेगा।

4. साल का आखिरी व दूसरा चंद्र ग्रहण- 8 नवंबर को साल का आखिरी व दूसरा चंद्र ग्रहण लगेगा। पहले चंद्रग्रहण की तरह ये भी पूर्ण चंद्रग्रहण होगा।

5. बुद्ध पूर्णिमा पर चंद्र ग्रहण- वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को बुद्ध पूर्णिमा कहा जाता है। हिंदू धर्म में बुद्ध पूर्णिमा का विशेष महत्व होता है।

6. सूतक काल- 16 मई लगने वाले चंद्रग्रहण में सूतक काल नहीं लगेगा। भारत में ग्रहण की दृश्यता शून्य होने के कारण देश में सूतक काल मान्य नहीं होगा। 

7. भारत में कहां दिखेगा- भारत में साल का पहला चंद्रग्रहण नजर नहीं आएगा।

8. विदेशों में कहां दिखेगा- 16 मई को लगने वाले चंद्रग्रहण को दक्षिण-पश्चिमी यूरोप, दक्षिण-पश्चिमी एशिया, अफ्रीका, अधिकांश उत्तरी अमेरिका, दक्षिण अमेरिका, प्रशांत महासागर, हिंद महासागर, अटलांटिक और अंटार्कटिका में देखा जा सकेगा।

9.  2022 में कितने लगेंगे चंद्र ग्रहण- साल 2022 में दो चंद्र ग्रहण का योग बन रहा है। 8 नवंबर को साल का अंतिम और दूसरा चंद्र ग्रहण लगेगा।

10. चंद्र ग्रहण कैसे लगता है- चंद्र ग्रहण एक महत्वपूर्ण खगोलीय घटना है। जब चंद्रमा पर पृथ्वी की छाया पड़ने लगती है तो इसी स्थिति को चंद्र ग्रहण कहते हैं। 

Share This Now :
Advertisement

आस्था

रायपुर में रथ पर सवार होकर निकले जगन्नाथ : सीएम भूपेश ने की छेरापहरा की रस्म से जगन्नाथ रथ यात्रा की शुरूआत, राज्यपाल ने गन्नाथ मंदिर में की पूजा-अर्चना

Published

on

Share This Now :

रायपुर : छत्तीसगढ़ के रायपुर में भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा में राज्यपाल अनुसुईया उईके भगवान जगन्नाथ को प्रथम सेवक के रूप में रथ तक लेकर पहुंची। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने गायत्री नगर स्थित जगन्नाथ मंदिर में छेरापहरा की रस्म पूरी कर सोने की झाड़ू से बुहारी लगाकर रथ यात्रा की शुरुआत की।

RO-NO-12059/77

11_june
22_june

इसके पहले मुख्यमंत्री ने यज्ञशाला के अनुष्ठान में सम्मलित हुए और हवन कुण्ड की परिक्रमा कर पूजा-अर्चना की। उन्होंने श्री जगन्नाथ मंदिर में महाप्रभु जगन्नाथ, उनके बड़े भाई बलभद्र और बहन सुभद्रा की आरती की। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने मंदिर में पूजा-अर्चना कर प्रदेशवासियों की सुख, समृद्धि और खुशहाली तथा प्रदेश में अच्छी बारिश की कामना की।

इससे पहले मुख्यमंत्री ने भगवान की आरती उतारी और मंदिर में हवन किया। मुख्यमंत्री का मंदिर में पगड़ी पहनाकर समिति ने स्वागत किया गया था।

राज्यपाल उइके ने रथयात्रा के अवसर पर जगन्नाथ मंदिर में की पूजा-अर्चना

राज्यपाल अनुसुईया उइके ने आज रथ यात्रा के पावन पर्व पर रायपुर के गायत्री नगर स्थित प्रसिद्ध जगन्नाथ मंदिर में भगवान जगन्नाथ जी की विधिवत पूजा-अर्चना और आरती कर देश व प्रदेशवासियों के सुख-समृद्धि और खुशहाली की कामना की। भगवान जगन्नाथ जी के दर्शन उपरांत राज्यपाल सुश्री उइके ने परिसर में स्थित यज्ञस्थल में स्थापित की गई भगवान जगन्नाथ जी, सुभद्रा जी और बलराम जी की मूर्ति पर पुष्पार्पित किया और यज्ञ में पूर्णाहुति दी।

तत्पश्चात् श्रद्धा एवं उत्साह भरे वातावरण में ढोल नगाड़े एवं शंख की मधुर ध्वनि के साथ प्रभु जगन्नाथ, बलभद्र और सुभद्रा की प्रतिमाएं, रथ तक लाई र्गइं। राज्यपाल सुश्री उइके मंदिर परिसर से रथयात्रा के लिए बाहर लाए गए भगवान जगन्नाथ जी की महा आरती में शामिल हुई और रथ खींचकर रथ यात्रा का शुभारंभ किया।

उल्लेखनीय है कि भगवान जगन्नाथ ओडिशा और छत्तीसगढ़ की संस्कृति से समान रूप से जुड़े हुए हैं। रथ-दूज का यह त्यौहार ओडिशा की तरह छत्तीसगढ़ की संस्कृति का भी अभिन्न हिस्सा है। छत्तीसगढ़ के शहरों में आज के दिन भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा निकालने की परंपरा सदियों से चली आ रही है। उत्कल संस्कृति और दक्षिण कोसल की संस्कृति के बीच की यह साझेदारी अटूट है। ऐसी मान्यता है कि भगवान जगन्नाथ का मूल स्थान छत्तीसगढ़ का शिवरीनारायण-तीर्थ है। यहीं से वे जगन्नाथपुरी जाकर स्थापित हुए।

शिवरीनारायण में ही त्रेता युग में प्रभु श्रीराम ने माता शबरी के मीठे बेरों को ग्रहण किया था। यहाँ वर्तमान में नर-नारायण का मंदिर स्थापित है। शिवरीनारायण में सतयुग से ही त्रिवेणी संगम रहा है, जहां महानदी, शिवनाथ और जोंक नदियों का मिलन होता है। छत्तीसगढ़ में भगवान राम के वनवास-काल से संबंधित स्थानों को पर्यटन-तीर्थ के रूप में विकसित करने के लिए शासन ने राम-वन-गमन-परिपथ के विकास की योजना बनाई है। इस योजना में शिवरीनारायण भी शामिल है। शिवरीनारायण के विकास और सौंदर्यीकरण से ओडिशा और छत्तीसगढ़ की सांस्कृतिक साझेदारी और गहरी होगी।

छत्तीसगढ़ में भगवान जगन्नाथ से जुड़ा एक महत्वपूर्ण क्षेत्र देवभोग भी है। भगवान जगन्नाथ शिवरीनारायण से पुरी जाकर स्थापित हो गए, तब भी उनके भोग के लिए चावल देवभोग से ही भेजा जाता रहा। देवभोग के नाम में ही भगवान जगन्नाथ की महिमा समाई हुई है।

जब भगवान आए मंदिर से बाहर

सनातन संस्कृति के जगन्नाथ महाप्रभु ही एक मात्र ऐसे देव हैं जो मंदिर से बाहर आकर लोगों को दर्शन देते हैं। गायत्री नगर जगन्नाथ मंदिर से बाहर जब महाप्रभु को कांधों में लेकर पुजारी सीढ़ियों से उतरे तो ये नजारा विहंगम रहा। मंदिर के गुंबद आसमान भक्तों की भीड़ और भगवान की छटा से नाजारा अलौकिक लगा।

रायपुर में आयोजन समिति ने गायत्री नगर में तीन रथ तैयार करवाए हैं। इसी तरह पुरी में भी रथ यात्रा निकलती है। जिस रथ में जगन्नाथ विराजेंगे उसे ‘नंदीघोष कहा जाता है। भाई बलराम जी के रथ का नाम ‘तालध्वज’ है,बहन सुभद्रा जी ‘दर्पदलन’ रथ पर सवार होती हैं।

यहां भगवान के लिए पुरी से आती है जड़ी बूटियां

मान्यता के मुताबिक गायत्री नगर के जगन्नाथ मंदिर में स्नान पूर्णिमा के बाद से ही बीमार हैं। पिछले करीब 15 दिनों से भगवान जगन्नाथ को काढ़ा दिया जा रहा था। इसके लिए जगन्नाथ पुरी और ओडिशा के नरसिंह नाथ से जड़ी-बूटियां हर साल रायपुर आती हैं। इसी से बने काढ़े का भोग भगवान को लगता है।

Share This Now :
Continue Reading

CORONA VIRUS

रथ और कांवर यात्रा के लिए कोरोना प्रोटोकाल जारी, केंद्र ने CG के CS को लिखा पत्र, कोविड लक्षण वालों को आयोजन में रोकने का निर्देश

Published

on

File Photo
Share This Now :

रायपुर : भारत में रथ यात्रा और सावन की कांवर यात्रा पर कोरोना का खतरा मंडरा रहा है। केंद्र सरकार ने धार्मिक आयोजनों और यात्राओं के दौरान कोरोना संक्रमण फैलने की आशंका व्यक्त की है। इसके लिए राज्य सरकार को जरूरी तैयारी करने का निर्देश दिया गया है। इसके लिए एहतियातन कोरोना के लक्षण वालों को आयोजन से आने से रोकने के भी निर्देश हैं।

RO-NO-12059/77

11_june
22_june

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण ने छत्तीसगढ़ के मुख्य सचिव को एक पत्र भेजा है। इसमें कहा गया है, इस साल की शुरुआत में कोरोना मामलों में उल्लेखनीय कमी देखी गई है। अभी कुछ प्रदेशों और संघ शासित क्षेत्रों में कोरोना के मामले बढ़ते दिख रहे हैं। अगले महीनों में धार्मिक यात्राओं और समारोहों की वजह से भीड़ बढ़ने की संभावना है। इन यात्राओं-समाराेहों के दौरान लाखों लोग राज्य के भीतर और बाहर आएंगे-जाएंगे। इस दौरान वे सैकड़ो किलोमीटर की यात्रा करेंगे। कई जगह रुकेंगे जिसकी व्यवस्था कई स्वयंसेवी और सामाजिक-धार्मिक संगठन करने वाले हैं। ऐसी भीड़ से कोविड-19 जैसे संक्रामक रोगों को फैलने में आसानी हो सकती है। ऐसे में जरूरी हो जाता है कि केंद्र और राज्य सरकार ने आपसी सहयोग से जो पाया है उसे खोया न जाए। संक्रमण के खतरे को कम करने के लिए हमे जरूरी कदम उठाने होंगे।

कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए यह निर्देश

  • जहां ऐसी यात्राएं अथवा बड़े आयोजन होने जा रहे हैं वहां लोगों को बताया जाए कि इसमें भाग लेने के लिए असिम्टेमेटिक और पूरी तरह वैक्सीनेटेड होना होगा। यानी जिसमें कोरोना के लक्षण हों वह आयोजन में भाग नहीं ले सकता। जरूरत पड़े तो बुनियादी और प्रिकॉशनरी टीकाकरण का एक अभियान भी शुरू किया जा सकता है।
  • ऐसे आयोजनों से जुड़े लोग, वॉलंटियर, पुलिस, प्रशासन के लोग, स्वास्थ्य कर्मी और फ्रंटलाइन वर्कर्स को भी बिना लक्षणों के होना और पूरी तरह वैक्सीनेटड होना जरूरी किया जाए।
  • बुजुर्गों, हाइपरटेंशन, डायबिटीज, क्रोनिक लंग, क्राेनिक लीवर, क्रोनिक किडनी की बीमारियों से जूझ रहे लोग अगर ऐसे आयोजन में आना चाह रहे हैं तो उनके लिए एहतियात जरूरी है। उन्हें अपने डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।
  • यात्रा के मार्गों को चिन्हित कर वहां स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएं। आयोजक और जिला स्वास्थ्य विभाग मिलकर जगह-जगह हेल्थ डेस्क बनाए। वहां कोरोना जांच की भी सुविधा हो। गंभीर मरीजों को रिफर करने और उन्हें दूसरे अस्पताल ले जाने की भी व्यवस्था हाे।
  • प्रशासन की ओर से आयोजन से जुड़े लोगों की मदद से कोरोना के बचाव के उपाय और अनुकूल व्यवहार यानी मास्क आदि का उपयोग करते रहने के प्रति जागरुक किया जाए।
  • यह ध्यान रखा जाए कि यात्रा के पड़ावों पर लोगों के ठहरने की सुविधा खुले अथवा हवादार जगह पर हो ताकि संक्रमण की संभावना कम हो।
  • आयोजकों के साथ मिलकर सुनिश्चित किया जाए कि वहां साफ-सफाई के साथ संक्रमण रोकने वाली दवा का छिड़काव भी समय-समय पर होता रहे।
  • राज्य सरकार अपने अस्पतालों, मानव संसाधन, दवाओं और उपकरणों की समीक्षा कर ले।

सामान्य प्रशासन विभाग ने भेजे निर्देश

सामान्य प्रशासन विभाग के सचिव डॉ. कमलप्रीत सिंह ने बुधवार को केंद्रीय सचिव का यह पत्र सभी विभागों के सचिवों, संभाग आयुक्तों, कलेक्टरों और विभागाध्यक्षों को भेजा है। उन्होंने लिखा है कि, आवश्यक कार्यवाही के लिए संबंधित पत्र भेजा जा रहा है। दो दिन पहले ही सामान्य प्रशासन विभाग ने प्रदेश के सभी हवाई अड्‌डो और अंतरराज्यीय चेक पोस्ट पर कोरोना जांच के आदेश जारी किए थे।

Share This Now :
Continue Reading

Special News

विश्व रिकार्ड : सीएम भूपेश ने दंतेश्वरी माईं को अर्पित किया 11 किमी लंबी चुनरी ; इसके पहले नर्मदा मैया को 8 किमी लंबी चुनरी ओढ़ाई गई थी

Published

on

Share This Now :

दंतेवाड़ा शहर में उत्सव सा माहौल, 11 किमी लंबी चुनरी को अर्पित करने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के साथ आया शहर का पूरा नागरिक समूह। इसके पहले नर्मदा मैया को मंदसौर में 8 किमी लंबी चुनरी ओढ़ाई गई थी।


दंतेवाड़ा : माँ दंतेश्वरी का दर्शन कर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने उन्हें ग्यारह किमी लंबी चुनरी ओढ़ाई और इस तरह से दंतेवाड़ा की डेनेक्स की बहनों का नाम विश्व रिकार्ड में दर्ज हो गया। इससे पहले नर्मदा मैया को मंदसौर में 8 किमी लंबी चुनरी ओढ़ाई गई थी। डेनेक्स की 300 महिलाओं ने केवल 7 दिनों में अपने हुनर से यह कार्य कर लिया। जब मुख्यमंत्री अपने हाथों से चुनरी अर्पित करने पहुंचे तो पूरे दंतेवाड़ा शहर में उत्सव सा माहौल था।

RO-NO-12059/77

11_june
22_june

पूरा शहर इस सुंदर दृश्य को देखने उमड़ आया था। ग्यारह किमी लंबी इस चुनरी के साथ मुख्यमंत्री के नेतृत्व में नागरिकों के गहरे उत्साह की जो झलक मिल रही थी। वो अपने आप में अद्भुत है। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर मंदिर में पूजा अर्चना की और प्रदेश की खुशहाली की कामना की। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने मंदिर परिसर में मावली माता और भैरव जी के दर्शन भी किये।

इस दौरान मंदिर परिसर में पारंपरिक वाद्ययंत्रों की सुमधुर ध्वनि से पूरा वातावरण आध्यात्मिक रंग में रंग गया था। जिला प्रशासन के अधिकारियों ने बताया कि डेनेक्स की महिलाओं ने जो चुनरी बनाई है उससे उनके हुनर को पूरे देश में जगह मिलेगी और इससे उनके काम की ख्याति दुनिया भर में फैलेगी।

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर मंदिर के पुजारियों से भी संवाद किया। उन्होंने कहा कि हम प्रदेशवासी बहुत सौभाग्यशाली हैं कि हमें माईं दंतेश्वरी का निरंतर आशीर्वाद और उनकी छत्रछाया मिल रही है।

Share This Now :
Continue Reading

RO-NO-12059/77

RO-NO-12059/77

Advertisement

Advertisement

Advertisement Sahni Amritsari Kulche

Chhattisgarh Trending News

राज्य एवं शहर1 hour ago

छत्तीसगढ़ : दुर्ग नगर निगम के नेता प्रतिपक्ष के भतीजे की नर्मदा नदी में डूबने से मौत 

दुर्ग : दुर्ग नगर निगम में नेता प्रतिपक्ष अजय वर्मा के भतीजे अविनाश वर्मा (30) की नदी में डूबने से...

बॉलीवुड तड़का - Entertainment17 hours ago

छॉलीट्यूब अवॉर्ड : सुपरहिट छत्तीसगढ़ी गीत “मोहिनी” को बेस्ट एल्बम सहित मिला 3 अवार्ड ; तोशांत-मोनिका को बेस्ट सिंगर

रायपुर : मशहूर छत्तीसगढ़ी गीत “मोहिनी” को लोगों का ढेर सारा प्यार मिल रहा है। एक के बाद एक अवार्ड...

क्राइम18 hours ago

CG : दंतेवाड़ा की रहने वाली Ex Roadies कंटेस्टेंट निहारिका तिवारी को जान से मारने की धमकी ; भिलाई के युवक को भी मिली थी धमकी, 2 गिरफ्तार

रायपुर, जगदलपुर, दुर्ग : छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा की निहारिका तिवारी को जान से मरने की धमकी मिली हैं। मशहूर रियलिटी...

राजनीति21 hours ago

CG : नहीं रहें कांग्रेस के पूर्व विधायक भजन सिंह निरंकारी, भिलाई में 78 साल की उम्र में ली अंतिम सांस ; CM बघेल ने जताया दुख 

रायपुर : छत्तीसगढ़ के भिलाई में कांग्रेस के पूर्व विधायक भजन सिंह निरंकारी का निधन हो गया है। हार्ट अटैक आने...

CORONA VIRUS22 hours ago

छत्तीसगढ़ में 161 नए कोरोना मरीजों की पुष्टि, 104 रिकवरी, एक्टिव केस 1040 ; रायपुर में 266 और दुर्ग 204 सक्रिय मामले

रायपुर : छत्तीसगढ़ मे आज कोरोना के 161 नए मरीज़ मिले हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी मेडिकल बुलेटिन के अनुसार...

Advertisement

CONNECT WITH US :

राज्य एवं शहर1 hour ago

छत्तीसगढ़ : दुर्ग नगर निगम के नेता प्रतिपक्ष के भतीजे की नर्मदा नदी में डूबने से मौत 

CORONA VIRUS8 hours ago

भारत में बीते दिन कोरोना के 16 हजार से ज्यादा नए केस हुए दर्ज, एक्टिव केस 1 लाख 11 हजार के पार, 31 लोगों की मौत

ज्योतिष9 hours ago

राशिफल 3 जुलाई : आज इन राशि वालों को मिलेगा भाग्य का पूरा साथ, दुश्मनों से मिलेगा छुटकारा

बॉलीवुड तड़का - Entertainment17 hours ago

छॉलीट्यूब अवॉर्ड : सुपरहिट छत्तीसगढ़ी गीत “मोहिनी” को बेस्ट एल्बम सहित मिला 3 अवार्ड ; तोशांत-मोनिका को बेस्ट सिंगर

क्राइम18 hours ago

CG : दंतेवाड़ा की रहने वाली Ex Roadies कंटेस्टेंट निहारिका तिवारी को जान से मारने की धमकी ; भिलाई के युवक को भी मिली थी धमकी, 2 गिरफ्तार

Special News5 days ago

777 Charlie Review : कलयुग के ‘धर्मराज’ की रुला देने वाली कहानी ; श्वान और इंसान के बीच अनोखा रिश्ता समझाएगा ये फिल्म ; देखिए ट्रेलर

CORONA VIRUS6 days ago

CG में 125 नए कोरोना के मामले मिले, 64 हुए ठीक, एक्टिव केस 757 ; रायपुर में 207 सक्रिय ; देखिए जिलेवार आंकड़ा 

क्राइम5 days ago

नूपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट लिखने वाले शख्स की दिनदहाड़े हत्या ; हमलावरों ने जारी किए वीडियो, उदयपुर में तनाव ; 24 घंटे के लिए इंटरनेट बंद

क्राइम3 days ago

CG BREAKING : दुर्ग जिले में परिवार के 4 लोगों की मौत ;  पिता ने दो बच्चे और पत्नी की हत्या कर खुद को लगाया फांसी

Country News Today Exclusive3 days ago

दिल्ली : मोतीलाल नेहरू कॉलेज के Enactus ने प्रोजेक्ट DESI के तहत, 1200 से ज्यादा श्वानों का नसबंदी और टीकाकरण कराया ; पढ़िए CNT के साथ उनकी खाश बातचीत

Special News5 days ago

777 Charlie Review : कलयुग के ‘धर्मराज’ की रुला देने वाली कहानी ; श्वान और इंसान के बीच अनोखा रिश्ता समझाएगा ये फिल्म ; देखिए ट्रेलर

देश-विदेश1 week ago

वायरल वीडियो : अयोध्या के सरयू नदी में स्नान के दौरान पत्नी को किस करना पड़ा भारी, गुस्साए लोगों ने पति को खूब पीटा 

देश-विदेश3 weeks ago

दिल्ली में कांग्रेस के बड़े नेताओं के साथ CM भूपेश और MLA विकास भी गिरफ्तार ; ट्वीट कर कहा-हम सब याद रखेंगे ; देखिए वीडियो

राजनीति1 month ago

कर्नाटक मे प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान किसान नेता राकेश टिकैत पर फेंकी गई स्याही ; ‘यह साजिश थी, जांच होनी चाहिए’

IPL1 month ago

IPL 2022 Final : गुजरात टाइटंस ने डेब्यू सीजन में रचा इतिहास, राजस्थान रॉयल्स को 7 विकेट से हराकर जीता टाइटल

Top 10 News

Must Read

Special News5 days ago

777 Charlie Review : कलयुग के ‘धर्मराज’ की रुला देने वाली कहानी ; श्वान और इंसान के बीच अनोखा रिश्ता समझाएगा ये फिल्म ; देखिए ट्रेलर

Entertainment Desk : जानवरों और इंसानों के रिश्तों पर फिल्में बनाने में दक्षिण भारतीय फिल्म कंपनी देवर फिल्म्स का बोलबाला...

Special News1 week ago

छत्तीसगढ़ : दुर्ग में DIAL 112 में गूंजी किलकारी ; वाहन में महिला ने बच्चे को दिया जन्म ; जच्चा बच्चा दोनों स्वस्थ

दुर्ग  : छत्तीसगढ़ पुलिस की DIAL 112 सेवा ने फिर एक बार पीड़ित की जान बचाई हैं। जामुल निवासी महिला...

Special News1 week ago

CG : स्वस्थ हुआ राहुल, जांजगीर-चांपा के कलेक्टर और SP खुद लेने पहुंचे बिलासपुर ; 100 घंटे से ज्यादा 60 फीट गहरे बोरवेल में फंसा था बच्चा

बिलासपुर, जांजगीर-चांपा : छत्तीसगढ़ के जांजगीर-चांपा जिले के पिहरीद गांव में 100 घंटे से ज्यादा 60 फीट गहरे बोरवेल के...

Special News1 week ago

रायगढ़ में खुलेगा संगीत एवं नृत्य महाविद्यालय ; छत्तीसगढ़ संस्कृति परिषद के 127 आयोजनों के लिए 4.93 करोड़ रूपए स्वीकृत

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी पर केन्द्रित सभी संभागीय मुख्यालयों में आयोजित होंगे कार्यक्रम मुख्यमंत्री ने कहा- घर-घर में शिल्प कलाओं की...

Special News1 week ago

छत्तीसगढ़ राज्य का भुइयां कार्यक्रम को राष्ट्रीय स्तर पर मिला पुरस्कार : प्रतिष्ठित IMC डिजिटल अवार्ड्स 2021 से किया गया सम्मानित

रायपुर : छत्तीसगढ़ में संचालित भुइयां कार्यक्रम को राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कार मिला है। छत्तीसगढ़ में कार्यालय आयुक्त भू-अभिलेख द्वारा...

Advertisement
Advertisement

Trending